Home » States » Delhiआरकॉम के खिलाफ चाइना डेवेलपमेंट बैंक ने एनसीएलटी केस दर्ज किया

अब अंबानी की कंपनी के पीछे पड़ा चीन, अरबों का है खेल

चीन, किसी दूसरे देश या फिर वहां की कंपनियों को परेशान करने में शुमार है।

1 of

नई दिल्‍ली। चीन, किसी दूसरे देश या फिर वहां की कंपनियों को परेशान करने में शुमार है। अगर उसके हाथ में कोई ऐसा मौका लगता है तो उसे भुनाने में बेहद दिलचस्‍पी दिखाता है। ऐसी ही दिलचस्‍पी वह इन दिनों रिलायंस कम्‍युनिकेशन के मालिक अनिल अंबानी में दिखा रहा है। दरअसल, पिछले कुछ समय से चीन की दिग्‍गज बैंक,  चाइना डेवेलपमेंट बैंक (CDB) ने अनिल अंबानी की कंपनी आर- कॉम के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। यही नहीं, अब CDB ने आर-कॉम के खिलाफ केस भी दर्ज करा दिया है। तो आइए, जानते हैं क्‍या है पूरा मामला। आगे पढ़ें - क्‍या है मामला

 
 

 

 

 

9000 करोड़ रुपए का कर्ज

 

दरअसल, चाइना डेवेलपमेंट बैंक (CDB) ने रिलायंस कम्‍युनिकेशन के खिलाफ इनसॉल्वेंसी  का केस दर्ज कराया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अनिल अंबानी की कंपनी आर-कॉम को CDB के 9000 करोड़ रुपए का कर्ज चुकाना था। कंपनी कर्ज चुकाने में नाकाम रही, इसीलिए CDB ने यह मामला दर्ज कराया है। आगे पढ़ें - पहली बार हुआ ऐसा

NCLT करेगी सुनवाई

 

CDB पहली ऐसी लेंडर है, जिसने आर-कॉम के खिलाफ इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी (IBC) के तहत ऐसा कदम उठाया है। रिपोर्ट के मुताबिक CDB के इस मामले की सुनवाई नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (NCLT) जल्‍द कर सकता है। शुक्रवार को ही बैंक ने NCLT के मुंबई बेंच में पिटीशन दायर की थी।

 
 

क्‍या है IBC कानून

इस कानून का उद्देश्य दिवालिया होने की कगार पर खड़ी कंपनियों से बैंकों, इन्वेस्टर्स का पैसा निकालना है। मई 2016 में मोदी सरकार ने इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी कानून को संसद से पास कराया था।

आगे पढ़ें - CDB ने पहले भी डाला है अड़ंगा

एयरसेल से मर्जर पर भी थी आपत्ति

 

चाइना डेवेलपमेंट बैंक ने आरकॉम और एयरसेल के मर्जर को लेकर भी आपत्ति जताई थी। CDB ने नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल में एक याचिका दायर कर तब लोन चुकाने की शर्तों पर बातचीत करने के लिए मर्जर से पहले दोनों कंपनियों के साथ लेंडर्स की मीटिंग आयोजित करने की मांग की थी। हालांकि बाद में दोनों कंपनियों का मर्जर नहीं हुआ। यहां बता दें कि आर-कॉम पर 45 हजार करोड़ का कर्ज है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट