Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »States »Delhi» Taxmen Attach Benami Property Linked To Delhi Health Minister Satyendar Jain

    I-T ने दिल्‍ली के हेल्‍थ मिनिस्‍टर से जुड़ी संपत्ति जब्‍त की, 100 बीघा जमीन और कंपनियों के शेयर शामिल

    I-T ने दिल्‍ली के हेल्‍थ मिनिस्‍टर से जुड़ी संपत्ति जब्‍त की, 100 बीघा जमीन और कंपनियों के शेयर शामिल
     
    नई दिल्‍ली। इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने दिल्‍ली में 100 बीघा से अधिक जमीन और कई कंपनियों के शेयरों को जब्‍त किया है। इन्‍हें कथित तौर पर दिल्‍ली के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सतेंद्र जैन से जुड़ा बताया जा रहा है। हालांकि जैन ने इन आरोपों का खंडन किया है।
     
    टैक्‍स डिपार्टमेंट ने लगाया 4 फर्म्‍स का पता  
     
    आईटी डिपार्टमेंट ने पिछले हफ्ते ही नए बेनामी प्रॉपर्टी ट्रांजैक्‍शन एक्‍ट,1988 के तहत ऑर्डर जारी किया था। डिपार्टमेंट ने दावा किया है कि उसने चार ऐसी फर्म्‍स का पता लगाया है, जिन्‍होंने शेयर कैपिटल के तौर पर बोगस एंट्री दिखाई और गैरकानूनी तरीके से संपत्ति खरीदी। आईटी डिपार्टमेंट का आरोप है कि इन फर्म्‍स की तरफ से 2010-2016 के बीच 13.68 करोड़ रुपए की एंट्री की गईं। इस दौरान इन कंपनियों की तरफ से कोई भी बिजनेस एक्टिविटी नहीं हुई। ऐसे में इतने बड़े स्‍तर पर शेयर कैपिटल और शेयर प्रीमियम के तौर पर फंडिंग हासिल करना संभव नहीं था।
     
    दिल्‍ली में खरीदी गई सैकड़ों बीगा जमीन
     
    आई-टी का आरोप है कि इन चार फर्म्‍स की तरफ से दिल्‍ली और उसके नजदीकी इलाकों में सैकड़ों बीगा जमीन खरीदी गई। डिपार्टमेंट ने इन फर्म्‍स के खिलाफ नए बेनामी कानून के तहत जांच शुरू कर दी है। इस नए कानून के तहत बेनामी प्रॉपर्टी साबित होने पर 7 साल की सजा और जुर्माना वसूलने का प्रावधान है।
     
    जैन ने आरोपों का खंडन किया
     
    इस मामले में अपना नाम घसीटे जाने से नाराज दिल्‍ली के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने एक बयान जारी कर इन आरोपों का खंडन किया है। उन्‍होंने कहा कि उनकी छवि खराब करने के मकसद से उनका नाम इसमें घसीटा जा रहा है। जैन ने कहा कि अपनी इनकम को लेकर वह किसी भी तरह की जांच से डरते नहीं हैं। मैंने अपनी मेहनत से अपनी इनकम हासिल की है। मैं सालों से टैक्‍स भर रहा हूं। मैं मेरी इनकम को लेकर किसी भी तरह की जांच से डरने वाला नहीं हूं और न ही किसी राजनीतिक षड़्यंत्र से ही डरता हूं।
     
    ‘कंपनियों से दे चुका हूं इस्‍तीफा’
     
    जैन ने आगे कहा कि मैं पिछले 25 साल प्रोफेशनल आर्किटेक्‍ट रहा। इस दौरान मैंने 2007 और 2012 में कुछ प्राइवेट कंपनियों में 51 लाख रुपए इन्‍वेस्‍ट किए थे। उन्‍होंने बताया कि किसी भी तरह के विवाद से बचने के लिए उन्‍होंने 2013 में आम आदमी का टिकट मिलते ही इन कंपनियों के बोर्ड से इस्‍तीफा दे दिया था। जैन ने साफ किया कि 31 जुलाई,2013 के बाद वह किसी भी कंपनी से नहीं जुड़े हैं। उन्‍होंने इस पर हैरानी जताई कि आखिर कोई कैसे उनका नाम इस मामले में घसीट सकता है।

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY