Home » Personal Finance » Property » Updatesome real estate developers takes benefits of past record

डेवलपर्स का अच्‍छा रिकॉर्ड आ रहा है काम, एटी मॉडल ने बढ़ाई गौर संस की सेल्‍स

एटी मॉडल के आधार पर नोएडा के रियल एस्‍टेट डेवलपर्स गौर संस डेढ़ माह में लगभग 2400 घर बेच चुके हैं।

1 of

नई दिल्‍ली। बेशक रियल एस्‍टेट मार्केट में सुस्‍ती बरकरार है, बावजूद इसके कुछ डेवलपर्स ऐसे हैं, जिनके लिए फाइनेंशियल ईयर 2018-19 की शुरुआत अच्‍छी रही है। ये वे डेवलपर्स हैं, जो मार्केट में आए अचानक उछाल के पहले से मार्केट में हैं और टाइम से डिलीवरी देते रहे हैं। ऐसे डेवलपर्स ने अट्रेक्‍टिव ऑफर्स देकर मार्केट में वापसी की राह दिखाई है। अट्रेक्टिव ऑफर्स और टाइमली डिलीवरी के इस मॉडल को एक्‍सपर्ट्स ने एटी मॉडल का नाम दिया है। 

 

गौरसंस ने बेचे 2400 घर 
एटी मॉडल के आधार पर नोएडा के रियल एस्‍टेट डेवलपर्स गौर संस डेढ़ माह में लगभग 2400 घर बेच चुके हैं। इतना ही नहीं, अभी भी होम बायर्स गौरसंस के प्रोजेक्‍ट्स में बुकिंग करा रहे हैं। कंपनी के मार्केटिंग हेड सिद्धार्थ गौड़ का कहना है कि कंपनी के एटी मॉडल के कारण होम बायर्स ने उनके प्रोजेक्‍ट्स में खरीददारी की है। 

 

क्‍या है एटी मॉडल 
गौड़ बताते हैं कि एटी मॉडल से आशय (अर्टेक्टिव ऑफर, टाइमली डिलीवरी) है। गौर सन्‍स पिछले 23 साल से मार्केट में है और 23 साल के इस इतिहास की वजह से उनका ग्रुप आज के हालात में भी अपने प्रोजेक्‍ट्स बेच रहा है। 23 साल से लगातार समय पर लोगों को पजेशन देने के कारण ग्रुप की ऐसी छवि बन गई है कि बायर्स ने उनके प्रोजेक्ट्स में खरीददारी की है। इसके अलावा पिछले दो माह के दौरान कई ऐसे आकर्षक ऑफर दिए गए, जिस कारण भी बायर्स ने खरीददारी की।

 
क्‍या दिए जा रहे हैं ऑफर्स 
इन आकर्षक ऑफर्स में घर खरीदने के साथ मुफ्त चीजें, यूनिक पेमेंट प्‍लान, जीएसटी में छूट, नो ईएमआई ऑप्‍शन, फ्री पार्किंग सुविधा, फ्री क्‍लब मेंबरशिप जैसे कई ऑफर्स शामिल हैं। 

 

गौर संस का पास्‍ट रिकॉर्ड 
सिद्धार्थ गौड़ ने कहा कि डेवलपर का ट्रैक रिकॉर्ड भी एक महत्वपूर्ण कारक बनता है। एक अच्‍छा प्रोजेक्‍ट अभी भी बहुत से संभावित खरीदारों को देख रहा है। किसी भी प्रॉपर्टी की बुकिंग करने से पहले, होम बायर, डेवलपर के पिछले रिकॉर्ड, उनके प्रोजेक्ट डिलीवरी का समय, निर्माण की गुणवत्ता और बहुत कुछ का अध्ययन करता है। इसका गौर संस को काफी फायदा मिला। 

 

रेडी टू मूव पर किया फोकस 
गौड़ मानते हैं कि पिछले कुछ सालों के दौरान पैदा हुए हालातों की वजह से बायर्स अब ऐसा घर खरीदना चाहते हैं, जो पूरी तरह तैयार हो। कंपनी के पास गौड़ सिटी में कई रेडी टू मूव फ्लैट्स थे, बायर्स ने उन पर काफी फोकस किया और कुल बिक्री में से लगभग 1200 रेडी टू मूव फ्लैट्स की बिक्री हुई। इसके अलावा कंपनी के पास कई ऐसी यूनिट्स भी थी, जो लगभग तैयार हैं या एक साल के भीतर-भीतर तैयार हो जाएंगी। बायर्स ने ऐसे फ्लैट्स भी खरीदे हैं। 

 

बायर्स ने दिखाई संतुष्टि 
गौड़ बताते हैं कि अब बायर्स घर खरीदने से पहले पूरी तरह छानबीन कर रहा है, क्‍योंकि मार्केट में अब ऑरिजनल बायर्स ही है, जो घर में जल्‍द से जल्‍द रहना चाहता है, इसलिए जब गौर सन्‍स ने अपने प्रोजेक्‍ट्स का विज्ञापन किया तो बायर्स ने बार-बार साइट विजिट की और पूरी तरह संतुष्‍ट होने के बाद उन्‍होंने खरीददारी की। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट