Home » SME » OpportunityHow can start Gas agency

यूपी सहित 12 राज्‍यों में गैस एजेंसी खोलने का मौका, IBP बना रही है LPG डिस्ट्रीब्यूटर, 10-15 लाख रु आएगा खर्च

IBP Ltd डोमेस्टिक LPG, कमर्शियल LPG और ऑटो गैस सप्‍लाई के लिए Gas Agency ऑफर कर रही है

1 of

नई दिल्‍ली. प्राइवेट गैस कंपनी इंडो ब्राइट पेट्रोलियम (IBP) प्राइवेट लिमिटेड ने यूपी सहित 12 राज्‍यों में ब्‍लाक, तहसील एवं जिला स्‍तर पर डीलरशिप (Gas Agency) खोलने की घोषणा की है और लोगों से आवेदन मांगे हैं। कंपनी के मुताबिक, एजेंसी के लिए आवेदक की इन्‍वेस्‍टमेंट कैपेसिटी 10 से 15 लाख रुपए होनी चाहिए। कंपनी द्वारा डोमेस्टिक एलपीजी, कमर्शियल एलपीजी, ऑटो गैस सप्‍लाई की जाती है। कंपनी द्वारा 6 किग्रा के गैस सिलेंडर 'छोटू' की छोटे शहरों में काफी डिमांड है। जबकि 12.8 किग्रा के गैस सिलेंडर आम घरों में इस्‍तेमाल किया जा सकता है। 

 

किन राज्‍यों में मांगे आवेदन 
कंपनी ने हरियाणा, पंजाब, दिल्‍ली, राजस्‍थान, जम्‍मू कश्‍मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्‍तराखंड, उत्‍तर प्रदेश, बिहार, मध्‍य प्रदेश, झारखंड व पश्चिम बंगाल में ब्‍लॉक, तहसील, जिला स्‍तर पर गैस एजेंसी के लिए आवेदन मांगे हैं। 

 

कौन ले सकता है एजेंसी 
कंपनी ने कहा कि गैस एजेंसी लेने के लिए भारत की नागरिकता आवश्‍यक है। उम्र 21 से 60 साल के बीच होनी चाहिए। आवेदक की मिनिमम क्‍वालिफिकेशन 12वीं होनी चाहिए। आवेदक की इन्‍वेस्‍टमेंट कैपेसिटी 10 से 15 लाख रुपए होनी चाहिए, जबकि आवेदक के पास सिलेंडर स्‍टोरेज के लिए कम से कम 21 बाई 26 मीटर का गोदाम होना जरूरी है। साथ ही, एक ऑफिस के लिए स्‍पेस चाहिए। मार्केट डिमांड के मुताबिक डिलिवरी व्‍हीकल हायर करने होंगे। 

 

आगे पढ़ें : कैसे करें अप्‍लाई 

यह भी पढ़ें : 5 तरीकों से बनिए मोदी सरकार के 'मित्र', होगी अच्छी इनकम, बैंक-टूरिज्म-सोलर सेक्टर में मौका

ले सकते हैं रिटेल आउटलेट भी 
आप गैस एजेंसी की बजाय रिटेल आउटलेट भी ले सकते हैं। इसके लिए आपको ज्‍यादा खर्च नहीं करना पड़ेगा। कंपनी का दावा है कि केवल 2 लाख रुपए में अपने गांव, शहर में रिटेल आउटलेट ले सकते हैं। 

 

कैसे करें अप्‍लाई 
अगर आप IBP गैस की एजेंसी लेना चाहते हैं तो आप http://ibpgas.in/application.pdf से एप्‍लीकेशन फॉर्म डाउलनलोड कर सकते हैं । 

 

आगे पढ़ें : क्‍या है आईबीपी गैस  


क्‍या है आईबीपी गैस 
कुछ वर्ष पेट्रोलियम और गैस सेक्‍टर को प्राइवेट कंपनियों के लिए खोल दिया था। हालांकि सरकारी कंपनियों को मिल रही सब्सिडी की वजह से प्राइवेट कंपनियों को ज्‍यादा ग्रोथ नहीं मिली, लेकिन 2013 से शुरू हुई इंडो ब्राइट पेट्रोलियम प्राइवेट लिमिटेड का दावा है कि उसके पास मजबूत डिस्ट्रीब्‍यूशन एवं स्‍टोरेज नेटवर्क है। इस कारण उसे कंज्‍यूमर्स की संख्‍या बढ़ रही है। कंपनी का दावा है कि सरकारी कंपनियां ने कई कारणों से गैस कनेक्‍शन कैंसिल कर दिए हैं और सब्सिडी को लेकर भी नियमों में बदलाव किया है। इस कारण प्राइवेट कंपनियों की डिमांड बढ़ रही है और आने वाले दिनों प्राइवेट कंपनियों का मार्केट शेयर बढ़ेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट