बिज़नेस न्यूज़ » States » DelhiLIC के नाम पर हो रहा फ्रॉड, कंपनी ने बताया बचने का तरीका

LIC के नाम पर हो रहा फ्रॉड, कंपनी ने बताया बचने का तरीका

सरकार ने अन्‍य सेवाओं की तरह इंश्‍याेरेंस पॉलिसी को भी आधार से जोड़ना जरूरी बना दिया है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. सरकार ने अन्‍य सेवाओं की तरह इंश्‍याेरेंस पॉलिसी को भी आधार से जोड़ना जरूरी बना दिया है। लेकिन इस योजना का कुछ गलत लोग फायदा उठाना चाह रहे हैं। यह बीमा कंपनियों के नाम पर लोगों को SMS भेज रहे हैं और उनसे आधार की जानकारी मांग रहे हैं। जो लोग इन SMS का जवाब दे रहे हैं उनकी बीमा और आधार की जानकारी गलत लोगों के पास जा रही है।

 

आखिर LIC ने क्‍यों जारी की चेतावनी

LIC ने अपने पॉलिसीधारकों को सावधान करते हुए कहा है कि वह किसी को अपने आधार की जानकारी न दें। LIC का कहना है कि उसे ऐसी जानकारी मिली है कि लोग बीमा के साथ आधार को लिंक कराने के नाम पर SMS के माध्‍यम से आधार की जानकारी मांग रहे हैं, जबकि कंपनी न तो अपने बीमाधारकों से ऐसी जानकारी मांगी है न ही ऐसा कोई सिस्‍टम बनाया है। LIC का कहना है कि उसकी जानकारी में आया है कि सोशल मीडिया में ऐसी बातें चल रहीं हैं, जिसमें LIC का नाम और उसके लोगो का इस्‍तेमाल किया जा रहा है। इसमें बीमा पालिसी को अाधार से लिंक कराने के लिए SMS पर जानकारी मांगी जा रही है। देश की सबसे बड़ी बीम कंपनी ने कहा है कि LIC ऐसे मैसेज किसी को नहीं भेज रही है। इसके अलावा न ही ऐसी कोई ऑनलाइन सुविधा तैयार की गई है।

 

आगे पढ़ें :  बीमा को आधार से लिंक कराने का क्‍या है आदेश

 

 

 

ऐसी सूचना LIC वेबसाइट पर देगी

LIC ने कहा है कि आधार को बीमा पॉलिसी से लिंक कराने की जब भी ऑनलानइ या किसी अन्‍य तरीके से दी जाएगी तो उसकी जानकारी वेबसाइट पर अपडेट की जाएगी। फिलहाल ऐसी कोई सुविधा नहीं दी जा रही है। बीमा नियामक प्राधिकरण ने सभी बीमा पॉलिसी को आधार से लिंक कराने का आदेश दिया है। इसके लिए सभी बीमा कंपनियों को निर्देश दिया गया है कि वह इस काम को समय से पूरा करें।

 

इरडा़ ने जारी किया निर्देश

इंश्‍योरेंस नियामक प्राधिकरण इरडा ने सभी बीमा कंपनियों से कहा है कि वह तुरंत पॉलिसियों को आधार से जोड़ने की कार्रवाई शुरू करें। इसमें लाइफ और जनरल इंश्‍यारेंस दोनों तरह की पॉलिसियां शामिल हैं। यह आदेश प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉड्रिंग एक्‍ट के तहत जारी किया गया है। इसके अलावा पेन को भी अपडेट कराया जाना है। इरडा ने कहा है कि जिनके पास पेन न हो वह फार्म 60/61 जमा कर सकते हैं। देश में इस वक्‍त 24 लाइफ और 33 नॉन लाइफ बीमा कंपनियां काम कर रही हैं, जिन्‍होंने करोड़ा पॉलिसी जारी की हैं।

 

आगे पढ़ें : अन्‍य कंपनियों के लोग बचें ऐसे फर्जी SMS से

 

 

बीमा कंपनियां देती हैं ऐसी सुविधा वेबसाइट पर

अगर आधार को पॉलिसी से लिंक कराने का मैसेज मिले तो सीधे उस पर भरोसा करने की जगह पहले संबंधित बीमा कंपनी की वेबसाइट पर जाएं। अगर यह सुविधा कंपनी दे रही होगी तो उसने इसकी जानकारी अपनी वेबसाइट पर भी दे रखी होगी। अगर ऐसी जानकारी वहां पर है तो उसे पढ़े और उसी हिसाब से कार्रवाई करें। बिना ऐसे आधार और बीमा पॉलिसी की जानकारी देना घातक हो सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट