बिज़नेस न्यूज़ » States » Delhiएशिया की टॉप 5 करंसी में भारत का रुपया, चीन के युआन को पछाड़ा

एशिया की टॉप 5 करंसी में भारत का रुपया, चीन के युआन को पछाड़ा

ग्‍लोबल इकोनॉमी में अनिश्चितता के बावजूद चालू फाइनेंशियल ईयर 2015-16 में रुपए की स्थिति अन्य एशियाई करंसी के मुकाबले मजबूत है।

1 of
 
नई दिल्ली। ग्‍लोबल इकोनॉमी में अनिश्चितता के बावजूद चालू फाइनेंशियल ईयर 2015-16 में रुपए की स्थिति अन्य एशियाई करंसी के मुकाबले मजबूत है। रुपए के मुकाबले चीन की करंसी युआन की स्थिति खराब रही है। इससे फॉरेन एक्सचेंज मार्केट में भारतीय रिजर्व बैंक और वित्त मंत्रालय के मैनेजमेंट की बेहतर इमेज बनी है। ब्‍लूमबर्ग के अनुसार, भारतीय रुपए को एशियाई मार्केट में चौथा स्‍थान मिला है। आइए जाने कौन सी एशियाई करंसी रही टॉप पर..
 
 
इंडोनेशिया का रुपया
 
इंडोनेशिया का रुपया एशिया की करंसी में टॉप पर है। यह करंसी बीते साल अन्य एशियाई देशों के मुकाबले मजबूत रही। फिलहाल 1  भारतीय रुपया 198.66 इंडोनेशियन रुपए के बराबर है।
 
अगली स्लाइड में जानें- जापान और सिंगापुर की करंसी के बारे में
 
जापान का येन
 
जापान को एशिया के एक मात्र विकसित देश के रूप में  जाना जाता है। जापानी येन एशियाई करंसी में इस साल दूसरे नंबर पर रहा। बीते एक साल में जापान की करंसी काफी मजबूत रही है। यहां 1 भारतीय रुपया 1.70 जापानी येन के बराबर है।
 
सिंगापुर का डॉलर
 
जापानी येन के बाद सिंगापुर का डॉलर तीसरे नबंर पर है। भारतीयों को एक 1 सिंगापुर डॉलर खरीदने के लिए 48.71 रुपए देने होते हैं। 
 
अगली स्लाइड में जानें- भारत के रुपए के बारे में.. 
 
भारत का रुपया
 
भारत का रुपया एशियाई करंसी में चौथे स्थान पर रहा। ब्‍लूमबर्ग के अनुसार, रुपए को प्रतिस्पर्धी बनाए रखना का सारा क्रेडिट आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन को जाता है। राजन ने अनिश्चितता के दौर में भी मजबूत स्थिति कायम रखी। एक्सचेंज रेट के लिए 2013 सबसे अस्थिरता वाला साल रहा है, जब तत्कालीन वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के नेतृत्व में रुपए और डॉलर के बीच 59-60 का अंतर था। उस साल सितंबर में ही रघुराम राजन के कार्यभार संभालने के बाद रिजर्व बैंक ने जनवरी 2018 तक इन्‍फ्लेशन को 4 फीसदी पर लाने का लक्ष्य तय किया था।
 
अगली स्लाइड में जानें- चीन के युआन के बारे में..
 
चीन के युआन ने रुपए के मुकाबले कम दिया रिटर्न
 
ब्लूमबर्ग के डेटा के अनुसार, 2015-16 में रुपए ने 1.04 फीसदी का कुल रिटर्न हासिल किया। वहीं, युआन ने 0.24 फीसदी का रिटर्न हासिल किया। भारतीयों को 1 चाइनीज युआन खरीदने के लिए 10.26 रुपए चुकाने होंगे। रिटर्न के मामले में भारतीय रुपए ने चीन के युआन को पीछे छोड़ा है। करंसी के कुल रिटर्न में स्पॉट एक्सचेंज रेट और इंटरेस्ट इनकम शामिल हैं। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट