विज्ञापन
Home » Personal Finance » Investmentchild can be a Millionaire in 18 years from investing in mutual funds

निवेश / म्युच्युअल फंड में निवेश से 18 साल में बच्चा बन सकता है करोड़पति

बच्चे के जन्म लेते ही 5000 रुपए से शुरू करना होगा निवेश

child can be a Millionaire in 18 years from investing in mutual funds
  • सिंगल नाम से ही निवेश कर सकते हैं शुरू
  • इक्विटी म्‍युचुअल फंड ने दिया है अच्‍छा रिटर्न

नई दिल्ली। हर मां-बाप अपने बच्चों को खुशहाल देखना चाहता है। कई बार वे अपने बच्चों के आर्थिक भविष्य को मजबूत बनाने में सक्षम होते हैं, लेकिन उचित सुझाव के अभाव में ऐसा नहीं कर पाते हैं। मनी भास्कर ने इस दिशा में म्युच्युअल फंड विशेषज्ञों से बातचीत की। उस बातचीत के आधार पर मनी भास्कर आपको बता रहा है कि बच्चों के आर्थिक भविष्य को सुनहरा कैसे बनाया जा सकता है। जानकारों का कहना है कि म्युचुअल फंड में यह सुविधा हासिल है, जिसके लिए उम्र की भी कोई सीमा नहीं है। पैरेंट्स बच्चों को मिलने वाले पॉकेट मनी से ऐसा कर सकते हैं, जिससे बच्चे सेविंग के लिए प्रोत्साहित होंगे। ऐसे निवेश को 18 वर्ष की उम्र तक जारी रखा जा सकता है। अगर मां-बाप अपना निवेश 18 वर्ष तक चलाते रहें, तो बच्‍चा आराम से करोड़पति भी बन सकता है।

18 साल की बचत से बच्‍चा हो सकता है करोड़पति

विशेषज्ञों के मुताबिक बच्‍चे के नाम पर जन्‍म लेते ही म्‍युचुअल फंड में 5000 रुपए से निवेश शुरू करना होगा। इस निवेश में हर साल 15 फीसदी की बढ़ोतरी करते जाएं। अगर इस निवेश पर औसतन हर साल 12 फीसदी का रिटर्न मिले तो 18 साल में बच्‍चा करोड़पति बन जाएगा।

सिंगल नाम से ही निवेश कर सकते हैं शुरू

बच्‍चे के लिए सिंगल नाम से ही म्‍युचुअल फंड में निवेश शुरू किया जा सकता है। ऐसे निवेश में अभिभावक का नाम रहता है।

बच्‍चे के नाम हर माह जमा कर सकते हैं पैसा 

म्‍युचुअल फंड में सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान (सिप) काफी चर्चित निवेश का जरिया है। अगर कोई चाहता है कि उसके बच्‍चे के नाम पर सिप शुरू की जाए तो यह भी संभव है। लेकिन यह सिप केवल बच्‍चे के 18 साल के होने तक ही चल सकती है।

क्‍या-क्‍या दस्‍तावेज चाहिए

इन दस्‍तावेजों में बच्‍चे की उम्र के साथ पिता या कोर्ट से नियुक्‍त अभिभावक के दस्‍तावेज लगाने होते हैं। उम्र के लिए बच्‍चे का जन्म प्रमाणपत्र होना चाहिए। अगर बच्‍चे का पासपोर्ट हो तो वह भी मान्‍य है। यह दस्‍तावेज म्‍युचुअल फंड में निवेश शुरू करते वक्‍त चाहिए होते हैं। बाद में अगर इसी फोलियो में और निवेश करना हो तो किसी भी तरह के दस्‍तावेज की जरूरत नहीं पड़ती है। लेकिन अगर किसी अन्‍य म्‍युचुअल फंड की योजना में निवेश शुरू करना हो तो फिर से यही प्रक्रिया दोहरानी होती है। म्‍युचुअल फंड में इस निवेश के लिए बच्‍चे का बैंक खाता भी जोड़ा जा सकता है और गार्जियन का बैंक खाता भी जोड़ा जा सकता है।

18 साल बाद बच्‍चे के नाम हो जाएगा निवेश

बच्‍चे के 18 साल का होने पर एक प्रक्रिया के बाद यह निवेश आम लोगों की तरह बच्‍चे के नाम पर हो जाएगा। म्‍युचुअल फंड कंपनियां बच्‍चे के 18 साल का होने पर इस प्रक्रिया को पूरा करने के दस्‍तावेज भेजती हैं। लेकिन अगर आप ने यह प्रक्रिया किसी भी कारण से पूरा करने में देर की तो बच्‍चे के नाम के म्‍युचुअल फंड निवेश में न तो पैसा जमा किया जा सकेगा, न ही उसे निकाला जा सकेगा। 18 साल का होने पर बच्‍चे के नाम पर म्‍युचुअल फंड KYC की प्रक्रिया करते हैं। इसमें बच्‍चे के नाम का बैंक अकाउंट और PAN चाहिए होता है, जिसके बाद यह प्रक्रिया पूरी हो जाती है।

इक्विटी म्‍युचुअल फंड ने दिया है अच्‍छा रिटर्न

विशेषज्ञों ने बताया कि अच्‍छा रिटर्न पाने के लिए इक्विटी म्‍युचुअल फंड अच्‍छा विकल्‍प हैं। यहां पर पिछले एक साल में ढेरों योजनाओं ने 50 फीसदी से ज्‍यादा का रिटर्न दिया है। हालांकि हर साल इतने अच्‍छे रिटर्न की उम्‍मीद रखना ठीक नहीं है, लेकिन लंबे समय के निवेश पर 12 फीसदी तक रिटर्न आराम से पाया जा सकता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन