बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Property » Updateरियल एस्‍टेट मार्केट में सुधार की बनी संभावना, ये हैं पांच वजह

रियल एस्‍टेट मार्केट में सुधार की बनी संभावना, ये हैं पांच वजह

मोदी सरकार ने कई बडे़ फैसले लिए हैं, वहीं राज्या सरकारों ने भी कई कदम उठाए हैं, इसके चलते मार्केट में सुधार आने के संकेत मिलने लगे हैं।

1 of
 
नई दिल्‍ली। साल 2015 को रियल एस्‍टेट मार्केट के लिए सबसे बुरा माना गया है, लेकिन पिछले तीन माह में जहां मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले लिए हैं, वहींं राज्‍य सरकारों ने भी कई कदम उठाए हैं, इसके चलते मार्केट में सुधार आने के संकेत मिलने लगे हैं। रियल एस्‍टेट के जानकारों का कहना है कि मार्केट में बुरा दौर खत्‍म होने वाला है और अब मार्केट में धीरे-धीरे सुधार होगा। आइए जानते हैं, क्‍या हैं ये बड़ी पांच वजह  - 
 
सर्किल रेट में कमी 
 
हरियाणा सरकार ने गुड़गांव व फरीदाबाद में जमीन के सर्किल रेट में 15 फीसदी की कमी कर दी है। दिल्‍ली सरकार भी सर्किल रेट में कमी करने के लिए पब्लिक से राय लेने की घोषणा कर चुकी है। उत्‍तराखंड भी सर्किल रेट घटने का प्रस्‍ताव रख चुका है। पब्लिक के बढ़ते दबाव को देखते हुए नोएडा-ग्रेटर नोएडा में अभी स्‍टांप ड्यूटी को लेकर कोई फैसला नहीं  लिया गया है। प्रॉपर्टी कंसलटेंट जेएलएल के मुताबिक सर्किल रेट कम होने से रियल एस्‍टेट मार्केट में काफी सुधार होगा। जबकि नोएडा के लोट्स ग्रीन्‍स के ग्रुप डायरेक्‍टर तपन सांगल का कहना है कि गुड़गांव में पहली सर्किल रेट कम हुए हैं, जब‍कि यह रियल एस्‍टेट सेकेंडरी मार्केट के लिए स्‍वागतयोग्‍य कदम है। अभी यह देखना होगा कि इसका गुड़गांव के रियल एस्‍टेट मार्केट पर क्‍या फर्क पड़ेगा। 
 
क्रेडाई ने यूपी सरकार को लिखा लैटर
 
सर्किल रेट को लेकर रियल एस्‍टेट सेक्‍टर के सेंटीमेंट का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कंफेडरेशन ऑफ रियल एस्‍टेट डेवलपर्स एसोसिएशन्‍स ऑफ इंडिया (क्रेडाई ) ने उत्‍तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव को  लैटर लिख कर कहा है कि नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद का सर्किल रेट न बढ़ाया जाए। 
 
7वें पे-कमीशन से सुधरेंगे हालात 
 
रियल एस्‍टेट मार्केट में सुधार की उम्‍मीद सातवें पे-कमीशन की वजह से अधिक दिखाई दे रही है। माना जा रहा है कि सेंट्रल गवर्मेंट के कर्मचारियोंं की सेलरी बढ़ने से रियल एस्‍टेट सेक्‍टर में इंवेस्‍टमेंट बढ़ेगा। जिंदल रियल्‍टी प्राइवेट लिमिटेड के एमडी एवं सीइओ गौरव जैन ने 'मनीभास्‍कर' से कहा कि सेलरी बढ़ने से कर्मचारी रियल एस्‍टेट सेक्‍टर में इंवेस्‍टमेंट करेंगे। प्रॉपर्टी कंसलटेंसी फर्म जेएलएल भी पे-कमीशन लागू होने के बाद रियल एस्‍टेट में सुधार की उम्‍मीद देख रहा है। 
 
रिटेल रियल एस्‍टेट में भी होगा सुधार 
 
जेएलएल, इंडिया के चेयरमैन एवं सीइओ अनुज पुरी का कहना है कि 24 घंटे बाजार और मॉल्‍स खुलने से रिटेल रियल एस्‍टेट में सुधार दिखेगा।  अभी तक शॉप्‍स और कमर्शियल सेक्‍टर में बिक्री धीमी पड़ी हुई थी उसमें भी तेजी आने की उम्‍मीद है। 
 
अगली स्‍लाइड में पढ़ें - और कौन सी हैं वजह 
 
 
 
 
इंवेस्‍टमेंट ट्रस्‍ट रेग्‍युलेशन से भी होगा सुधार 
 
हाल ही में रियल एस्‍टेट इंवेस्‍टमेंट ट्रस्‍ट के नियमों में बदलाव किया गया है और ट्रस्‍ट को अंडर कंस्‍ट्रक्‍शन प्रोजेक्‍ट में 20 फीसदी तक इंवेस्‍टमेंट की छूट दी गई है। एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि इससे रियल एस्‍टेट मार्केट में खासा सुधाार होगा। खासकर जो प्रोजेक्‍ट रुके हुए हैं, उन्‍हें पूरा करने में डेवलपर्स को काफी मदद मिलेगी और इसका असर मार्केट सेंटीमेंट पर दिखेगा । 
 
रियल एस्‍टेट बिल से हुई शुरुआत 
 
एक्‍सपर्ट्स मानते हैं कि रियल एस्‍टेट सेक्‍टर के लिए रियल एस्‍टेट ( रेग्‍युलेशन एंड डेवलपमेंट) एक्‍ट बहुत बड़ा कदम साबित होगा। मार्केट में सुधार की उम्‍मीद भी यहीं से दिखनी शुरू हुई है। नेरडेको के गवर्निंग काउंसिल के सदस्‍य एवं जिंदल रियल्‍टी के सीइओ गौरव जैन ने कहा कि एक्‍ट पूरी तरह लागू होने के बाद बायर्स की सोच बदल जाएगी और वह बिना किसी डर के मार्केट में पैसा लगाएगाा, इससे मार्केट का पूरा सीन बदल जाएगा। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट