Home » SME » PolicyPM Modi asks PSUs to make timely payments to MSMEs

छोटे कारोबारियों से खरीददारी बढ़ाएं पीएसयू, 100 दिन में पेश करें डेवलपमेंट रोड मैप : PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि साल 2016 में पीएसयू ने 25 हजार करोड़ का सामान ही एमएसएमई सेक्टर से खरीदा

1 of

 

 

नई दिल्‍ली. साल 2015 से सरकारी कंपनियों (पीएसयू) के लिए छोटे कारोबारियों से 20 फीसदी खरीदारी अनिवार्य करने के बाद भी रवैया न बदलते देख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि क्या पीएसयू ऐसा कोई मैकेनिज्म नहीं बना सकते, जिससे देश के लघु और छोटे उद्योगों से ज्यादा से ज्यादा सामान खरीदा जा सके। उन्‍होंने पीएसयू से कहा कि छोटे कारोबारियों का पेमेंट भी डिले न करें। मोदी सोमवार को सेंट्रल पब्लिक सेक्‍टर एंटरप्राइजेज कॉन्‍कलेव को संबोधित कर रहे थे।

 

मनीभास्‍कर ने उठाया था मामला

पब्लिक प्रोक्‍योरमेंट पॉलिसी अनिवार्य होने के बावजूद पीएसयू द्वारा छोटे कारोबारियों से खरीद न करने और तय समय पर उन्‍हें पेमेंट न देने की खबर 'मनीभास्‍कर' लगातार उठा रहा है। हाल ही में मनीभास्‍कर ने मोदी सरकार ने दलितों की इनकम बढ़ाने के लिए चलाई 3 स्‍कीम, टारगेट से दूर और कॉरपोरेट से SME का पैसा नहीं दिला पा रही है सरकार समाचार प्रकाशित किया था।

 

1.30 लाख करोड़ में 25 हजार करोड़ रुपए की खरीदारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि साल 2016 में पीएसयू ने 1 लाख 30 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की खरीदारी की और इसमें से लगभग 25 हजार करोड़ का सामान ही एमएसएमई सेक्टर से लिया गया।

 

समय पर दें पेमेंट

उन्‍होंने कहा कि मेरा एक आग्रह आपसे (पीएसयू) ये भी है कि आप इस बात का भी हमेशा ध्यान रखें कि एमएसएमई को भुगतान में देरी न हो। पेमेंट लेट होने पर छोटे उद्यमियों को जिस तरह की दिक्कतें आती हैं, उसकी जानकारी आप सभी को है।

 

100 दिन में पेश करें रोड मैप 
पीएम ने सभी पीएसयू के हेड से अपील की कि वे 100 दिन के भीतर एक डेवलपमेंट रोडमैप तैयार करें, जिसमें वे कंपनियों को मजबूत करने और डेवलपमेंट एक्टिवटीज को प्रमोट करने के लिए अपने-अपने टारगेट सेट करके उन्‍हें (पीएम) को बताएं। 

 

 

न्‍यू इंडिया रत्‍न बनें पीएसयू

पीएम ने कहा कि आज तक हम पीएसयू को नवरत्न के रूप में क्‍लासिफाई करते रहे हैं। लेकिन अब वक्त आ गया है जब हम इससे आगे की सोचें। क्या हम न्‍यू इंडिया रत्न बनाने के बारे में नहीं सोच सकते? क्या आप तकनीक और प्रक्रियाओं में बदलाव के जरिए न्‍यू इंडिया रत्न बनने और बनाने के लिए तैयार हैं।

 

5 पी फॉर्मूला

मोदी ने कहा कि मैं समझता हूं कि न्‍यू इंडिया के निर्माण में पीएसयू की सहभागिता 5 पी फॉर्मूले पर चलते हुए और ज्यादा हो सकती है। ये 5 पी हैं: परफॉर्मेंस, प्रोसेस, पर्सनल, प्रोक्‍योरमेंट़ और प्रिपेयर।

 

इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेट हो

उन्‍होंने कहा कि हमें खुद से ये सवाल पूछना होगा कि न्यू इंडिया में भारतीय पीएसयू किस तरह अगले 5-10 साल में ग्‍लोबल ग्रेटनेस को हासिल कर पाएंगे। कैसे उनमें ज्यादा से ज्यादा इनोवेशन हो, प्रक्रियाओं में ऐसा कौन सा सुधार करें जिससे टैक्‍स रिवेन्‍यू तो बढ़े ही इम्‍प्‍लॉमेंट जनरेशन के भी नए अवसर बनें।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट