Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »SME »Financing» Loan Of 55, 000 Crore Is At Risk Of Default Says Cibil

    डूब सकता है छोटे कारोबारि‍यों को दिया 55000 करोड़ का लोन : Cibil

    डूब सकता है छोटे कारोबारि‍यों  को दिया 55000 करोड़ का लोन : Cibil
    नई दि‍ल्‍ली। छोटे उद्योगों को दि‍या गया करीब 55 हजार करोड़ का लोन डूबने के कगार पर है। क्रेडि‍ट इनफॉर्मेशन ब्‍यूरो (Cibil) की ताजा रि‍पोर्ट के मुताबि‍क माइक्रो, स्‍मॉल और मीडि‍यम इंटरप्राइजेज यानी एमएसएमई को दि‍ए गए लोन में से इतनी रकम की वापसी के आसार अब नजर नहीं आ रहे। क्रेडि‍ट हि‍स्‍ट्री के डेटा को एनालाइज करने के बाद यह पॉसि‍बि‍लि‍टी यह सामने आई है।
     
    एनपीए 8.7 फीसदी पर बना हुआ है
     
    ट्रांसयूनि‍यन सि‍बि‍ल के एमडी और सीईओ सतीश पि‍ल्‍लई ने कहा कहा कि‍ बैंकों ने MSME  को करीब 12 लाख करोड़ रुपये का लोन दि‍या है। दस लाख रुपये से 10 करोड़ के सेगमेंट में जारी हुए कुल लोन का यह 21 फीसदी है। इस सेक्‍टर में पि‍छले साल क्रेडि‍ट रेट 11 फीसदी की दर से बढ़ा मगर एनपीए 8.7 फीसदी पर बना हुआ है।
     
    54,800 करोड़ का लोन रि‍स्‍क के दायरे में
     
    सीबि‍ल एमएसएमई रैंक (CMR) सॉफ्टवेयर की मदद से क्रेडि‍ट रि‍स्‍क कैलकुलेट कि‍या जाता है। इसमें पुराने आंकड़ों को भी आधार बनाया जाता है। यह 1 से लेकर 10 तक की रैंक देता है, जि‍तने ज्यादा नंबर उतना ज्‍यादा पैसे डूबने का रि‍स्‍क। ताजा रि‍पोर्ट के मुताबि‍क, 7 स्कोर वाली एमएसएमई 7 फीसदी, 8 स्‍कोर वाली 2 फीसदी और 9 स्कोर वाली भी 2 फीसदी हैं और इनको जारी कुल 54,800 करोड़ का लोन रि‍स्‍क के दायरे में है।
     
     
    पि‍ल्‍लई के मुताबि‍क, बैंकों और लोन देने वाली अन्‍य संस्‍थाओं को क्रेडि‍ट स्कोर उपलब्‍ध कराने का कदम इन संस्‍थाओं के लि‍ए एक औजार की तरह काम करेगा। इसकी बदौलत बैंक व अन्‍य संस्‍थाएं तेजी से काम कर पाएंगे और यह फील्‍ड वैरि‍फि‍केशन के काम को भी घटा देगा। इन आंकड़ों से ऐसे लोगों को सहूलि‍यत मि‍लेगी जि‍नका उधारी लौटाने का रि‍कॉर्ड अच्छा है। ऐसे लोगों को जल्‍दी और आसानी से लोन मि‍ल पाएगा।
     
    टीयू सि‍बि‍ल स्‍कोर अन्‍य क्रेडि‍ट रेटिंग एजेंसि‍यों की रि‍पोर्ट से अलग होगा। इस स्कोर की बदौलत असुरक्षि‍त पर्सनल लोन बि‍जनेस को फि‍र से जीवन मि‍ल गया है जो 2008 में बड़े पैमाने पर हुए डि‍फॉल्‍ट के चलते थम गया था।
     
    एक्सिस बैंक के चीफ फाइनेंशि‍यल ऑफि‍सर जयराम श्रीधरन ने कहा, ‘ हमारा मानना है कि‍ सीबि‍ल एमएसएमई रैंक रिस्क मैनेजमेंट के लि‍ए महत्‍वपूर्ण जानकारी दे सकता है। इससे ऐसे छोटे कारोबारि‍यों को लोन मि‍लने के अवसर और बढ़ जाएंगे, जि‍नके साथ कम रि‍स्क जुड़ा होगा। अगले कुछ माह में हम सीबि‍ल एमएसएमई रैंक का इस्‍तेमाल करना शुरू कर देंगे।‘
     
     

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY