Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »States »Delhi» Heated Exchanges Between Jaitley And Jethmalani In HC

    अपमान की भी सीमा होती है : जेटली; कोर्ट में फिर हुई जेठमलानी से तीखी बहस

    अपमान की भी सीमा होती है : जेटली; कोर्ट में फिर हुई जेठमलानी से तीखी बहस
    नई दिल्‍ली।फाइनें‍स मिनिस्‍टर अरुण जेटली और सीनियर एडवोकेट राम जेठमलानी के बीच बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट में तीखी बहस हुई। यह बहस दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मानहानि के मामले में जेटली से जिरह के दौरान हुई।
     
    भावुक हुए जेटली
     
    जिरह के दौरान जेठमलानी ने अरुण जेटली के बारे में आपत्तिजनक शब्‍द का इस्‍तेमाल किया। इसके बाद भावुक जेटली ने जेठमलानी पर अपमान करने का आरोप लगाया। गुस्‍से में जेटली ने मानहानि की राशि बढ़ाने की भी धमकी दे दी। इस बहस के बाद जेटली का बयान दर्ज नहीं हो सका।
     
    जेटली बोले,मानहानि के दावे को बढ़ा दूंगा
     
    ज्‍वाइंट रजिस्ट्रार दीपाली शर्मा की कोर्ट में उपस्थित जेटली ने गुस्‍से में जेठमलानी से पूछा कि क्या केजरीवाल से निर्देश लेकर उनके खिलाफ इस शब्द का इस्तेमाल किया गया। जेटली ने आगे कहा, ‘अगर ऐसा है तो मैं केजरीवाल के खिलाफ आरोपों और मानहानि के दावे को बढ़ा दूंगा।’ उन्होंने कहा कि निजी दुश्‍मनी की भी एक सीमा है। जेटली के वकील राजीव नायर और संदीप सेठी ने भी कहा कि जेठमलानी अपमानजनक सवाल कर रहे हैं और उन्हें इस तरह के सवाल नहीं पूछने चाहिए। उन्‍होंने कहा कि यह मामला अरुण जेटली बनाम अरविंद केजरीवाल है न कि जेठमलानी बनाम जेटली।’
     
    जेटली दावे के हकदार नहीं
     
    वहीं गुस्‍से में जेठमलानी ने भी कहा कि हां, उन्होंने आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल केजरीवाल के निर्देश पर किया है। आप नेताओं का बचाव कर रहे जेठमलानी ने यह भी कहा कि जेटली अपने कथित मानहानि के लिए 10 करोड़ रुपए के दावे के हकदार नहीं हैं।
     
    यह है मामला
     
    जेटली ने केजरीवाल और पांच अन्य आप नेताओं राघव चड्ढा, कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह और दीपक बाजपेयी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कर मानहानि के बदले 10 करोड़ रुपए की मांग की थी। इन नेताओं ने साल 2000 से 2013 तक डीडीसीए का अध्यक्ष रहने के दौरान जेटली पर वित्तीय अनियमितताएं करने का आरोप लगाया था।

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY