बिज़नेस न्यूज़ » SME » Opportunity50 हजार रु. में शुरू हो जाएगा आयुर्वेदिक वटी गुटिका प्‍लांट, सरकार दे रही लोन और सब्सिडी

50 हजार रु. में शुरू हो जाएगा आयुर्वेदिक वटी गुटिका प्‍लांट, सरकार दे रही लोन और सब्सिडी

सरकार आयुर्वेदिक प्रोडक्‍ट्स (Ayurvedic Products) बनाने की यूनिट लगाने के लिए लोन और सब्सिडी दे रही है

1 of

नई दिल्‍ली. मोदी सरकार के प्रयासों के देश में योग और आयुर्वेद का चलन बढ़ा है। इसको और बढ़ावा देने के लिए सरकार आयुर्वेदिक प्रोडक्‍ट्स (Ayurvedic Products) बनाने की यूनिट लगाने के लिए प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) के तहत 90 फीसदी तक लोन और 25 फीसदी तक सब्सिडी दे रही है। आयुर्वेदिक प्रोडक्‍ट्स में वटी गुटिका की डिमांड काफी अधिक है। लगभग हर आयुर्वेदिक कंपनी वटी गुटिका बनाकर बेच रही है। वटी या गुटिका के नाम से जाने जानी वाली यह आयुर्वेदिक दवा कई तरह की बीमारियों में काम आती है। गले की खराश, कब्‍ज, एलर्जी जैसी बीमारियों में तुरंत राहत देने वाली इस दवा को लोग घरों में भी रखते हैं, ताकि समय आने पर इसका इस्‍तेमाल किया जा सके।

 

 

खादी विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन (KVIC) के सैंपल प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल में वटी गुटिका बनाने वाली मैन्‍युफैक्‍चरिंग यूनिट के प्रोजेक्‍ट को भी शामिल किया है। इनकी प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट लगभग 5 लाख रुपए है और प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनेरशन प्रोग्राम के तहत यदि आप लोन के लिए अप्‍लाई करते हैं तो आपके पास 50 हजार रुपए होने चाहिए, शेष 90 फीसदी आपको लोन मिल जाएगा। 

कितनी होगी प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट 

KVIC के प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल के मुताबिक, आपके प्रोजेक्‍ट की कॉस्‍ट लगभग 5.06 लाख रुपए आएगी, जिसमें मशीनरी-इक्विपमेंट, वर्किंग कैपिटल, वर्कशॉप का किराया आदि शामिल है। इस कॉस्‍ट में आप साल भर में लगभग 20 हजार वटी गुटिका तैयार करेंगे। 

 

कैसे बनाएं प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट 
अगर आप KVIC  से प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत लोन लेना चाहते हैं तो आप को प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार करनी होगी। इसमें - 
बिल्डिंग का किराया : 2 लाख सालाना 
इक्‍वीपमेंट : 2 लाख 10 हजार 
वर्किंग कैपिटल : 96 हजार 
रॉ मैटिरियल : 3.35 लाख 
लेबल पैकेजिंग : 25 हजार 
सैलरी : 4.25 लाख 
एडमिनिस्‍ट्रेटिव खर्च : 1.50 लाख 
ओवरहेड : 1.50 लाख 
विविध खर्च : 10 हजार 
लोन का ब्‍याज : 66 हजार 
वर्किंग कैपिटल की जरूरत (सालाना) : 4.18 लाख 
वेरिएबल कॉस्‍ट : 7.38 लाख 
वर्किंग कैपटिल तिमाही : 96 हजार 

 

आगे पढ़ें : कैसेे होगा प्रॉफिट  

क्‍या होगा प्रॉफिट 
प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट में आपको बताना होगा कि आपको सालाना कितना फायदा होगा। जैसे कि, फिक्‍सड कॉस्‍ट और वेरिएबल कॉस्‍ट से आपका कॉस्‍ट ऑफ प्रोडक्शन 11 लाख 54 हजार रुपए होगा। चूंकि आपने 20 हजार वटी या गुटिका बनाने का टारगेट रखा है और आप इसे यदि 75 रुपए प्रति पीस बेचते हैं तो आपकी कुल सालाना सेल्‍स 15 लाख रुपए होगी और यानी कि आप लगभग 3.45 लाख रुपए का प्रॉफिट हो सकता है। 

 

ट्रेनिंग भी देगी सरकार 
सरकार प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत लोन देने से पहले बिजनेस से संबंधित ट्रेनिंग भी देती है। इसमें बिजनेस की बारीकियों के साथ साथ मैनेजमेंट और सेल्‍स के गुर भी सिखाएं जाते हैं। 

 

आगे पढ़ें : कैसे करें अप्‍लाई 


कैसे करें अप्‍लाई 
अगर आप इस प्रोजेक्‍ट के लिए लोन लेना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन अप्‍लाई कर सकते हैं या अपने जिले के जिला उद्योग केंद्र या खादी विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन के जिला कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। ऑनलाइन अप्‍लाई के लिए यहां क्लिक करें https://www.kviconline.gov.in/pmegpeportal/jsp/pmegponline.jsp

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट