बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Property » Updateरेडी-टू-मूव फ्लैट्स की बढ़ेगी डिमांड, टियर-टू, थ्री सिटीज को मिलेगा फायदा

रेडी-टू-मूव फ्लैट्स की बढ़ेगी डिमांड, टियर-टू, थ्री सिटीज को मिलेगा फायदा

बृहस्‍पतिवार के कैबिनेट के फैसले से रियल एस्‍टेट मार्केट को काफी बूस्‍ट मिलेगा।

1 of

नई दिल्‍ली। बृहस्‍पतिवार के कैबिनेट के फैसले से रियल एस्‍टेट मार्केट को काफी बूस्‍ट मिलेगा। इससे रेडी-टू-मूव फ्लैट्स की डिमांड बढ़ेगी। साथ ही, इसका फायदा टियर-टू व थ्री सिटीज को अधिक मिलेगा। एक्‍सपर्ट्स मानते हैं कि मोदी सरकार ने अफोर्डेबल हाउसिंग सेगमेंट को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए हैं और अब बायर्स को इसका फायदा उठाना चाहिए।  

 

क्‍या है फैसला 
कैबिनेट ने बृहस्‍पतिवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत क्रेडिट लिंक्‍ड सब्सिडी स्‍कीम का दायरा बढ़ाने का निर्णय लिया है। अब 12 लाख रुपए तक इनकम वाले मिडिल क्‍लास के लोग 120 वर्ग मीटर साइज के फ्लैट खरीदने पर सब्सिडी का लाभ ले सकेंगे। जबकि 18 लाख रुपए तक के इनकम ग्रुप को अब 150 वर्ग मीटर के फ्लैट खरीदने पर सब्सिडी मिलेगी। पहले यह सब्सिडी 90 और 110 वर्ग मीटर तक ही मिलती थी। 

 

अफोर्डेबल हाउसिंग को होगा फायदा 
अनारॉक प्रॉपर्टी कंसलटेंट के चेयरमैन अनुज पुरी ने moneybhaskar.com से कहा कि सरकार के इस फैसले से अफोर्डेबल हाउसिंग सेगमेंट में डिमांड और सप्‍लाई बढ़ेगी। पुरी के मुताबिक, सरकार ने पिछले कुछ समय के दौरान जितने भी कदम उठाए हैं, उससे 40 लाख से कम कीमत वाले घरों की डिमांड बढ़ी है। साल 2017 के तीसरे क्‍वार्टर की रिपोर्ट बताती है कि देश के दस शहरों में 40 लाख से कम कीमत वाले फ्लैट्स की लॉन्चिंग बढ़ी है, जिसका शेयर आधे से अधिक लगभग 52 फीसदी है। 

 

रेडी-टू-मूव की डिमांड बढ़ेगी 
कंफेडरेशन ऑफ रियल एस्‍टेट डेवलपर्स एसोसिएशन्‍स (क्रेडाई), वेस्‍टर्न यूपी के सेक्रेट्री सुरेश गर्ग ने moneybhaskar.com  से कहा कि यह सरकार का बड़ा फैसला है, जिससे रियल एस्‍टेट इंडस्‍ट्री को काफी फायदा होगा। उन्‍होंने कहा कि इसका सबसे अधिक फायदा उन डेवलपर्स को होगा, जिनके पास रेडी-टू-मूव फ्लैट्स की संख्‍या अधिक है। एक्सोटिका हाउसिंग के एमडी दिनेश जैन ने भी कहा कि क्रेडिट लिंक्‍ड सब्सिडी स्‍कीम का दायरा बढ़ने से अब घर खरीददारों के लिए विकल्‍प्‍ा बढ़ गया है। हालांकि उन्‍होंने कहा कि मार्केट में रेडी-टू-मूव की संख्‍या अच्‍छी खासी है, जिस कारण मार्केट में बूम आने की पूरी संभावना है। 

 

टियर-टू और थ्री सिटीज को होगा फायदा 
अनुज पुरी ने कहा कि अफोर्डेबल मार्केट पर सरकार के फोकस के बाद टियर-टू और थ्री सिटीज को काफी फायदा मिल रहा है।  ताजा एस्टिमेट के मुताबिक, टियर टू और थ्री सिटीज में पिछले साल के मुकाबले साल 2017 में 17 फीसदी वृद्धि हुई है। इनमें जयपुर, चंडीगढ़, अमृतसर, सोहना, लखनऊ, नागपुर, सूरत, वडोदरा और विशाखापट्टनम प्रमुख हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट