Home » States » DelhiPM Modi Address Rally In Cuttack On 4 Years Of Government

देश में कमिटमेंट वाली सरकार, ब्‍लैकमनी पर फैसले से लोगों में आई बेचैनी : पीएम मोदी

। केंद्र में एनडीए सरकार के चार साल पूरे होने के मौके पर नरेंद्र मोदी शनिवार को ओडिशा के कटक में रैली की।

PM Modi Address Rally In Cuttack On 4 Years Of Government

 

नई दिल्‍ली. केंद्र में एनडीए सरकार के चार साल पूरे होने के मौके पर नरेंद्र मोदी शनिवार को ओडिशा के कटक में रैली की। उन्होंने कहा कि जब देश में कमिटमेंट वाली सरकार होती है तो सर्जिकल   स्ट्राइक, वन रैंक-वन पेंशन जैसे फैसले होते हैं। हमारी सरकार जनपथ नहीं जनमत से चल रही है। 2019 में लोकसभा के साथ ओडिशा, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी होना है। रैली को इसे मोदी की तीनों राज्यों को साधने की कोशिश माना जा रहा है।

 

4 साल में लोगों में भरोसा पैदा हुआ

नरेंद्र मोदी ने कहा, '' ओडिशा के सभी महापुरुषों को नमन करता हूं। यह धरती विशेष है, यहां लिया संकल्प और शुरू किया अभियान कभी बेकार नहीं जाता है। आपकी आकांक्षाएं ही मेरी ऊर्जा है। आपको देखकर मेरा भरोसा मजबूत हो जाता है। पिछले 4 सालों में देश के करोड़ों लोगों में यह भरोसा पैदा हुआ है कि हालात बदल सकते हैं। आज स्थितियां बदली हैं। देश अब कुशासन से सुशासन, कालेधन से जनधन की ओर बढ़ रहा है। ये बदलाव ही न्यू इंडिया का आधार है। लोगों को भरोसा है कि दिल्ली में बैठी सरकार देश में सबका साथ सबका विकास के साथ काम कर रही है।''

 

हम कड़े फैसले लेने से नहीं डरते

मोदी ने कहा, "हमारी सरकार साफ नीयत के साथ सही विकास कर रही है। न हम कड़े फैसले लेने से डरते हैं और न ही मत बड़े फैसले लेने से चूकते हैं। देश में कमिटमेंट (प्रतिबद्धता) वाली सरकार होती है, तभी सर्जिकल स्ट्राइक जैसे फैसले होते हैं। जब देश में कंफ्यूजन नहीं कमिटमेंट वाली सरकार होती है, तो वन रैंक वन पेंशन और शत्रु संपत्ति जैसे कानून बनते हैं।"

"जब पारदर्शिता पर जोर दिया जाता है तो आधार और मोबाइल की कनेक्टिविटी से 80 हजार करोड़ रुपए गलत हाथों में जाने से बच जाते हैं। जब देश में ऐसी सरकार होती है तो देश का राजकोषीय घाटा कम होता है। झूठ फैलाने वाले कालेधन और भ्रष्टाचार से मुक्ति नहीं दिला सकता हैं। हमारी सरकार की नीतियों ने कट्टर दुश्मनों को दोस्त बना लिया है।"

"4 साल में जांच एजेंसियों ने छापे मारे। 53 हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति मिली। 3500 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति जब्त की गई। सरकार की टीमें बेनामी संपत्तियों को खंगाल रही हैं। लोग सोचते थे कि बड़ों का कुछ होता नहीं है लेकिन आज 4 पूर्व मुख्यमंत्री जेलों में हैं। सरकार की कार्रवाई से लोग इकट्ठे हो रहे हैं। देश को बचाने के लिए नहीं, बल्कि अपने परिवार को बचाने के लिए। जनता सब कुछ जानती है और भली-भांति पहचानती है।"

 

एक परिवार ने 48 साल राज किया

मोदी ने कहा, "4 साल पहले का माहौल याद रखना चाहिए। एक परिवार ने 48 सालों तक राज किया। देखने की बात है कि कांग्रेस में सत्ता ही सब कुछ रही है। कौन भूल सकता है लाखों-करोड़ों की वो खबरे और दुनिया में चर्चा बनने वाले वो कारनामे। रिमोट कंट्रोल से संचालित एक प्रधानमंत्री। मंत्रियों को ईमेल पर निर्देश मिलते थे। इन लोगों ने देश की साख को कहां पहुंचा दिया था। क्या ऐसे भारत के लिए महात्मा गांधी, सरदार पटेल, आजाद, भगत सिंह ने बलिदान दिया था, नहीं।"

"अगर कांग्रेस ने इसे समझा होता तो देश इस स्थिति में कभी नहीं पहुंचता। गरीबों को हटाने, जर्जर सड़कें, बुनियादी चीजों को छीनना जैसे कई काम हुए। गरीब के पास कुछ नहीं था। उसे मिलने वाली बुनियादी सुविधाएं बिचौलिए खा जाते थे। देश के आधे लोगों के पास गैस कनेक्शन, बैंक खाता तक नहीं था। इस अधूरी व्यवस्था की बड़ी वजह वोट बैंक की राजनीति थी। जब हम इसकी बात करते हैं तो लोग इसे सांप्रदायिक नजरिए से देखते हैं।"

"वे चुनाव को देखते हुए जोड़तोड़ की राजनीति करते थे। इसी आधार पर सरकारी योजनाओं का लाभ चुनिंदा लोगों को देते थे। कभी उन्होंने नहीं सोचा कि हर गरीब के पास शौचालय, गैस, बैंक खाता हो। इस वर्ग के लिए पार्टियां चुनाव से पहली योजनाओं का एलान खोल देती थीं। नॉर्थ-ईस्ट के बारे में कभी किसी ने नहीं सोचा।"

"अगर ऐसे ही चलता तो 100 साल में भी देश के गरीबों को योजनाओं का लाभ नहीं मिलता। अब अटकाने, लटकाने और भटकाने की राजनीति नहीं चलती है।"

 

जनपथ नहीं जनमत से चल रही सरकार

मोदी ने कहा, "मैं 4 साल की तपस्या के बाद कह रहा हूं कि हमारी सरकार किसी जनपथ से नहीं, जनमत से चल रही है। 2014 तक करीब 50% गांवों तक सड़क बनी थीं, जो अब 85%गांवों तक पहुंच गई हैं। 4 साल में 40 से बढ़कर 80% लोग स्वच्छता के दायरे में हैं। 2014 में 6 करोड़ शौचालय बने थे। 4 साल में 7.5 करोड़ शौचालय बनाए गए हैं।"

"हमने 10 करोड़ से ज्यादा नए एलपीजी कनेक्शन दिए हैं। गैस कनेक्शन का दायरा भी बढ़कर 80% हो गया है।"

"वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक, 2013 तक 53% भारतीयों के बैंक खाते थे, जो अब 80% हो गए हैं। गरीबों को हेल्थ और दुर्घटना बीमा का लाभ मिल रहा है। देश के 1 करोड़ लोगों को अटल पेंशन योजना से जोड़ा गया है।"

 

2 लाख से ज्यादा संदिग्ध कंपनियों का रजिस्ट्रेशन खत्म

मोदी ने कहा, "हमारी सरकार ने देश के गरीबों के सशक्त करने का काम किया है। 4 साल का रिकॉर्ड बताता है कि संकल्प से सिद्धी की यात्रा देश को नए भारत की ओर ले जा रही है। हमने अब 2 लाख 26 हजार संदिग्ध कंपनियों का रजिस्ट्रेशन रद्द किया है।"

"कांग्रेस सरकार में जिस रफ्तार से महंगाई दर बढ़ रही है, अब तक आपकी थाली का खर्च काफी ज्यादा हो चुका होता। किसानों का खेती पर खर्च कम हो रहा है। अब देश में नक्सल प्रभावित जिलों की संख्या 126 से 90 पर आ गई है। हमारी नीतियों से ज्यादा से ज्यादा नक्सली सरेंडर कर रहे हैं।"

"हमने निष्ठा और नम्रता से देश के लिए काम किया है। परिवार और अपनों के लिए कभी कुछ नहीं किया। सरकार भले ही बहुमत से बनी है, लेकिन सबको साथ लेकर काम कर रहे हैं।"

 

मेहनत से सब कुछ संभव

मोदी ने कहा, "4 सालों में हमने सीखा कि मेहनत से सब कुछ संभव है। इरादे नेक हैं तो देश कठिन से कठिन वक्त में देश आपके साथ खड़ा रहता है।"

"ओडिशा के आदिवासी इलाकों से मीडिया के जरिए देश को शर्मिंदा करने वाली तस्वीरें सामने आती हैं। केंद्र सरकार उनके लिए सब कुछ कर रही है, पर राज्य सरकार योजनाओं को शायद लागू नहीं कर पा रही है। भुवनेश्वर में एम्स बनाया जा रहा है। यहां डॉक्टर और नर्स तैयार करने के लिए हजारों सीटें बढ़ेगीं।"

"केंद्र सरकार गरीब-किसानों के साथ खड़ी है पर राज्य सरकार उन्हें गुमराह कर रही है। यहां महानदी के पानी का विवाद खड़ा किया गया है। ओडिशा सरकार ने खुद इस बात को माना है कि महानदी का आधे से ज्यादा पानी बंगाल की खाड़ी में बह जाता है। हमारे मंत्री नितिन गडकरी ने चिट्ठी लिखकर कहा कि महानदी का पानी गरीबों और किसानों को मिलना चाहिए।"

"किसानों की आने वाली पीढ़ियां घर छोड़ने के लिए मजबूर हैं। हमारी सरकार ने 2022 तक उनकी आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। बात सिर्फ 4 साल की नहीं है, अभी तो लंबा सफर बाकी है। 2022 तक न्यू इंडिया के सपने को पूरा करना है।"

 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट