इन 400 शहरों में बढ़ेंगी प्रॉपर्टी की कीमत, आएगी पीएनजी, एयरपोर्ट और हाईवे

अगर आपके शहर में कोई ऐसा प्रोजेक्‍ट शुरू हो, जिससे आपकी प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ने लगे। शायद आपने कभी ध्‍यान न दिया हो, लेकिन यह हकीकत है। इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर एक्‍सपर्ट्स मानते हैं कि अगर आपके शहर में कोई नया इंफ्रा प्रोजेक्‍ट शुरू हो या कोई नागरिक सुविधा शुरू हो, तो उसका सीधा असर शहर की प्रॉपर्टी प्राइस पर पड़ता है। आपको इस बारे में तब पता चलता है, जब आप नई प्रॉपर्टी खरीदने जाते हैं या अपनी प्रॉपर्टी बेचना चाहते हैं। ग्‍लोबल प्रॉपर्टी कंसलटेंसी फर्म जेएलएल, इंडिया की स्‍टडी बताती हैं कि भारत में कई जगह इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍ट की घोषणा भर से प्रॉपर्टी की कीमतों में 50 से 70 फीसदी तक उछाल आया। ऐसे में आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आपके शहर में कोई ऐसा प्रोजेक्‍ट तो शुरू होने वाला नहीं है, जिसकारण आपकी प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ सकती है, ताकि आप समय से कुछ चीजें प्‍लान कर सकें। 174 शहरों में पीएनजी कनेक्‍शन प्रॉपर्टी एक्‍सपर्ट बताते हैं कि जिस इलाके में पाइप से नेचुरल गैस (पीएनजी) की सप्‍लाई की जाती है, वहां के प्रॉपर्टी रेट में फर्क होता है। इसे ऐसी सुविधा माना जाता है, जो लोगों की एक बड़ी परेशानी को दूर करती है। इसके लिए कंपनियों को इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर पैसा खर्च करना पड़ता है। सरकार ने मंगलवार को स्‍पष्‍ट किया कि देश के 174 जिलों में पीएनजी पहुंचाई जा रही है। इनमें प्रमुख जिले उत्‍तर प्रदेश- बुलंदशहर, मुरादाबाद, अमेठी, औरैया, इटावा, गोरखपुर, मेरठ आदि हरियाणा- भिवानी, हिसार, झज्‍जर, सोनीपत, पंचकूला, जिंद, पलवल आदि उत्‍तराखंड- देहरादून बिहार- बेगुसराय, कैमूर, रोहताश, गया, नालंदा, औरंगाबाद मध्‍य पद्रेश- भोपाल, राजगढ़, गुना, रीवा, सतना आदि राजस्‍थान- बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, अलवर, कोटा, भीलवाड़ा आदि पंजाब- लुधियाना, जालंधर, कपूरथला, पटियाला आदि महाराष्‍ट्र- अहमदनगर, वलसाड, नासिक, लातूर, उस्‍मानाबाद, सिंधुदुर्ग हिमाचल प्रदेश- सिरमौर, शिमला व सोलन, बिलासपुर, हमीरपुर, ऊना गुजरात- गिर सोमनाथ, सुरेन्‍द्रनगर, नवसारी, सूरत, जूनागढ़, नर्मदा, पोरबंदर आदि झारखंड- बोकारो, हजारीबाग, रामगढ़, धनबाद आदि कर्नाटक- चित्रादुर्गा, देवनागरी, उडूपी, बैलारी व गडग आदि

MoneyBhaskar

May 10,2018 12:47:00 PM IST

नई दिल्‍ली। अगर आपके शहर में कोई ऐसा प्रोजेक्‍ट शुरू हो, जिससे आपकी प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ने लगे। शायद आपने कभी ध्‍यान न दिया हो, लेकिन यह हकीकत है। इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर एक्‍सपर्ट्स मानते हैं कि अगर आपके शहर में कोई नया इंफ्रा प्रोजेक्‍ट शुरू हो या कोई नागरिक सुविधा शुरू हो, तो उसका सीधा असर शहर की प्रॉपर्टी प्राइस पर पड़ता है। आपको इस बारे में तब पता चलता है, जब आप नई प्रॉपर्टी खरीदने जाते हैं या अपनी प्रॉपर्टी बेचना चाहते हैं।

ग्‍लोबल प्रॉपर्टी कंसलटेंसी फर्म जेएलएल, इंडिया की स्‍टडी बताती हैं कि भारत में कई जगह इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍ट की घोषणा भर से प्रॉपर्टी की कीमतों में 50 से 70 फीसदी तक उछाल आया।

ऐसे में आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आपके शहर में कोई ऐसा प्रोजेक्‍ट तो शुरू होने वाला नहीं है, जिसकारण आपकी प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ सकती है, ताकि आप समय से कुछ चीजें प्‍लान कर सकें।

174 शहरों में पीएनजी कनेक्‍शन
प्रॉपर्टी एक्‍सपर्ट बताते हैं कि जिस इलाके में पाइप से नेचुरल गैस (पीएनजी) की सप्‍लाई की जाती है, वहां के प्रॉपर्टी रेट में फर्क होता है। इसे ऐसी सुविधा माना जाता है, जो लोगों की एक बड़ी परेशानी को दूर करती है। इसके लिए कंपनियों को इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर पैसा खर्च करना पड़ता है। सरकार ने मंगलवार को स्‍पष्‍ट किया कि देश के 174 जिलों में पीएनजी पहुंचाई जाने की बिडिंग शुरू हो गई है।

प्रमुख जिले जहां पहुंचेगा पीएनजी


उत्‍तर प्रदेश- बुलंदशहर, मुरादाबाद, अमेठी, औरैया, इटावा, गोरखपुर, मेरठ आदि


हरियाणा- भिवानी, हिसार, झज्‍जर, सोनीपत, पंचकूला, जिंद, पलवल आदि


उत्‍तराखंड- देहरादून


बिहार- बेगुसराय, कैमूर, रोहताश, गया, नालंदा, औरंगाबाद


मध्‍य पद्रेश- भोपाल, राजगढ़, गुना, रीवा, सतना आदि


राजस्‍थान- बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, अलवर, कोटा, भीलवाड़ा आदि


पंजाब- लुधियाना, जालंधर, कपूरथला, पटियाला आदि


महाराष्‍ट्र- अहमदनगर, वलसाड, नासिक, लातूर, उस्‍मानाबाद, सिंधुदुर्ग


हिमाचल प्रदेश- सिरमौर, शिमला व सोलन, बिलासपुर, हमीरपुर, ऊना


गुजरात- गिर सोमनाथ, सुरेन्‍द्रनगर, नवसारी, सूरत, जूनागढ़, नर्मदा, पोरबंदर आदि


झारखंड- बोकारो, हजारीबाग, रामगढ़, धनबाद आदि


कर्नाटक- चित्रादुर्गा, देवनागरी, उडूपी, बेल्लारी व गडग आदि

एयरपोर्ट बनने से बढ़ेंगे दाम

सिविल एविएशन मिनिस्‍ट्री के मुताबिक गोवा में मोपा, महाराष्‍ट्र में नवी मुंबई, शिरडी, सिंद्धु दुर्ग, कर्नाटक में शिमोगा, हसन, गुलबर्ग, बिजापुर, पश्चिम बंगाल में दुर्गापुर, केरल में कन्‍नूर, मध्‍यप्रदेश में डाबरा, सिक्किम में पकयोंग, पुडुचेरी में कराईकल, उत्‍तर प्रदेश में जेवर, कुशी नगर, गुजरात में धोलेरा, आंध्रप्रदेश में ओरावाकल्‍लू, विशाखापट्टनम के नजदीक भोगापुरम में नए एयरपोर्ट्स को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी गई है। सरकार ने मच्‍छीवाड़ा, लुधियाना, ईटानगर, जमशेदपुर, अलवर और कोठागुडेम में साइट क्लियरेंस दी जा चुकी है। इनमें से कई एयरपोर्ट इंटरनेशनल लेवल के भी होंगे, जहां से इंटरनेशनल फ्लाइट भी चलेंगी। इसके अलावा भटिंडा, शिमला, आगरा, बीकानेर, ग्‍वालियर, कडापा, लुधियाना, नांदेड़, पठानकोट, विधानगर, अंदल (दुर्गापुर), बुर्नपुर, कूच बेहर, जमशेदपुर, राउरकेला, भावनगर, दीव, जाम नगर, आदमपुर, कांडला, कानपुर (चाकेरी), कुल्‍लू (भूंतर), मीठापुर (द्वारका), मुंद्रा, पंत नगर, पुडुचेरी, पोरबंदर, शिलांग (बारापानी), बिलासपुर, जगदलपुर, कोल्‍हापुर, मैसूर, नेयवली, ओजार नासिक, रायगढ़, सालेम, शोलापुर, उतकेला, बिडार, होसूर में पुराने एयरपोर्ट को चालू किया जाएगा।

आगे पढ़ें ....

एक्सप्रेस-वे से दौड़ेंगे प्रॉपर्टी के दाम मोदी सरकार अभी 6 एक्सप्रेस-वे पर काम कर रही है। दिल्ली के चारों ओर दो एक्सप्रेस-वे बन रहे हैं। इससे गाजियाबाद, मेरठ, फरीदाबाद, पलवल, सोनीपत, कुंडली, आदि शहरों में प्रॉपर्टी की कीमतें बढ़ने की संभावना है। उत्तर प्रदेश में कानपुर लखनऊ एक्सप्रेस-वे, बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे, गंगा एक्सप्रेस-वे, जो बनारस, मिर्जापुर, इलाहाबाद, प्रतापगढ़, रायबरेली, उन्नाव, कानपुर, कन्नौज, हरदोई, फरुखाबाद, शहजहांपुर, बदायूं, बुलंदशहर से होकर गुजरेगा। अपर गंगा कनाल एक्सप्रेस-वे : यह बुलंदशहर, हरिद्वार, मुजफ्फर नगर, रूड़की से होकर गुजरेगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे : 343 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेस-वे लखनऊ से बलिया, बाराबंकी, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अंबेडकरनगर, आजमगढ़, मऊ व गाजीपुर से होकर गुजरेगा। इसके अलावा मुंबई - वड़ोदरा एक्प्रेस-वे, चैन्नई पोर्ट- मदुरावैल एक्सप्रेस-वे, दिल्ली-कटरा एक्सप्रेस-वे, दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस-वे, दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे बनाया जाएगा। इन एक्सप्रेस-वे से लगभग 60 शहरों को फायदा होगा। आगे पढ़ें ....रिंग रोड और बाईपास से बढ़ेंगी कीमतें लगभग 80 शहरों में रिंग रोड और बाईपास नाए जाने हैं। इनमें पुणे, बंगलुरु, संभल पुर, मदुरैई, इंदौर, धुले, रायपुर, शिवपुरी, दिल्ली, भुवनेश्वर, गुरुग्राम, सूरत, पटना, लखनऊ, वाराणसी, विजयवाड़ा, चित्रदुर्ग, अमरावती, सागर, सोलापुर, जयपुर, बेलगाम, नागपुर, आगरा, कोटा, धनबाद, उदयपुर, रांची शामिल हैं। सरकार ने 51 शहरों में बाईपास बनाने का निर्णय लिया है। इनमें लुधियाना, आगरा, वाराणसी, औरंगाबाद, अमृतसर, ग्वालियर, सोलापुर में 4 बाईपास, नादेंड में दो, जालंधर, फिरोजाबाद, सिलीगुड़ी, जलगांव, कोझिकोडी, कुरनॉल, बोकारो, बेलारी, धुले, बिलासपुर, देवास में दो, जलाना, सागर, मिर्जापुर, रायचूर, गंगा नगर, होसपत, ऑनगोल, मोर्वी, रायगंज, पनवेल, विदिशा, सासाराम, छत्तरपुर, बागलकोट, सिहोर, जहानाबाद, नागौर, चिलाकलुरपित, रिनीगुंटा, सांगरेड्डी, इम्फाल, सिलचर, शिलांग, डिब्रुगढ़, दीमापुर, उदयपुर, हिंगघाट और चित्रदुर्गा शामिल हैं। इन सभी शहरों के बीच अलग अलग हाइवे गुजर रहे हैं। लेकिन अब इन शहरों के बाईपास बनाने का निर्णय लिया गया है, ताकि शहर के अंदर जाम नहीं लगे।
X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.