Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »SME »Industry Voice» Transform Your People Performance

    परफॉरमेंस मैनेजमेंट से बढ़ेगी वर्कर्स की 50 फीसदी क्षमता, बिजनेस लीडर्स ने सिखा पाठ

    परफॉरमेंस मैनेजमेंट से बढ़ेगी वर्कर्स की 50 फीसदी क्षमता, बिजनेस लीडर्स ने सिखा पाठ
     
    फरीदाबाद। इंडस्‍ट्री, खासकर एसएमई सेक्‍टर में वर्कर्स अपनी क्षमता से लगभग 50 फीसदी कम काम करते हैं, जिसका मतलब है कि एसएमई सेक्‍टर में सैलरी पर 50 फीसदी अधिक खर्च किया जा रहा है, इसलिए एसएमई सेक्‍टर को परफॉरमेंस मैनेजमेंट पर फोकस करना चाहिए। इसके लिए शुक्रवार को इंटिग्रेटिड एसोसिएशन्‍स ऑफ माइक्रो, स्‍मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (आईएम एसएमई) ऑफ इंडिया की ओर से परफॉरमेंस मैनेजमेंट वर्कशॉप का आयोजन किया गया।
     
    खुद को बदलना जरूरी
     
    आईएमएसएमई ऑफ इंडिया के चेयरमैन राजीव चावला ने कहा कि आने वाले 5-7 साल में 7 तरह के बिजनेस बंद हो जाएंगे, जिस तरह कैमरों में इस्‍तेमाल होने वाली फिल्‍म की इंडस्‍ट्री बंद हो गई, टाइपराइटर बंद हो गए हैं, उसी तरह आगे भी यह सिलसिला चलता रहेगा, इसलिए जरूरी है कि इंडस्‍ट्री को वक्‍त के हिसाब से खुद को बदलना होगा। लगातार हो रहे नए-नए प्रयोगों को अपनाना होगा। इसके लिए इस तरह की वर्कशॉप में अपना समय देना होगा। उन्‍होंने कहा कि कई तरह की स्‍टडी बताती हैं कि इंडस्‍ट्री में काम रहे रहे वर्कर्स अपनी पूरी क्षमता से काम नहीं करते, इसलिए उनकी परफॉरमेंस सुधारने के लिए बिजनेस लीडर्स को कुछ तरीके अपनाने होंगे, जिसकी जानकारी इस वर्कशॉप में दी गई।
     
    अपने इम्‍प्‍लॉइज की परफॉरमेंस बढ़ाए
     
    इससे पहले ट्रेनर परफॉरमेंस इनहासमेंट प्रेक्‍टिशनर और बिजनेस ट्रांसफॉरमेशन कोच राकेश शर्मा ने बताया कि बिजनेस की ग्रोथ के लिए यह बेहद जरूरी है कि संस्‍थान में काम कर रहा हर व्‍यक्ति पूरी तरह परफॉर्म करे। इसका तरीका आसान है, सबसे पहले बिजनेस लीडर को एक लक्ष्‍य निर्धारित करना होगा। इसके बाद अपने साथ जुड़े हर इम्‍पलॉयज को बिजनेस के लक्ष्‍य के बारे में बताना होगा और हर इम्‍पलॉयज का टारगेट तय करना होगा। इसके बाद लगातार कॉम्‍युनिकेट करके इम्‍पलॉयज को प्रेरित करना होगा कि वे अपना टारगेट हासिल करें।
     
    ये हैं तरीके
     
    अपने इम्प्लॉइज की परफॉरमेंस ट्रांसफॉर्म करने के लिए शर्मा ने 11 प्‍वाइंट्स बताए।
    - अपने हर इम्‍प्‍लॉइज को एक बड़ी पिक्‍चर दिखाएं और महीने में एक बार जरूर संवाद स्‍थापित करें।
    - एक बड़ा लक्ष्‍य निर्धारित करें और इम्‍प्‍लॉयज को बताएं कि हम सब मिलकर इस लक्ष्‍य को पाने के लिए काम कर रहे हैं।
    - इम्‍प्‍लॉइज को एकांउटेबल बनाएं, उनके टारगेट तय करके हर माह उनकी परफॉरमेंस रिपोर्ट पेश करें।
    - बिजनेस लीडर होने के नाते अपने अधिकारों का जायज प्रयोग करें।
    - हर इम्‍प्‍लॉइज के साथ पर्सनल रिलेशनशिप बनाएं ।
    - इम्‍प्‍लॉइज की कॉ बढ़ाने के लिए स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम आयोजित किए जाएं।
    - इम्‍प्‍लॉइज को बेस्‍ट वर्किंग कंडीशन दें।
    - अपने इम्‍प्‍लॉइज के लिए रोल मॉडल बनें ।
    - समय समय पर मोटिवेट करें ।  
    - पॉवर को डेलिगेट करके अपने इम्‍प्‍लॉइज को प्रमोट करें।
    - खुद के लिए एक डेलिगेशन मैप तैयार करें।  

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY