Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »SME »Opportunity» MNRE Prepare A Draft Guidelines For Procurement Of Power From Solar Projects

    सोलर पावर ट्रेडिंग का मौका देगी सरकार, बिडिंग प्रोसेस की गाइडलाइंस तैयार

     
    नई दिल्‍ली। जनरेशन के साथ-साथ अब केंद्र सरकार सोलर ट्रेडिंग को बढ़ावा दे रही है। सरकार ने ऐसी गाइडलाइंस तैयार की हैं, जिसके आधार पर सोलर प्रोजेक्‍ट्स से बिजली खरीदकर कंज्‍यूमर को सप्‍लाई की जा सकती है। बिजली खरीदने के लिए टैरिफ बेस्‍ड कॉम्पिटीटिवनेस बिडिंग की जाएगी, ताकि‍ लोगों को सस्‍ती बिजली मिल सके। हालांकि इस बिडिंग प्रोसेस में वही ट्रेडर्स शामिल हो सकेंगे, जो 50 मेगावाट से अधिक बिजली खरीदेंगे।
     
    ड्राफ्ट तैयार
     
    मिनिस्‍ट्री ऑफ न्‍यू एंड रिन्‍यूएबल एनर्जी (एमएनआरई) ने गाइडलाइंस का यह ड्राफ्ट तैयार किया है। ड्राफ्ट में कहा गया है कि इलेक्ट्रिसिटी एक्‍ट 2003 में इलेक्ट्रिसिटी इंडस्‍ट्री में कॉम्पिटिशन को बढ़ावा देने का प्रावधान किया गया है। ऐसे में, यदि डिस्ट्रिब्‍यूशन कंपनियां के बीच पावर प्रोक्‍योरमेंट के लिए काम्पिटिशन कराया जाता है तो ओवरऑल कॉस्‍ट में कमी आएगी और पावर डिस्ट्रिब्‍यूशन में सुधार होगा।
     
    क्‍या है ऑब्‍जेक्टिव
     
    ड्राफ्ट के मुताबिक ये गाइडलाइंड तैयार करने का मकसद है कि सोलर पीवी पावर प्‍लांट से मिलने वाली बिजली को खरीदने के लिए कंपनियों (डिस्‍कॉम्‍स) के बीच कॉम्पिटिशन को बढ़ावा दिया जाए, इसमें कंज्‍यूमर्स के हितों का ध्‍यान रखा जाए। इसके अलावा बिजली खरीदने की प्रक्रिया में ट्रांसपेरेंसी बरती जाए और एक ट्रेडर या एग्रीगेटर को एक फ्रेमवर्क प्रदान किया जाए, ताकि वे लॉन्‍ग टर्म पावर की सेल-परचेज करना आसान हो जाए। गाइडलाइंस तैयार होने के बाद से सोलर पावर ट्रेडिंग को एक स्‍टैंडर्ड मिल जाएंगे, साथ ही इस सेक्‍टर में इन्‍वेस्‍टमेंट भी बढ़ेगा।
     
    50 मेगावाट से अधिक खरीद करनी होगी
     
    गाइडलाइंस में स्‍पष्‍ट किया गया है कि इस बिडिंग प्रोसेस में उन प्रोक्‍योरमेंट को शामिल किया जाएगा, जो 50 मेगावाट या उससे अधिक की हो।
     
    ऐसे होगी ट्रेडिंग
     
    इन गाइडलाइंस के मुताबिक, सोलर पावर जनरेटर और डिस्ट्रिब्‍यूशन कंपनियों के बीच में एक ट्रेडर भी हो सकता है। जो जनरेटर से‍ बिजली खरीदकर डिस्ट्रिब्‍यूशन कंपनियों को सप्‍लाई करेगा। सोलर पावर ट्रेडर, जनरेटर से पावर परचेज एग्रीमेंट करेगा, जबकि ट्रेडर, डिस्ट्रिब्‍यूशन कंपनियों से पावर सेल एग्रीमेंट भी कर सकता है। ये ट्रेडर, एंड यूजर्स भी समझौता कर सकते हैं। यानी कि, ट्रेडर्स सीधे कंज्‍यूमर को भी सप्‍लाई कर सकते हैं। 
     
    अगली स्‍लाहड में पढ़ें - फिक्‍स होगा ट्रेडिंग मार्जिन 
     

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY