बिज़नेस न्यूज़ » SME » Opportunityबीमारी बताते ही सस्ती दवा का नाम बताएगा मोबाइल, ऐसे बचेंगे आपके पैसे

बीमारी बताते ही सस्ती दवा का नाम बताएगा मोबाइल, ऐसे बचेंगे आपके पैसे

यह ऐप न केवल आपको सस्ती दवाइयों वाला मेडिकल स्टोर और उनकी कीमत बताने में मदद करेगा, बल्कि छोटी-मोटी बीमारी में आपको जरूरी दवा का नाम भी बता देगा।

1 of
नई दिल्ली. यह पता करना थोड़ा मुश्किल होता है कि मार्केट में कहां अच्छी क्वालिटी की सस्ती दवाइयां मिलेंगी। वहीं छोटी-मोटी बीमारी होने पर भी डॉक्टरों के पास चक्कर काटने पड़ते हैं। दोनों ही कंडीशन में आम आदमी पर खर्च का बोझ बढ़ जाता है। अब सरकार यह खर्च कम करने के लिए आपकी मदद करने जा रही है, वह भी एक खास मोबाइल ऐप से, जिसे आप अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड कर सकते हैं। यह ऐप न केवल आपको सस्ती दवाइयों वाला मेडिकल स्टोर और उनकी कीमत बताने में मदद करेगा, बल्कि छोटी-मोटी बीमारी में आपको जरूरी दवा का नाम भी बता देगा। 
 
 
आइए जानते हैं कि कितने काम का है यह मोबाइल ऐप।
 
मोबाइल ऐप का क्या है मकसद
 
 
- सरकार का उद्देश्‍य है कि देश के हर नागरिक तक बेहतर क्वालिटी वाली सस्ती दवाइयों की पहुंच हो सके।
- मौजूदा दौर में बहुत से लोग दवाइयां महंगी होने की वजह से जरूरी दवाइयां नहीं खरीद पाते हैं।
- इसी वजह से सरकार देशभर में प्रधानमंत्री जनऔषधि स्कीम के त‍हत जेनेरिक दवाइयों को प्रमोट कर रही है।
- इन दवाइयों की कीमत ब्रांडेड दवाइयों से 90 फीसदी तक कम होगी लेकिन इनकी क्वालिटी ब्रांडेड दवा की तरह ही होगी।
- डिपार्टमेंट ऑफ फॉर्मास्युटिकल्स की ओर से यह‍ मोबाइल ऐप भी जनऔषधि स्कीम के तहत डेवलप किया जा रहा है।
- अगस्त-सितंबर तक इस ऐप की सर्विस शुरू हो जाएगी, जिसे कोई भी अपने स्मार्ट फोन पर डाउनलोड कर सकता है।
 
अगली स्लाइड में, कैसे पता चलेगा किस दवा की क्या कीमत है
दवाइयों के साथ कीमत की पूरी जानकारी
 
- इस मोबाइल ऐप के जरिए आपको उन दवाइयों की पूरी लिस्ट मिल जाएगी, जो सरकार द्वारा लोगों को कम कीमत पर उपलब्ध करवाई जा रही हैं।
- आप अलग-अलग दवाइयों या किसी खास बीमारी में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों की लिस्ट भी देख सकते हैं।
- सिर्फ दवाइयों की लिस्ट ही नहीं, बल्कि उनकी कीमत जानने का भी विकल्प ऐप पर मौजूद होगा।
- वहां जाकर आप सभी दवाइयों की कीमत के बारे में जान सकते हैं।
- यही नहीं उन दवाइयों की जगह जो ब्रांडेड दवाइयां हैं, उनकी कीमत की भी डिटेल साथ में होगी। जिससे आप अंदाजा लगा सकेंगे, कि दोनों के रेट  में कितना अंतर है।
- ऐप के जरिए आपको यह भी पता चलेगा कि कौन सी दवा किस कंपनी में बनती है।
- कौन सी 20 जेनेरिक दवाइयां सबसे पॉपुलर हैं, इस बात की जानकारी भी मिलेगी।
 
 
अगली स्लाइड में, कैसे मोबाइल बन जाएगा आपका डॉक्टर
अगली स्लाइड में, कैसे मोबाइल बन जाएगा आपका डॉक्टर
 
किस बीमारी में कौन सी दवा लें
 
-ऐप की एक बड़ी खासियत यह है कि छोटी-मोटी बीमारी में आपको डॉक्टर के पास चक्कर काटने की जरूरत नहीं होगी।
-ऐप में दिए गए एक विकल्प के जरिए बीमारी का नाम डालते ही, उसमें ली जाने वाली जरूरी दवाइयों का कॉम्बिनेशन आपको दिख जाएगा।
-इस सुविधा के लिए टॉप डॉक्टरों से कंसल्ट किया गया है, उनके दिए गए सुझावों के बाद इस विकल्प की सुविधा दी गई है।
 
अगली स्लाइड में, ऐप कैसे पता करेगा मेडिकल स्टोर कहां है   
कहां मिलेंगी सस्ती दवाइयां
 
-यह मोबाइल ऐप सस्ती दवाइयों वाले सेंटर खोजने में आपकी मदद करेगा, जिसमें आम तौर पर काफी मुश्किल होती है।
-यह जानकारी मिल जाएगी कि आपके आस-पास सबसे नजदीक कौन सा मेडिकल स्टोर है, जहां जेनेरिक दवाइयां उपलब्ध हैं।
-सबसे पहले शहर और उसके बाद एरिया सेलेक्ट करना होगा, ऐसा करने पर उस एरिया में मौजूद मेडिकल स्टोर का एड्रेस दिख जाएगा।
-उस स्टोर का रजिस्टर्ड मोबाइन नंबर भी दिखेगा, जिससे आप उनसे संपर्क कर सकेंगे।
-अगर उस एरिया में ऐसा कोई मेडिकल स्टोर नहीं है तो  आपको दूसरे एरिया में सर्च करना पड़ेगा।
 
अगली स्लाइड में, कैसे जान पाएंगे कि दवा की क्वालिटी कैसी है
जेनेरिक दवा की क्वालिटी की होगी पूरी डिटेल
 
-आप यह जान सकेंगे कि जो दवा आप लेने जा रहे हैं, उसमें कौन सा सॉल्ट इस्तेमाल किया गया है।
-उस सॉल्ट वाली कौन सी दूसरी 5 ब्रांडेड दवाइयां मार्केट में हैं।
-जेनेरिक दवा की क्वालिटी किस तरह से उन ब्रांडेड दवाइयों की क्वालिटी की तरह ही है।
-ये दवाइयां किन देशों में इस्तेमाल होती हैं, यह जानकारी भी मिलेगी।
  
अगली स्लाइड में, आपकी मेडिकल हिस्ट्री भी होगी रजिस्टर्ड
ऐप पर आपकी डिटेल भी स्टोर होगी
 
-ऐप डाउनलोड करते समय आपको अपनी पूरी डिटेल मसलन नाम, उम्र, लंबाई, वजन, आपको कोई बीमारी है या नहीं, लोकेशन देनी होगी, जो ऐप में स्टोर कर लिया जाएगा।
-ऐप के लिए आपकी अपनी लॉग-इन आईडी होगी।
-ऐप के जरिए आपको समय-समय पर किसी नई एक्टिविटी होने पर अपडेट किया जाएगा।
-जनऔषधि स्कीम के बारे में भी आपको जानकारी दी जाएगी। आप भी अपनी ओर से फीडबैक दे सकते हैं।
 
अगली स्लाइड में, किन भाषाओं का होगा इस्तेमाल
हिंदी और अंग्रेजी में होगी सुविधा
 
-शुरूआत में मोबाइल ऐप हिंदी और अंग्रेजी दो भाषाओं में होगा।
-बाद में कुछ और भाषाओं के साथ इसे डेवलप किया जाएगा।
-खासतौर से रूरल एरिया का ध्‍यान रखते हुए इसमें हिंदी का भी विकल्प दिया गया है।
-आगे जरूरत पड़ने पर और भी भाषाओं का विकल्प दिया जाएगा।
 
अगली स्लाइड में, ऐप के जरिए आप भी दे पाएंगे लोगों को जानकारी  
सोशल मीडिया पर भी कर सकते हैं शेयर
 
-मोबाइल ऐप को सोशल मीडिया मसलन फेसबुक और ट्वीटर से भी कनेक्ट किया जाएगा।
-अगर आपको कोई जानकारी सोशल मीडिया पर शेयर करनी हो तो आसानी से कर सकेंगे।
-सरकार का मानना है कि इससे जेनेरिक दवाइयों और जनऔषधि स्कीम को लेकर लोगों में जागरूकता बढ़ेगी। 
 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट