Home » States » DelhiPM Narendra Modi inaugurated the Eastern Peripheral Expressway

मोदी ने स्‍मार्ट ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया, कहा- 4 साल में 3 लाख करोड़ से 28 हजार किमी से अधिक नए हाईवे बने

मोदी ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के पहले फेज का उद्घाटन किया।

1 of

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को बागपत में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (ईपीई) का उद्घाटन किया। ईपीई 135 किलोमीटर लंबा है और यह हरियाणा के सोनीपत और पलवल को जोड़ता है। इस एक्‍सप्रेसवे पर करीब 11 हजार करोड़ रुपए की लागत आई है।   इस मौके पर मोदी ने कहा कि बीते चार वर्षों में 3 लाख करोड़ से अधिक खर्च कर 28 हजार किलोमीटर से अधिक के नए हाईवे बनाए चुके हैं। इससे पहले, मोदी ने निजामुद्दीन में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे के पहले फेज का उद्घाटन किया। इस रोड पर उन्‍होंने छह किलोमीटर लंबा रोड शो किया। यह दिल्ली के सराय काले खां से यूपी गेट तक का है, जो 14 लेन में बनाया गया है। 

 


आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर की बहुत महत्वपूर्ण: मोदी 
- पीएम मोदी ने कहा, बीते चार वर्षों में 3 लाख करोड़ से अधिक खर्च कर 28 हजार किमी से अधिक के नए हाईवे बनाए जा चुके हैं। चार वर्ष पहले तक जहां एक दिन में सिर्फ 12 किलोमीटर हाईवे बनते थे, आज लगभग 27 किलोमीटर हाईवे बनाए जा रहे हैं। 
- सवा सौ करोड़ देशवासियों का जीवन स्तर ऊपर उठाने में देश के आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है। यही सबका साथ, सबका विकास का रास्ता है, क्योंकि इंफ्रास्ट्रक्चर जात-पात, पंथ-संप्रदाय, ऊंच-नीच, अमीर-गरीब में भेद नहीं करता। 
- हमारी सरकार ने प्रदूषण की समस्या को गंभीरता से लेते हुए दिल्ली के चारों ओर Expressway का एक घेरा बनाने का बीड़ा उठाया। ये दो चरणों में बनाया जा रहा है। इसमें से एक चरण यानी Eastern Peripheral Express way का भी थोड़ी देर पहले लोकार्पण किया गया है। 

 

सोनीपत से पलवल के बीच बना है ईपीई

- ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे सोनीपत के कुंडली से पलवल और गाजियाबाद तक जाता है। इसके शुरू होने के बाद हरियाणा और यूपी के बीच चलने वाले वाहन दिल्ली में नहीं घुसेंगे।

- लंबाई:135 किलोमीटर

- लागत:11 हजार करोड़

 

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे में क्या खास?

- अब सिर्फ 45 मिनट में दिल्ली से मेरठ पहुंचा जा सकेगा। अभी 96 किमी दूरी तय करने में करीब 3 घंटे तक लग जाते हैं। इस पर दिल्ली के निजामुद्दीन ब्रिज से यूपी बॉर्डर (गाजियाबाद) तक 6 लेन बनी हैं। इनमें से 4-4 लेन हाईवे की हैं। हाईवे का काम रिकॉर्ड 17 महीने (करीब 500 दिन) में पूरा हुआ है।

 

उद्घाटन में देरी पर सुप्रीम ने लगाई थी फटकार

- 11 मई को सुप्रीम कोर्ट ने एक्सप्रेसवे के उद्घाटन में देरी पर फटकार लगाते हुए कहा कि 31 मई तक प्रधानमंत्री उद्घाटन करें या न करें, 1 जून से हर हाल में एक्सप्रेस-वे को जनता के लिए खोल दिया जाए। दिल्ली-एनसीआर पहले से ही ट्रैफिक का भारी दबाव झेल रहा है।

- हालांकि, कोर्ट के सख्त रुख के बाद नितिन गडकरी ने सफाई देते हुए कहा था कि एक्सप्रेस-वे नहीं खुलने का प्रधानमंत्री से कोई लेना-देना नहीं। काम पूरा नहीं होने के चलते यह देरी हुई।

  

2006 में शुरू हुई थी एक्सप्रेसवे की प्लानिंग

- बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली के आसपास ईस्टर्न और वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे की प्लानिंग 2006 में ही शुरू हुई थी। दिल्ली को ट्रैफिक समस्या से निजात दिलाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को दिल्ली के बाहर रिंग रोड बनाने का आदेश दिया था।

 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट