बिज़नेस न्यूज़ » States » Delhi‘खादी मार्क’ के गलत इस्‍तेमाल पर 222 कंपनियों को नोटिस, KVIC की कार्रवाई

‘खादी मार्क’ के गलत इस्‍तेमाल पर 222 कंपनियों को नोटिस, KVIC की कार्रवाई

KVIC ने बिना इजाजत ‘खादी मार्क’ का इस्‍तेमाल करने वाली 222 फर्म को लीगल नोटिस जारी किए हैं।

KVIC sends notices to 222 firms allegedly selling products without khadi mark
 
नई दिल्‍ली. KVIC ने बिना इजाजत ‘खादी मार्क’ का इस्‍तेमाल करने वाली 222 कंपनियों को लीगल नोटिस जारी किए हैं। ये नोटिस पिछले ढाई साल के दौरान जारी हुए हैं। यह फर्म खादी मार्क या handspun, हैंडवोवन और वोवन इन हैंडलूम जैसे टैग लगाकर अपने प्रोडक्‍ट बेच रही थीं। इस तरह का नोटिस फैबइंडिया को भेज कर 525 करोड़ रुपए के नुकसान की भरपाई की मांग की गई है।
 
 
चेयरमैन ने दी जानकारी
खादी एंड विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन (KVIC) के चेयरमैन वीके सक्‍सेना के अनुसार वह ग्राहकाें को खादी के नाम पर होने वाली चीटिंग से बचाने की जिम्मेदारी KVIC की है। उनके अनुसार हाल के दिनों में खादी के कपड़ों की मांग भी बढ़ी है। उन्‍होंने बताया कि खादी एक्‍ट के अनुसार हाथ से बने कपड़े ही इस कैटेगरी में आते हैं और उन्हीं कंपनियों को नोटिस जारी किया गया है, जो ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी कर रही थीं। अगर खादी की सेल सही हो रही है तो इसका फायदा कारीगरों को होगा।
 
खादी मार्क इस्‍तेमाल के लिए रजिस्‍ट्रेशन जरूरी
उनके अनुसार खादी मार्क जैसे हैंडपुन, हैंड वोवन या वोवन इन हैंडलूम जैसे टैग का इस्‍तेमाल करने वालों को ऐसा करने से पहले रजिस्‍ट्रेशन कराना जरूरी है। इसमें उनको यह बताना होगा कि यह कहां तैयार किया जाता है और कारीगरों के नाम की लिस्‍ट देनी होगी।
 
रेवेन्‍यू में हिस्‍सेदारी नहीं चाहिए
हालांकि उन्‍होंने साफ किया कि KVIC ने जिन कंपनियों को नोटिस जारी किया है, अगर उन फर्म ने पहले से ही रजिस्‍ट्रेशन करा रखा है तो उनसे किसी भी तरह की रेवेन्‍यू हिस्‍सेदारी नहीं चाहिए है। उन्‍होंने बताया कोई भी कंपनी जैसे ही खादी मार्क के इस्‍तेमाल का रजिस्‍ट्रेशन प्राप्‍त कर लेती है, उसके बाद वह खादी के उत्‍पाद की बिक्री के लिए स्‍वतंत्र है।
 
दिसंबर 2015 से जारी हो रहे हैं नोटिस
उन्‍होंने बताया कि दिसंबर 2015 से लेकर अभी तक 222 फर्म को लीगल नोटिस जारी किया जा चुका है। उनके अनुसार KVIC की जिम्‍मेदारी है कि वह खादी ब्रांड की रक्षा करें, जिसको प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी खुद प्रमोट कर रहे हैं।
 
फेबइंडिया को भेजा है नोटिस
KVIC ने फेबइंडिया को नोटिस भेज कर खादी मार्क के गलत इस्‍तेमाल का आरोप लगाया है। फेबइंडिया देश में रिटेल आउटलेट के माध्‍यम से चरखा ट्रेडमार्क से कपड़ों को बेचती है। इन कपड़ों पर खादी का टैग लगा होता है। KVIC ने कहा कि फेबइंडिया गैरकानूनी तरीके से खादी मार्क का इस्‍तेमाल कर रही है, जिससे उसकी प्रतिष्‍ठा को नुकसान हुआ है।
 
 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट