Home » Personal Finance » Retirement » Step To Step GuidePF withdraw form EPFO after job switching

ये है PF निकालने की स्‍टेप बाय स्‍टेप प्रॉसेस

अगर आप नौकरीपेशा हैं, तो निश्चित तौर पर कंपनी आपकी सेलरी से कुछ राशि पीएफ के रूप में काटती होगी। नौकरी छोड़ने के बाद यह पैसा आपको कैसे मिलेगा, इसके बारे में जानकारी होनी चाहिए।

1 of
नई दिल्ली। अगर आप नौकरीपेशा हैं, तो निश्चित तौर पर कंपनी आपकी सेलरी से कुछ राशि पीएफ के रूप में काटती होगी। नौकरी छोड़ने के बाद यह पैसा आपको कैसे मिलेगा, इसके बारे में जानकारी होनी चाहिए। मनीभास्‍कर आपको पीएफ का पैसा निकालने की पूरी प्रक्रिया बता रहा है।
 
1- ईपीएफओ की बेवसाइट से पहले आप फॉर्म-19 और फॉर्म-10C डाउनलोड करें। इन दोनों फॉर्म को भर कर एम्‍प्‍लायर के एचआर के पास जमा करना होता है। इस फॉर्म में आपको अपना बैंक अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर, नाम और एड्रेस जैसी जानकारियां भरनी होती हैं और 1 रुपए के दो रेवेन्‍यू स्‍टॉम्‍प फॉर्म में दी जगह पर लगाने होते हैं।
 
इस फॉर्म को कंपनी के अधिकारियों द्वारा वेरिफाई किया जाता है, जिसमें आपकी जानकारियों की जांच की जाती है। सामान्य तौर पर इस वेरिफिकेशन में मामूली समय लगता है, लेकिन यदि फॉर्म अधिक हों, तो समय अधिक भी लग सकता है।
 
2- पीएफ का पैसा निकालने के लिए आपको नौकरी छोड़ने के बाद 2 महीने तक इंतजार करना होता है। इसका मतलब यह हुआ कि यदि 31 अक्टूबर आपका आखिरी वर्किंग डे है, तो आप इसके 2 महीने बाद 31 दिसंबर 2014 के बाद ही पीएफ निकालने के लिए अपने पुराने ऑफिस में आवेदन कर सकते हैं।
 
3- एम्प्लायर द्वारा वेरिफाई करने के बाद इन दोनों फॉर्म को ईपीएफओ के ऑफिस में जमा करना होता है। इसे कर्मचारी खुद भी ले जाकर जमा करा सकता है।
 
ईपीएफओ कार्यालय में भी इन दोनों फॉर्म का वेरिफिकेशन किया जाता है। इस वेरिफिकेशन में आपका अकाउंट नंबर, हस्ताक्षर, कंपनी के अधिकारी के हस्ताक्षर आदि की जांच की जाती है। वेरिफिकेशन पूरी होने के बाद ईपीएफओ के अधिकारी फॉर्म को आगे की प्रक्रिया के लिए फाइनेंस डिपार्टमेंट में भेज देते हैं।
 
4- इसके कुछ दिनों के बाद पैसा सीधे आपके अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है। यदि आप चाहें, तो इसे आपको कूरियर द्वारा भी भेजा जा सकता है। इसके लिए आपको फॉर्म में पहले से ही बताना होगा कि पैसे कूरियर द्वारा चाहिए या फिर सीधे अकाउंट में पैसा ट्रांसफर करना है।
 
ईपीएफओ ऑफिस से वेरिफाई हो जाने के कम से कम 7 दिन बाद आपको पैसे भेज दिए जाते हैं। आपको पैसे मिलने में अधिकतम45 दिन का भी समय लग सकता है।
 
UAN स्टेटस ऐसे पता करें
 
1 जनवरी 2014 से सरकार ने UAN को जरूरी कर दिया है। आप यूएएन नंबर ईपीएफओ की साइट पर डाल कर खुद से पता कर सकते हैं कि जिस कंपनी में काम कर रहे हैं, वह पीएफ का पैसा जमा करा भी रही है या नहीं। 
 
यूएएन स्‍टेटस पता करने के लिए http://uanmembers.epfoservices.in/check_uan_status.php पर क्लिक करें। इसके बाद जो पेज खुलेगा उसमें मांगी गई सभी जानकारी को भरना होगा। जानकारी भरने के बाद 'चेक स्‍टेटस' पर क्लिक करें। इसके बाद एक मैसेज दिखेगा। इसका मतलब है कि आपको UAN नंबर मिल गया है।
 
अब UAN नंबर एक्टिव है या नहीं इसको चेक करने के लिए uanmembers.epfoservices.in पर जाएं और यहां पर मांगी गई सारी जानकारी भरें। इसके बाद वेरिफिकेशन कोड डालकर गेट पिन पर क्लिक करें। इसके बाद आपके रजिस्‍टर्ड मोबाइल पर एक पिन आएगा। इसके बाद जो विंडो खुलेगी उस पर यूएएन नंबर और पासवर्ड डालकर क्लिक करें और पीएफ की पूरी जानकारी लें।
अगर आप जिस कंपनी में काम कर रहे हैं अगर वह बंद हो गई है या भाग गई है तो भी आप अपना पीएफ निकाल सकते हैं। आप अपने इलाके के मेयर से जांच करा कर दिए हुए पीएफ नंबर से अपना पीएफ निकाल सकते हैं। पीएफ अंशधारक की मृत्‍यु हो जाने पर परिवार का कोई दूसरा सदस्‍य फार्म नंबर 20 भरकर पीएफ निकाल सकता है।
 
अगली स्‍लाइड में पढ़ें, आधार नंबर का वेरेफि‍केशन...
 
आधार नंबर का वेरिफिकेशन
 
जालान के अनुसार हम ऑनलाइन पीएफ निकासी की सुविधा को जल्द से जल्द लॉन्च करना चाहते हैं लेकिन इससे पहले हम उन क्‍लेम का निपटारा करना चाहेंगे, जिन्होंने अपने क्लेम फार्म में आधार नंबर दे रखा है। इसके लिए हम उन क्लेम को तीन दिन के अंदर पूरा करने की कोशिश करेंगे जिस पर आधार नंबर दिया गया है। अभी क्लेम का रिफंड मिलने में20 दिन का समय लगता है।  
 
अगली स्‍लाइड में पढ़ें, UIDAI के लिए EPFO बना रजिस्ट्रार... 
 
UIDAI के लिए EPFO बना रजिस्ट्रार
 
ऑनलाइन फैसिलिटी को जल्द से जल्द शुरू करने के लिए ईपीएफओ, UIDAI का रजिस्ट्रार भी बन गया है। इसके अलावा ईपीएफओ UIDAI का ऑनलाइन ऑथेंन्टिकेट करने की एजेंसी भी बना है। ऑनलाइन काम करने के लिए पीएफ के 40फीसदी अंशधारकों के पास UAN नंबर होने चाहिए, जिनका आधार के साथ-साथ बैंक अकाउंट नंबर भी लिंक हो।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss