विज्ञापन
Home » SME » OpportunityLow cost business idea : cricket bat manufacturing unit

3.35 लाख में शुरू कर सकते हैं क्रिकेट बैट बनाने की यूनिट, 90% लोन देगी सरकार

आपको लगाने होंगे केवल 35 हजार, बाकी 3 लाख रुपए के लोन के लिए करना होगा अप्‍लाई

Low cost business idea : cricket bat manufacturing unit
भारत में क्रिकेट का जुनून शहरों ही नहीं, गांवों में भी सिर चढ़ कर बोल रहा है। यही वजह है कि यदि आप क्रिकेट बैट बनाने की यूनिट लगा लें तो पूरी उम्‍मीद है कि आपका बिजनेस फेल नहीं होगा। इसी संभावना के चलते केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) के तहत 90 फीसदी तक लोन दिया जाता है। साथ ही, 15 से 25 फीसदी तक सब्सिडी भी दी जाती है। 90 फीसदी लें लोन प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत मिनिस्‍ट्री ऑफ माइक्रो, स्‍मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज की कई मॉडल प्रोजेक्‍ट तैयार किए गए हैं। क्रिकेट बैट मैनयुफैक्‍चरिंग यूनिट के लिए भी मॉडल प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार की गई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, यदि आप एक साल में 48 हजार बैट तैयार करने वाला यूनिट लगाना चाहते हैं तो आपके प्रोजेक्‍ट की कॉस्‍ट 3 लाख 35 हजार रुपए होगी और इसमें से आपको 10 फीसदी यानि 33 हजार 500 रुपए का इंतजाम करना होगा। शेष 90 फीसदी रकम आपको PMEGP के तहत लोन के रूप में मिल जाएगा। कौन सी मशीनें चाहिए बैंड सॉ मशीन, पावर ऑपरेटेड (3 एचपी) बैट प्रोसेसिंग मशीन, एचपी मोटर के साथ पावर ऑपरेटेड बैट फिनिशिंग मशीन, वुड वर्किंग लैथ, टूल्‍स और इक्‍वपीमेंट लेने होंगे। अनुमान है कि इस पर आपका लगभग 60 हजार रुपए का खर्च आएगा। इसके अलावा आपको हर साइकिल पर वर्किंग कैपिटल के तौर पर 2 लाख 75 हजार रुपए की जरूरत पड़ेगी। यानी कि आपको लोन लेने के लिए 3.35 लाख रुपए की प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार कर अपने जिले के उद्योग केंद्र में जमा करानी होगी।

नई दिल्‍ली. भारत में क्रिकेट का जुनून शहरों ही नहीं, गांवों में भी सिर चढ़ कर बोल रहा है। यही वजह है कि यदि आप क्रिकेट बैट बनाने की यूनिट लगा लें तो पूरी उम्‍मीद है कि आपका बिजनेस फेल नहीं होगा। इसी संभावना को देखते हुए केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) के तहत ऐसे बिजनेस को 90 फीसदी तक लोन दिया जाता है। साथ ही, 15 से 25 फीसदी तक सब्सिडी भी दी जाती है। 

 

90 फीसदी लें लोन 
प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत मिनिस्‍ट्री ऑफ माइक्रो, स्‍मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज द्वारा कई मॉडल प्रोजेक्‍ट तैयार किए गए हैं। इनमें क्रिकेट बैट मैनयुफैक्‍चरिंग यूनिट की मॉडल प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट भी शामिल है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, यदि आप एक साल में 48 हजार बैट तैयार करने वाला यूनिट लगाना चाहते हैं तो आपके प्रोजेक्‍ट की कॉस्‍ट 3 लाख 35 हजार रुपए होगी और इसमें से आपको 10 फीसदी यानि 33 हजार 500 रुपए का इंतजाम करना होगा। शेष 90 फीसदी रकम आपको PMEGP के तहत लोन के रूप में मिल जाएगा। 

 

कौन सी मशीनें चाहिए 

अगर आप क्रिकेट बैट मैन्‍युफैक्‍चरिंग यूनिट लगाना चाहते हैं तो आपको बैंड सॉ मशीन, पावर ऑपरेटेड (3 एचपी) बैट प्रोसेसिंग मशीन, एचपी मोटर के साथ पावर ऑपरेटेड बैट फिनिशिंग मशीन, वुड वर्किंग लैथ, टूल्‍स और इक्‍वपीमेंट लेने होंगे। रिपोर्ट के मुताबिक,  इस पर आपका लगभग 60 हजार रुपए का खर्च आएगा। इसके अलावा आपको हर साइकिल पर वर्किंग कैपिटल के तौर पर 2 लाख 75 हजार रुपए की जरूरत पड़ेगी। यानी कि आपको लोन लेने के लिए 3.35 लाख रुपए की प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार कर अपने जिले के उद्योग केंद्र में जमा करानी होगी। 


कितनी होगी सेल्‍स 
मॉडल रिपोर्ट के मुताबिक, यह प्रोजेक्‍ट शुरू होने के बाद आप साल भर में लगभग 4800 बेट तैयार कर सकते हैं। इसके लिए साल भर में लगभग 12 लाख रुपए का रॉ-मैटेरियल खरीदना पड़ेगा और बाकी 4.63 लाख रुपए अन्‍य खर्च आएगा। यानी कि आपका साल भर का खर्च 16.63 लाख रुपए आएगा और यदि यूनिट में बने सभी बैट औसतन 400 रुपए की कीमत में बिक जाते हैं आपकी कुल सेल्‍स 20 लाख रुपए होगी। यानी कि आपको साल भर में 3.37 लाख रुपए की बचत होगी। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss