बिज़नेस न्यूज़ » SME » Opportunity3 साल में रिन्यूएबल एनर्जी सेक्‍टर में आएंगी 14 लाख जॉब्‍स, सरकार ने तैयार किया ब्लूप्रिंट

3 साल में रिन्यूएबल एनर्जी सेक्‍टर में आएंगी 14 लाख जॉब्‍स, सरकार ने तैयार किया ब्लूप्रिंट

सरकार ने साल 2022 तक 1.70 लाख मेगावाट रिन्‍यूएबल एनर्जी जनरेशन का टारगेट रखा है

1 of

नई दिल्‍ली। सरकार ने साल 2022 तक 1.70 लाख मेगावाट रिन्‍यूएबल एनर्जी जनरेशन का टारगेट रखा है। वहीं, सरकार का एस्टिमेट है कि रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर में तेजी से इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेट होगा और साल 2020 तक इस सेक्‍टर में लगभग 14 लाख जॉब्‍स आएंगी। सरकार के मुताबिक, रिन्‍यूएबल एनर्जी में मैन्‍युफैक्‍चरिंग, फेब्रिकेशन, इंस्‍टॉलेशन, ऑपरेशन एंड मेंटिनेंस, प्रोजेक्‍ट डेवलपमेंट और मार्केटिंग सेक्‍टर में जॉब्‍स क्रिएट होंगी। 

 

मिनिस्‍ट्री ने तैयार की रिपोर्ट 
मिनिस्‍ट्री ऑफ न्‍यू एंड रिन्‍यूएबल एनर्जी (एमएनआरई) ने एक स्‍टडी रिपोर्ट 'इकोनॉमिक रेट ऑफ रिटर्न फॉर वेरियस रिन्‍यूएबल एनर्जी टैक्‍नोलॉजी' तैयार की है। इस रिपोर्ट में इम्‍प्‍लॉयमेंट पर एक चैप्‍टर तैयार किया है। इस रिपोर्ट में रिन्‍यूएबल एनर्जी जैसे सोलर, विंड और स्‍मॉल हाइड्रो सेक्‍टर में अलग-अलग जॉब्‍स का आकलन किया गया है। 

 

3.9 लाख जॉब्‍स हैं अभी 
मिनिस्‍ट्री की रिपोर्ट में कहा गया है कि आईआरईएनए (2017) के मुताबिक अभी रिन्‍यूएबल सेक्‍टर में 3.90 लाख लोग काम कर रहे हैं, जिसमें बड़े हाइड्रो प्रोजेक्‍ट्स शामिल नहीं हैं। जबकि ग्‍लोबल लेबल पर लगभग 98 लाख लोग रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर से डायरेक्‍ट-इन डायरेक्‍ट जुड़े हैं। इसमें सबसे अधिक जॉब्‍स सोलर पीवी और विंड कैटेगिरी में हुई है, जो 2012 के मुकाबले लगभग दोगुना है। 

 

रूफटॉप सोलर प्रोजेक्‍ट्स में जॉब्‍स 
मिनिस्‍ट्री की स्‍टडी रिपोर्ट के ड्राफ्ट में सीईईडब्‍ल्‍यू और एनआरडीसी के सर्वे के आधार पर कहा गया है कि रूफटॉप सोलर, ग्राउंड माउंटेड सोलर, विंड सेक्‍टर और सोलर पीवी मैन्‍युफैक्‍चरिंग में से सबसे अधिक रूफटॉप सोलर प्रोजेक्‍ट्स में जॉब्‍स की संख्‍या बढ़ने की उम्‍मीद है। इस सेक्‍टर में प्रति मेगावाट प्रति वर्ष 24.72 जॉब्‍स जनरेट होंगी। जबकि ग्राउंड माउंटेड सोलर प्रोजेक्‍ट में प्रति वर्ष प्रति मेगावाट 3.45 जॉब्‍स क्रिएट होंगी। इनके मुकाबले विंड प्रोजेक्‍ट्स में प्रति वर्ष प्रति मेगावाट 1.27 जॉब्‍स क्रिएट होंगी। इन दोनों संस्‍थाओं का अनुमान है कि सोलर पीवी मॉड्यूल मैन्‍युफैक्‍चरिंग में प्रति वर्ष प्रति मेगावाट 2.60 जॉब्‍स इनडायरेक्‍ट क्रिएट होने की संभावना है। 

 

इन राज्‍यों में विंड सेक्‍टर में बढ़ेगी जॉब्‍स 
रिपोर्ट में कहा गया है कि विंड सेक्‍टर में कुछ ही राज्‍यों में जॉब्‍स क्रिएट होंगी, इनमें राजस्‍थान, गुजरात, मध्‍य प्रदेश, महाराष्‍ट्र, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और कर्नाटक शामिल हैं। इस रिपोर्ट में 11 लाख 16 हजार 400 ट्रेंड स्‍टाफ की जरूरत पड़ेगी। 

 

Get Latest Update on Budget 2018 in Hindi

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट