Home » Personal Finance » Property » UpdateATS Group launched its first project in Greater Noida West

500 करोड़ इन्‍वेस्‍ट करेगा एटीएस होमक्राफ्ट, पहला प्रोजेक्‍ट लॉन्‍च किया

एटीएस ग्रुप की कंपनी होम क्राफ्ट ने ग्रेटर नोएडा वेस्‍ट में अपना पहला प्रोजेक्‍ट हैप्पी ट्रेल्स लॉन्‍च किया

ATS Group launched its first project in Greater Noida West

नई दिल्ली। रियल एस्‍टेट डेवलपर एटीएस ग्रुप की कंपनी होम क्राफ्ट ने ग्रेटर नोएडा वेस्‍ट में अपना पहला प्रोजेक्‍ट 'हैप्पी ट्रेल्स' लॉन्‍च किया। इस प्रोजेक्‍ट पर कंपनी 500 करोड़ रुपए इन्‍वेस्‍ट करेगी। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत इस प्रोजेक्‍ट के बायर्स क्रेडिट लिंक्‍ड सब्सिडी स्‍कीम का फायदा भी ले सकते हैं। 

 

2022 तक मिलेगा पजेशन 
होमक्राफ्ट के सीईओ प्रसून चौहान ने कहा कि यह प्रोजेक्ट साल 2022 तक तैयार कर ग्राहकों को सौंप दिया जाएगा। प्रोजेक्‍ट में मिडिल क्‍लास इनकम ग्रुप पर फोकस किय गया है। इसमें 80 फीसदी ग्रीन एरिया डेवलपमेंट के साथ 17 लाख वर्ग फीट का बिक्री योग्य क्षेत्र है और इसकी शानदार कनेक्टिीविटी है। 

 

पिछले रिकॉर्ड को और बेहतर करेगा प्रोजेक्‍ट 
चौहान ने कहा कि यह हमारा पहला प्रोजेक्‍ट है और हमें यकीन है कि यह प्रोजेक्‍ट सेक्‍टर में रियल्टी डेवलपमेंट के लिए नए मानक स्थापित करेगा। एटीएस ने अतीत में भी हाई क्‍वालिटी के प्रोजेक्‍ट का पजेशन समय पर दिया है। यह प्रोजेक्‍ट भी अपने पिछले रिकॉर्ड को और बेहतर करेगा। हमारा मानना है कि मिडिल क्‍लास के हाउसिंग सेक्‍टर में इन्‍वेस्‍टमेंट में तेजी से बढ़ोतरी होगी और मिड इनकम ग्रुप (एमआईजी) हाउसिंग डिमांड भी बढ़ेगी। चौहान ने कहा कि रियल एस्‍टेट मार्केट अब पहले के मुकाबले अधिक परिपक्‍व हो चुका है। 

 

क्‍या है प्रोजेक्‍ट की खूबी 
सेक्टर 10, ग्रेटर नोएडा वेस्ट में स्थित हैप्पी ट्रेल्स में एक सेंटर क्लबहाउस, स्विमिंग पूल, टेनिस कोर्ट और ग्रीन लैंडस्केपिंग की सुविधा होगी। क्लब में प्रदान की जा रही सुविधाओं में इनडोर स्क्वाश रूम, मल्टीपर्पज हॉल, कार्ड रूम, इनडोर जिम्नेजियम आदि शामिल हैं।

 

क्‍या है साइज 
इसमें 2 और 3 बेडरूम, स्टडी सहित अपार्टमेंट होंगे जिनका आकार 1165 वर्ग फीट से 1625 वर्ग फीट तक होगा। ये अपार्टमेंट पीएमएवाई योजना के तहत मान्यता प्राप्त करेंगे, जिसमें सरकार की विभिन्न रियायती योजनाएं प्राप्त की जा सकेंगी। जैसे सीएलएसएस के तहत ब्याज अनुदान, जीएसटी पर रियायतें आदि उपलब्ध हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट