Home » States » DelhiDelhi per capita income three times of the national average

दिल्‍ली में प्रति व्‍यक्ति आय राष्‍ट्रीय आय की तुलना में तीन गुना, इकोनॉमिक सर्वे में सामने आई जानकारी

दिल्‍ली सरकार ने सोमवार को विधान सभा में इकोनॉमिक सर्वे पेश किया।

Delhi per capita income three times of the national average


नई दिल्‍ली. दिल्‍ली सरकार ने सोमवार को विधान सभा में इकोनॉमिक सर्वे पेश किया। इसमें बताया गया है कि वर्ष 2017-18 के दौरान दिल्‍ली की ग्रॉस स्‍टेट डोमेस्टिक प्रॉडक्‍ट (GSDP) 6.86 लाख करोड़ रुपए हो गई है। इसमें पिछले साल की तुलना में 11.22 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है।

 

 

29 हजार रुपए आय बढ़ने का अनुमान

 

सर्वे के अनुसार इस वित्‍तीय वर्ष की समाप्ति पर दिल्‍ली में प्रति व्‍यक्ति आय 29 हजार रुपए बढ़कर 3,29,093 रुपए होने का अनुमान है। 2016-17 के दौरान यह आय 3,00,793 रुपए थी। वहीं वर्ष 2015-16 के दौरान यह आय 2,7,1305 रुपए थी। सर्वे के अनुसार इस वित्‍तीय वर्ष की समाप्ति पर दिल्‍ली में प्रति व्‍यक्ति आय 29 हजार रुपए बढ़कर 3,29,093 रुपए होने का अनुमान है। 2016-17 के दौरान यह आय 3,00,793 रुपए थी। वहीं वर्ष 2015-16 के दौरान यह आय 2,7,1305 रुपए थी। 

 


बजट के पहले सदन में पेश हुआ इकोनामिक सर्वे

 

दिल्‍ली की विधान सभा में बजट पेश होने के पहले आर्थिक सर्वे पेश किया गया। इसमें बताया गया है कि दिल्‍ली में प्रति व्‍यक्ति आय देश की प्रति व्‍यक्ति आय से तीन गुना ज्‍यादा है। सर्वे में वर्ष 2017-18 के लिए एडवांस्‍ड GSDP डाटा के अनुसार इकोनॉमी का आकार 6,86,017 करोड़ रुपए का हो जाएगा।

 

 

GST में 75 फीसदी कारोबारी आए

 

सर्वे में बताया गया है कि राज्‍य के करीब 75 फीसदी कारोबारी जो वैल्‍यू एडेड टैक्‍स (VAT) के अंतर्गत रजिस्‍टर्ड थे वह GST में रजिस्‍ट्रेशन करा चुके हैं। दिल्‍ली विधान सभा ने GST बिल को 31 मई 2017 को सदन में मंजूरी दी थी और यह 1 जुलाई 2017 को लागू हुआ था।

 

 वाहनों की संख्‍या बढ़ी

 

आर्थिक सर्वे में सामने आया है कि दिल्ली में प्रत्येक दूसरे व्यक्ति के पास एक वाहन है। दिल्ली में कुल 1.03 करोड़ वाहन है। प्रति एक हजार व्यक्ति पर 556 वाहन है। वहीं लास्ट माइल कनेक्टविटी के चलते अन्य यात्री वाहनों (ई-रिक्शा, टेंपो ट्रेवलर व अन्य) में 838.43 फीसदी का इजाफा हुआ है। इनकी संख्या 6368 से बढ़कर 59,759 वाहन हो गई है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट