बिज़नेस न्यूज़ » SME » Financing1224 करोड़ से रोजगार के नए अवसर पैदा करेगी मोदी सरकार, बजट में 20% का इजाफा

1224 करोड़ से रोजगार के नए अवसर पैदा करेगी मोदी सरकार, बजट में 20% का इजाफा

रोजगार के मामले में लगातार घिर रही मोदी सरकार अब प्रधानमंत्री रोजगार योजना पर दांव खेल रही है

1 of

 

नई दिल्‍ली. रोजगार के मामले में लगातार घिर रही मोदी सरकार अब प्रधानमंत्री रोजगार योजना पर दांव खेल रही है। सरकार इस योजना का बजट बढ़ाने की तैयारी कर रही है। आम बजट 2017-18 में इस योजना पर 1024 करोड़ रुपए खर्च का प्रावधान किया गया था, लेकिन अब सरकार इसे बढ़ा कर 1224 करोड़ रुपए करने जा रही है। पिछले दिनों मिनिस्‍ट्री ऑफ माइक्रो, स्‍मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज और डिपार्टमेंट ऑफ एक्‍सपेंडिचर के बीच हुई बैठक में इस पर सहमति बनी है। 

 

कितना बढ़ा बजट? 
मिनिस्‍ट्री ऑफ एमएसएमई के एक वरिष्‍ठ अधिकारी के मुताबिक, फाइनेंस मिनिस्‍ट्री ने प्रधानमंत्री रोजगार योजना (पीएमईजीपी) के बजट में 200 करोड़ रुपए बढ़ाने पर सहमति  जताई है। इसके अलावा खादी रिफॉर्म डेवलपमेंट प्रोग्राम और टैक्‍नोलॉजी सेंटर सिस्‍टम प्रोग्राम के बजट में 563 करोड़ रुपए का इजाफा करने पर सहमति जताई गई है। अधिकारी ने बताया कि इस बैठक में मिनिस्‍ट्री ने अपने रिवाइज्‍ड बजट को 6481.96 करोड़ से बढ़ाकर कर 10584.28 करोड़ करने की सिफारिश की थी, लेकिन अभी केवल दो स्‍कीम का बजट बढ़ाने पर ही सहमति जताई गई है। 

 

क्‍या है पीएमईजीपी?
युवाओं को रोजगार देने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री रोजगार योजना बेहद लोकप्रिय है। इस स्‍कीम के तहत जिला उद्योग केंद्र के माध्‍यम से बेरोजगारों को लोन दिया जाता है। मैन्‍युफैक्‍चरिंग यूनिट के लिए 25 लाख और सर्विस यूनिट के लिए 10 लाख रुपए तक लोन बिना किसी गारंटी के दिया जाता है। साथ ही, सरकार अर्बन एरिया में 15 और रूरल एरिया में 25 फीसदी सब्सिडी भी देती है। 

 

510 करोड़ खर्च 

मिनिस्‍ट्री ऑफ एमएसएमई के अनुसार, इस स्‍कीम के तहत फाइनेंशियल ईयर 2017-18 के लिए 31 अक्‍टूबर 2017 तक 265773 आवेदन आ चुके हैं। जिन्‍हें डिस्ट्रिक्‍ट लेवल टास्‍क फोर्स कमेटी की छंटनी के बाद बैंकों को भेजा जा रहा है। अब बैंकों को 510.49 करोड़ रुपए की सब्सिडी रिलीज की जा चुकी है। इससे 18827 नए माइक्रो एंटरप्राइजेज शुरू हुए। 

 

सरकार ने घटा दिया था बजट 

दिलचस्‍प बात यह है कि अब सरकार पीएमईजीपी का बजट बढ़ा रही है, लेकिन इससे पहले सरकार ने बजट कम कर दिया था। बजट रिपोर्ट बताती है कि पीएमईजीपी पर साल 2015-16 में 1281 करोड़ रुपए खर्च किए थे। लेकिन साल 2016-17 में बजट एस्टिमेट में इसे कम करके 1139 करोड़ रुपए किया गया और बाद में रिवाइज्‍ड बजट में इसे और कम कर 1120 करोड़ रुपए कर दिया गया। और नोटबंदी जैसे बड़े फैसले के बाद पेश किए गए आम बजट 2017-18 में इसे और कम कर 1024 करोड़ रुपए कर दिया गया। हालांकि अब इसे बढ़ा कर साल 2015-16 के स्‍तर पर लाया जा रहा है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट