Home » States » DelhiKeep eye on these devices electricity bill will be half

बिजली का बिल आधा कर देंगे ये 5 उपकरण

गर्मी में घरों में कई बिजली के उपकरणों का इस्‍तेमाल ज्‍यादा होने लगता है। इसके चलते बिजली का बिल काफी बढ़ जाता है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. गर्मी में घरों में कई बिजली के उपकरणों का इस्‍तेमाल ज्‍यादा होने लगता है। इसके चलते बिजली का बिल काफी बढ़ जाता है। लेकिन अगर इन उपकरणों पर नजर रखी जाए तो बिजली के बिल को सीमित किया जा सकता है। अगर इनकी जगह पर 5 स्‍टार रेटिंग वाले उपकरणों का इस्‍तेमाल किया जाए तो घरों का बिजली का बिल आधा तक हो सकता है।

 

 

सबसे ज्‍यादा बिजली खर्च करता है AC

घर का बिजली बिल सबसे ज्‍यादा AC से ही बढ़ता है। इसलिए सही AC का चुनाव बहुत ही जरूरी है। घर में बिजली का जितना भी बिल आता है, उसका आधा हिस्‍सा AC का ही होता है। अगर घर में 1.5 टन का AC है और रोज औसतन 8 घंटे चलाता हैं तो 1 स्टार रेटिंग का AC करीब 9 यूनिट से ज्‍यादा बिजली की खपत करता है। वहीं अगर 5 स्‍टार रेटिंग का एसी हो तो यह लगभग 7 यूनिट की खपत करेगा। यानी रोज करीब 2 यूनिट बिजली की बचत। ऐसे में अगर पुराने एसी को 5 स्‍टार रेटिंग के एसी से बदला जाए तो साल में करीब 700 यूनिट से ज्‍यादा की बिजली की बचत की जा सकती है। अगर 6 रुपए यूनिट के ही हिसाब से इसे जोड़ा जाए तो 5600 रुपए की सालाना बचत हो सकती है। हालांकि AC को यहां पर 8 घंटे चलाने के हिसाब से गणना की गई है, लेकिन आमतौर पर देखा जाता है कि घरों में AC 12 से 15 घंटे चलता है। ऐसे में बिजली की काफी बचत की जा सकती है।

 

 

कूलर से बचा सकते हैं बिजली
गर्मियों में कूलर का बहुत इस्‍तेमाल होता है। कूलर में पंखे के अलावा पानी को चढ़ाने के लिए पम्‍प का इस्‍तेमाल होता है। दोनों उपकरण बिजली की खपत करते हैं। जहां सामान्‍य 200 वॉट की मोटर वाले कूलर पम्‍प के साथ अगर रोज 12 घंटे चलाया जाए तो महीने भर में करीब 100 यूनिट बिजली की खपत करता है। लेकिन अगर इसकी जगह आधुनिक तकनीक की मोटर और पम्‍प वाला विंडों कूलर इस्‍तेमाल किया जाए तो रोज 12 घंटे इसे चलाने में महीने भर में करीब 60 यूनिट की ही खपत होगी। इस प्रकार महीने भर में 40 यूनिट बिजली की बचत आसानी से हो सकती है। AC की तुलना में हालांकि कूलर काफी कम बिजली खर्च करते हैं। जहां एक टन का AC एक घंटे में करीब 0.8 यूनिट बिजली खर्च करता है, वहीं 1.5 टन का AC करीब 1.2 से 1.3 यूनिट बिजली खर्च करता है, लेकिन इनकी जगह पर अगर उसी कमरे की जरूरत के हिसाब से कूलर इस्‍तेमाल किया जाए तो यह प्रति घंटे 0.1 से लेकर 0.12 यूनिट तक बिजली की खतप करेगा। 

 

 

कूलर ज्‍यादा बिजली तो नहीं खर्च कर 
बिजली के 100 वॉट का उपकरण अगर 10 घंटे चलाया जाए तो 1 यूनिट बिजली खर्च करता है। ऐसे में अपने कूलर का फंखा और पानी की मोटर का वॉट देखें, फिर गणना करके जानें कि यह कूलर एक यूनिट बिजली कितनी देर चलने पर खर्च करेगा। अगर इसके हिसाब से कूलर बिजली का ज्‍यादा खर्च कर रहा है तो इसे या तो सही करवाएं या नया अच्‍छा कूलर लाएं, जिससे काफी बिजली की बचत होगी। 

 

 

पंखे का सही चयन बचाएगा हर महीने 50 यूनिट से ज्‍यादा बिजली

गर्मियों में पंखों का चलना काफी बढ़ जाता है। इनका भी अगर समझदारी से चुनाव किया जाए तो बिजली का बिल घटाया जा सकता है। आम तौर पर घरों में 75 वॉट के पंखे का इस्‍तेमाल किया जाता है। लेकिन बाजार में BLDC  (ब्रशलेस डायरेक्ट करंट मोटर्स) तकनीक के स्‍टार रेटिंग वाले पंखे आ गए हैं। कंपनियों का दावा है कि यह पंखे बिजली की खपत को आधा तक कर देते हैं।

 

ऐसे घटेगी बिजली की खपत

 

पंखे की मोटर की  वॉट में क्षमता

बिजली की खपत

75 वॉट का पंखा
112.5 यूनिट
32 वॉट का पंखा    
60 यूनिट

    

 
नोट : हर महीने 52.5 यूनिट की बचत
– रोज 5 पंखों का 10 घंटे तक इस्‍तेमाल होने पर महीने भर में बिजली की खपत का आंकड़ा

 

 

रोशनी के लिए बल्‍ब की जगह एलईडी के इस्‍तेमाल से बचेगी बिजली

घर में रोशनी करने के लिए आमतौर बल्‍ब या ट्यूब लाइट तक का इस्‍तेमाल किया जाता है। लेकिन इस ओर कम ही ध्‍यान जाता है कि इनमें कितनी बिजली की खपत होती है। अगर बल्‍ब की जगह LED का इस्‍तेमाल किया जाए तो हर माह 158 यूनिट तक बिजली की बचत हो सकती है। सरकार की योजनाओं के तहत LED अब 80 रुपए से भी कम पर उपलब्‍ध हैं।
 
समान रोशनी  (Lumens 890)  के लिए कितने वॉट का उपकरण करें इस्‍तेमाल

 

लाइट का उपकरण

बिजली की खपत

बल्‍व  60 वॉट
180 यूनिट
ट्यूब लाइट 40 वॉट
102 यूनिट
सीएफएल 15 वॉट
45 यूनिट
एलईडी 8 वॉट
22 यूनिट

 

नोट : घर में रोज 10 घंटे तक 10 उपकरण इस्‍तेमाल करने पर महीने भर में बिजली की खपत का डाटा

 

स्‍मार्ट फ्रिज हर महीने बचा सकता है 60 यूनिट बिजली

घरों में एक बार फ्रिज आ जाता है, तो वह कई साल तक चलता है। इसीलिए किसी का ध्‍यान इस ओर नहीं जाता है। लेकिन घर में बिजली की खपत में इसका भी बड़ा योगदान है। 10 साल से पुराने 260 लीटर के फ्रिज रोज करीब 3.5 यूनिट बिजली की खपत करते हैं। वहीं अगर इसी साइज का BEE 5 स्‍टार रेटिड फ्रिज खरीदा जाए तो यह रोज करीब 1.35 यूनिट बिजली की खपत करता है। यानी फ्रिज बदल कर हर महीने में 60 यूनिट बिजली की खपत कम की जा सकती है। 6 रुपए यूनिट के हिसाब से इसे जोड़ा जाए तो 360 रुपए महीने की बचत संभव है। इसके अलावा फ्रिज में कई आधुनिक फीचर भी मिलते हैं, जो पुराने के फ्रिज में नहीं होते थे।

 

आगे पढ़ें : जानकारों की राय

 

 

 

AC से ज्‍यादा कमरा बचाता है बिजली

सिटी स्‍टार कॉरपोरेशन के डायरेक्‍टर संजय लजारस ने कहा कि जितना जरूरी सही एसी के चयन का है, उतना ही जरूरी है कि जिस कमरे में एसी लगा है उसे ठीक से रखना। कमरे में एसी लगा हो उसके खिड़की और दरवाजें पूरी तरह से बंद होने चाहिए। थोड़ी सी भी एयर के निकलने से जहां कूलिंग पर फर्क पड़ता है, वहीं बिजली की खपत भी बढ़ जाती है। इसके अलावा एसी में ऑन और ऑफ टाइमर होता है। इसका सही तरीके से इस्‍तेमाल करने से एसी बिल्‍कुल भी बेकार में नहीं चलता है। इससे भी बिजली की बचत होती है।
 
वहीं उत्‍तर प्रदेश बिजली विभाग से रिटायर एग्‍जीक्‍यूटिव इंजीनियर देवकी नंदन शांत की राय है कि घरों में अगर थोड़ा भी ध्‍यान दिया जाए तो काफी बिजली बचाई जा सकती है। सिर्फ बेवजह उपकरणों को चलाने से बचा जाए, हर बिजली के बोर्ड पर इंडीकेटर न लगाया जाए और बिजली के आधुनिक उपकरणों का इस्‍तेमाल किया जाए तो बिजली का बिल काफी कम किया जा सकता है। इनके अनुसार मोबाइल फोन को लोग अक्‍सर रात में चार्जर में लगा कर छोड़ देते हैं और वह सुबह तक लगा रहता है। ऐसे में बिजली की बर्बादी होती है। इसके अलावा अगर स्‍टार रेटिंग उपकरणों का इस्‍तेमाल किया जाए तो घरों का बिजली का बिल 30 से लेकर 50 फीसदी तक कम किया जा सकता है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट