बिज़नेस न्यूज़ » States » Delhiलॉटरी से हो सकती है आयुष्‍मान भारत की फंडिंग, 5 लाख रु का मिलेगा फ्री हेल्‍थ इंश्‍योरेंस

लॉटरी से हो सकती है आयुष्‍मान भारत की फंडिंग, 5 लाख रु का मिलेगा फ्री हेल्‍थ इंश्‍योरेंस

मोदी सरकार की फ्लैगशिप स्‍वास्‍थ्‍य स्‍कीम ‘आयुष्‍मान भारत’ की फंडिंग लॉटरी के माध्‍यम से हो सकती है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. मोदी सरकार की फ्लैगशिप स्‍वास्‍थ्‍य स्‍कीम ‘आयुष्‍मान भारत’ की फंडिंग लॉटरी के माध्‍यम से हो सकती है। moneybhaskar को मिली जानकारी के अनुसार लॉटरी एंड गेमिंग संचालन कंपनी ने इस स्‍कीम की घोषणा के बाद सरकार को इसके लिए पत्र लिखा था, जिस पर सरकार ने विचार करने का अश्‍वासन दिया है। वहीं इस मामले पर नीति आयोग से भी समय मांगा गया है, जिनके सामने इस योजना को लेकर प्रजेंटेशन दिया जाएगा। इस स्‍कीम के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को हर साल फ्री में 5 लाख रुपए के हेल्‍थ इंश्‍योरेंस की सुविधा फ्री में दी जाएगी। स्‍कीम को सरकार आगामी 15 अगस्‍त से लॉन्‍च करने की तैयारी में है।

 

मोदी को भेजा गया है प्रस्‍ताव

3 फरवरी को लॉटरी एंड गेमिंग कंपनी सुगल एंड दमानी ग्रुप ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर स्‍वास्‍थ्‍य योजना के लिए लॉटरी के माध्‍यम से फंडिंग जुटाने का प्रस्‍ताव दिया था। कंपनी के सीईओ कमलेश विजय के अनुसार, उनको सरकार की तरफ से बताया गया है कि इस प्रस्‍ताव पर विचार किया जाएगा। उनके अनुसार इस मामले में नीति आयोग से मिलने का समय मांगा गया है। जैसे ही यह समय मिलेगा वह लोग उनके सामने इस मामले में अपना प्रजेंटेशन देंगे।

 

अभी लॉटरी से कितना मिल रहा है राजस्‍व

वर्ष 2017-18 में लाॅटरी से देश के नौ राज्‍यों को 5800 करोड़ रुपए का राजस्‍व मिला है। इन राज्‍यों में केरल, महाराष्‍ट्र, पश्चिम बंगाल, पंजाब, मिजोरम, अरुणाचल, सिक्किम, असम और गोवा शामिल हैं। इनमें से 3 राज्‍यों में भाजपा की सरकार है। इन राज्‍यों में लॉटरी से सबसे ज्‍यादा 2599 करोड़ रुपए राजस्‍व केरल को मिला है।

 

राज्‍यों को लॉटरी से मिलने वाला राजस्‍व

 

राज्‍य

लॉटरी से आय

केरल

2599 करोड़ रुपए

महाराष्‍ट्र

814 करोड़ रुपए

पश्चिम बंगाल

2182 करोड़ रुपए

पंजाब     

94 करोड़ रुपए

मिजोरम

13.60 करोड़ रुपए

अरुणाचल

16.62 करोड़ रुपए

सिक्किम

40.50 करोड़ रुपए

असम

32 करोड़ रुपए

गोवा

32.16 करोड़ रुपए

कुल     

5800.88 करोड़ रुपए

 

नोट : आंकड़े लॉटरी पर GST लागू होने के बाद 31 मार्च 2018 तक के हैं।

 

GST के तहत आती है लॉटरी

लॉटरी सरकार द्वारा लागू नया इनडायरेक्ट टैक्‍स सिस्टम के तहत आती है। इस पर 12 और 28 फीसदी की दर से टैक्‍स लगाया गया है। वहीं जिस राज्‍य की लॉटरी है, अगर  वह अपने ही राज्‍य में बिकती है तो उस पर 12 फीसदी जीएसटी देना होता है। वहीं अगर यह दूसरे राज्‍य में बेची जाए तो इस पर 28 फीसदी GST लगता है। इसके बाद भी अभी लॉटरी पूरे देश में नहीं बिकती है। जिन राज्‍यों को अपने को लॉटरी फ्री राज्‍य घोषित कर रखा है उन राज्‍यों को इस वक्‍त कोई भी लॉटरी नहीं बेची जा सकती है।

 

विवादित रही है लॉटरी ही हिस्‍ट्री

देश में लॉटरी को लेकर काफी विवाद रहा है। एक समय देश में लॉटरी को लेकर ज्‍यादा नियम कानून नहीं थे। उस वक्‍त लॉटरी एक नम्‍बर तक की चलती थी, यानी हर दस टिकट पर एक इनाम मिलता था। वहीं कई लॉटरी इंस्‍टैंट थीं, यानी टिकट को रगड़कर नम्‍बर निकाला जाता था और इनाम मिलता था। इनमें अक्‍सर विवाद होता रहता था। इसके बाद सरकार ने 1998 में लॉटरी (रेग्‍युलेशन) एक्‍ट पास किया और बाद में लॉटरी (रेग्‍युलेशन) रूल्‍स 2010 को लागू किया। अब लॉटरी को लेकर नियम काफी साफ हो गए हैं और सिर्फ राज्य ही लॉटरी जारी कर सकते हैं, लेकिन इनके वितरण के लिए निजी कंपनियों को काम दिया जा सकता है।

 

अब क्‍या हैं नियम

इन दिक्‍कतों को देखते हुए ही नियमों में काफी बदलाव किया गया है। अब केवल अंतिम 4 नबंरों पर ही इनाम देने वाली लॉटरी देश में बिक सकती हैं। इसके अलावा केवल राज्‍य सरकारें ही लॉटरी जारी कर सकती हैं। इनके ड्रा से लेकर बेचने तक के नियम तय कर दिए गए हैं। कमलेश विजय के अनुसार अगर इन नियमों के तहत देश में लॉटरी का काम शुरू हो जाए तो राजस्‍व के अलावा 10 लाख रोजगार भी पैदा हो सकते हैं।

 

देश में कितना मिल सकता है राजस्‍व

पीएम मोदी को लिखे पत्र के अनुसार अगर पूरे देश में लॉटरी लागू कर दी जाए तो 35 से 50 हजार करोड़ रुपए का राजस्‍व मिल सकता है। इस पैसे से आयुष्‍मान भारत स्‍कीम को आराम से चलाया जा सकता है। 31 मार्च तक 9 राज्‍यों में सरकार को लॉटरी से GST के रूप में 3948 करोड़ रुपए मिला था।

 

क्‍या है आयुष्‍मान भारत स्‍कीम

सरकार ने बजट में इस स्‍कीम को घोषित किया था। इसके तहत देश के 10 करोड़ गरीब परिवारों को फ्री  में हेल्‍थ इंश्‍योरेंस का फायदा दिया जाएगा। जैसी चर्चा है उसके अनुसार इस स्‍कीम को आगामी 15 अगस्‍त या 2 अक्‍टूबर को लॉन्‍च किया जा सकता है। इस स्‍कीम का फायदा लेने के लिए गरीब परिवार को एक भी पैसे का भी भुगतान नहीं करना पड़ेगा। साल में 5 लाख रुपए का इलाज परिवार का एक व्‍यक्ति या एक से ज्‍यादा व्‍यक्ति फायदा ले सकते हैं।

 

पूरी दुनिया में वेलफेयर के काम के लिए जुटाया जाता है लॉटरी से पैसा

दुनिया के सैकड़ों देशों में लॉटरी से वेलफेयर के लिए पैसा जुटाया जाता है। लॉटरी से सबसे ज्‍यादा पैसा अमेरिका में आता है। यहां पर करीब 1.37 लाख करोड़ रुपए (19.07 अरब डॉलर) लॉटरी से मिलता है।

 

लॉटरी से पैसा जुटाने वाले टॉप 3 देश

 

देश

राजस्‍व

अमेरिका

19.07 अरब डॉलर

चीन

15.71 अरब डॉलर

ब्रिटेन

4.01 अरब डॉलर

 

स्रोत: WLA और आंकड़े 2016 के हैं।

 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट