बिज़नेस न्यूज़ » SME » Opportunityआपके शहरों से गुजरेंगे पानी के जहाज, फायदे के लिए चेक करें लिस्ट

आपके शहरों से गुजरेंगे पानी के जहाज, फायदे के लिए चेक करें लिस्ट

मोदी सरकार की एक महत्‍वपूर्ण योजना है कि नेशनल वाटर-वे का जाल बिछाया जाए

1 of

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार की एक महत्‍वपूर्ण योजना है कि जिस तरह देश भर में नेशनल हाइवे का जाल बिछा हुआ है।उसी तरह नेशनल वाटर-वे का जाल भी बिछाया जाए। इन वाटर-वे पर पानी के जहाज चलेंगे, जिन्‍हें माल लाने-ले जाने में इस्‍तेमाल किया जाएगा। इसकी जिम्‍मेवारी शिपिंग मिनिस्‍टर नितिन गडकरी को सौंपा गया है। शिपिंग मिनिस्‍ट्री ने नेशनल वाटर-वे का रूट फाइनल कर लिया है। पूरी प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार हो चुकी है। लगभग 1620 किलोमीटर लम्‍बे नेशनल वाटर-वे पर लगभग 5369 करोड़ रुपए की कॉस्‍ट का अनुमान है। 

 

आज हम आपको बताएंगे कि ये पानी के जहाज किन-किन शहरों से होकर गुजरेंगे और यदि आपका शहर भी इनमें शामिल है तो आपको क्‍या फायदे होने वाला है? 

 

सस्‍ता पड़ेगा पानी का जहाज 
मिनिस्‍ट्री का दावा है कि अगर आप पानी के जहाज से अपना सामान भेजते हैं तो आपको काफी सस्‍ता पड़ेगा। मिनिस्‍ट्री के मुताबिक अभी हाईवे से माल भेजने पर 2 रुपए 28 पैसे प्रति टन प्रति किलोमीटर का खर्च आता है, जबकि रेल से माल भेजने पर 1 रुपए 41 पैसे प्रति टन प्रति किलोमीटर का खर्च आता है और पानी के जहाज से माल भेजने पर 1 रुपए 19 पैसे प्रति किलोमीटर प्रति टन का खर्च आएगा। इतना ही नहीं, ईंधन की भी बचत होती है। हाईवे से एक लीटर ईंधन से 24 टन माल ले जाया सकता है, जबकि रेल से 85 किमी और वाटर-वे से 105 टन माल ले जा सकता है। 

 

 

आगे पढ़ें : यह होंगे फायदे 

 

यह होंगे फायदे 
अगर नेशनल वाटर-वे वन आपके शहर से होकर गुजरता है और पोर्ट आपके शहर में बनता है तो उसके कई फायदे होंगे। जैसे कि आपकी शहर की इकोनॉमी में बूस्‍ट आएगा। इंडस्ट्रियल एक्टिविटी बढ़ेगी। आपके शहर में लॉजिस्टिक हब डेवलप होगा। आप भी अपना ऐसा बिजनेस शुरू कर सकते हैं, जो वाटर-वे से जुड़ा है। जैसे कि आपके ट्रांसपोर्टेशन का काम शुरू कर सकते हैं। इसके अलावा भी कई तरह के बिजनेस की संभावनाएं बढ़ जाएंगी। आपके शहर में प्रॉपर्टी की कीमतें भी बढ़ने की पूरी संभावना है। जॉब की संभावना तो बहुत बढ़ जाएगी। 

आगे पढ़ें : कौन से हैं शहर 

 

कौन से हैं शहर 
नेशनल वाटर-वे वन इलाहाबाद से शुरू होगा और चुनार, वाराणसी, बक्‍सर, बलिया, पटना, भागलपुर, साहिबगंज, फरक्‍का, पाकुड़, कोलकाता से हल्दिया पर खत्‍म होगा। यह पूरा रूट लगभग 1620 किलोमीटर लंबा होगा। इन शहरों में मल्‍टी मॉडल टर्मिनल और इंटर मॉडल टर्मिनल डेवलप किए जाएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट