Home » SME » Opportunity66 Percent Seats of BPO Scheme Has Been Filled

छोटे शहरों में BPO स्कीम के तहत सरकार भरेगी 17 हजार सीट, अब तक 66% हुआ अलॉटमेंट

मोदी सरकार द्वारा छोटे शहरों में बीपीओ खोलने की स्कीम की 66 फीसदी सीट भर गई है।

1 of
 
 
नई दिल्ली। मोदी सरकार द्वारा छोटे शहरों में बीपीओ खोलने की स्कीम की 66 फीसदी सीट भर गई है। इसके जरिए सरकार करीब एक लाख लोगों के लिए रोजगार के मौके पैदा कर सकेंगी। साथ ही वह बची हुई 17 हजार सीट का भी मई 2018 तक प्रोसेस पूरा करना चाहती है। इसके लिए उसने कंपनियों से आवेदन मांगे हैं। अगर ऐसा होता है तो करीब 51 हजार नए रोजगार के अवसर पैदा  हो सकेंगे। सरकार इसके तहत 27 राज्य और केंद्र शासित राज्यों में बीपीओ खोलने का मौका दे रही है।  खास बात यह है कि बीपीओ खोलने के लिए सरकार आपको पैसे से सपोर्ट भी कर रही है। स्कीम के तहत शुरूआत में बीपीओ सेट अप करने के लिए सरकार कुल खर्च का अधिकतम 50 फीसदी तक इन्वेस्टमेंट सपोर्ट देगी। जिसमें अधिकतम एक सीट के लिए 1 लाख रुपए का इन्वेस्टमेंट सपोर्ट होगा। 

 
 
 
 
16568 हजार सीट के लिए आवेदन करने का मौका 
 
मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से moneybhaskar.com को मिली जानकारी के अनुसार पांचवी बार बिडिंग के लिए आवेदन मांगा गया है। इसके तहत कुल 16568 सीट के आधार पर बीपीओ खोलने के लिए आवेदन किया जा सकता है। अभी तक चार राउंड में करीब 31732 सीट भरी गई हैं। स्कीम के तहत छोटे शहरों में बीपीओ खोलने को खोलने को प्रमोट किया जाता है। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी द्वारा निकाले गए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (RFP) के अनुसार जो भी व्यक्ति या कंपनी बीपीओ खोलना चाहती है, उसे 2 मई तक बिड के लिए अप्लाई करना होगा। अधिकारी के अनुसार बीपीओ स्कीम के तहत कुल 1.50 लाख रोजगार के अवसर पैदा होने का लक्ष्य तय किया गया है। इसके तहत एक सीट को तीन शिफ्ट के आधार पर माना गया है। यानी एक सीट से तीन नौकरी के अवसर पैदा होंगे।
 
आगे पढ़ें, किन राज्यों में कितनी सीटें खाली
 
 
 
 
इन राज्यों में इतनी सीट खाली पड़ी हैं
 
राज्य                     खाली सीट
उत्तर प्रदेश              5120
बिहार                      2190
महाराष्ट्र                  1060
पश्चिम बंगाल           3222
मध्य प्रदेश               2319
राजस्थान                2639
तमिलनाडु                1187
गुजरात                   2079
कर्नाटक                   1139
झारखंड                   238
केरल                      1281
उड़ीसा                     361
पंजाब                      770
हरियाणा                  700
तेलंगाना                  696
 
 
क्या है जरूरी 
 
आरएफपी के अनुसार जो भी व्यक्ति बीपीओ खोलना चाहता है। उसकी एक कंपनी होनी चाहिए। जो कि कंपनी एक्ट के तहत रजिस्टर्ड होनी जरूरी है। इसके अलावा किसी के पार्टनरशिप में भी बीपीओ के लिए अप्लाई किया जा सकता है। साथ ही कंपनी को कम से कम तीन साल से काम करना चाहिए।
 
इसके तहत टर्नओवर के आधार पर कोई भी अप्लाई कर सकता है। 
 
सीट                   मिनिमम टर्नओवरकरोड़ रुपए में (पिछले 3 साल का औसत) 
50                        1
100                      2 
500 तक                5 
1000 तक             15 
2000 तक             40 
5000 तक            150 
 
नोट- अगर कोई कंपनी टर्नओवर के मानक पूरा नहीं कर पा रही है, तो वह 100 फीसदी बैंक गारंटी देकर अप्लाई कर सकेगी।
 
 
 इन्सेंटिव पाने का ये है फॉर्म्युला
 
 
-बीपीओ खोलने पर प्रति सीट 50 फीसदी इन्सेंटिव मिलेगा। जो कि अधिकतम एक लाख रुपए है।
-अगर आप ज्यादा नौकरियां अपने बीपीओ में देते हैं, तो आप ज्यादा इन्सेंटिव ले सकेंगे। इसको इस तरह से समझा जा सकता है, कि अगर आपके बीपीओ में 1000 सीट है और उसे आप 3 शिफ्ट में चलाते हैं, तो आप 3000 लोगों को रोजगार देंगे। ऐसे में आपको 50 फीसदी इन्सेंटिव के अलावा 10 फीसदी एक्स्ट्रा इन्सेंटिव मिलेगा।
 
-इसी तरह 2500 लोगों को रोजगार देते हैं, तो 7.5 फीसदी का एक्स्ट्रा इन्सेंटिव मिलेगा। 
 
-इसी तरह 2000 नौकरियों पर 5 फीसदी का एक्स्ट्रा इन्सेंटिव मिलेगा, साथ ही महिलाओं और दिव्यांगों को नौकरी पर रखने पर भी एक्स्ट्रा  सपोर्ट मिलेगा
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss