Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Personal Finance »Banking »Update» Financail Sericess Attracts 18 Percent Service Tax

    ATM-से इन्श्योरेंस तक सभी बैंकिंग सर्विस होंगी महंगी, 18% GST लगेगा

    नई दिल्ली.   जीएसटी काउंसिल ने शुक्रवार को फाइनेंशियल सर्विसेज पर सर्विस टैक्‍स 15% से बढ़ाकर 18% कर दिया है। इससे जीएसटी लागू होने के बाद सभी बैंकिंग और इन्‍श्‍योरेंस सर्विसेज महंगी हो जाएंगी। बैंक अकाउंट मेन्‍टेन करने, चेक बुक लेने, एटीएम से पैसे निकालने और ऑनलाइन फंड ट्रांसफर करने के लिए पहले से 3% ज्यादा टैक्‍स देना होगा। अकाउंट में मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी...

    - एसबीआई समेत प्राइवेट सेक्टर के सभी बैंकों ने अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेन्‍टेन करने की लिमिट तय की हुई है। 
    - ऐसा नहीं करने पर बैंक 50 रुपए से लेकर 450 रुपए तक बैंकिंग चार्ज और उस पर 15% सर्विस टैक्स ले रहे हैं। ऐसे में अगर आप अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेन्‍टेन नहीं करते हैं, तो आपको ज्‍यादा पैसे चुकाने होंगे।
     
    मिनिमम बैलेंस नहीं रखा तो अब कितना चार्ज लगेगा? (अगर 450 रुपए चार्ज पर देखें तो)
    बैंकिंग चार्ज
    अभी कुल चार्ज- 450+15% टैक्स
    GST के बाद चार्ज- 450+18% टैक्स
    450 रुपए
    450+67.5= 517.5
    450+81= 531 रुपए
     
    कैश ट्रांजैक्‍शन महंगा
    - एसबीआई समेत कुछ बैंकों ने होम ब्रांच में एक महीने में फ्री कैश ट्रांजैक्‍शन की लिमिट 3 तय कर दी है। इससे ज्यादा बार कैश ट्रांजैक्‍शन करने पर आपको हर ट्रांजैक्‍शन पर 50 रुपए बैंकिंग चार्ज और उस पर 15% सर्विस टैक्स देना होता है।
    - बैंकिंग सर्विसेज पर 18% सर्विस टैक्‍स लागू होने से आपको अब 3 से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन पर प्रति ट्रांजैक्‍शन ज्यादा चार्ज देना होगा।
     
    3 से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन पर कितना चार्ज लगेगा? (अगर 50 रुपए चार्ज पर देखें तो)
     बैंकिंग चार्ज
    अभी कुल चार्ज- 50+15% टैक्स
    GST के बाद चार्ज- 50+18% टैक्स
    50 रुपए
    57.5 रुपए
    59 रुपए
     
    चेक बुक लेना होगा महंगा
    - बैंक चेक बुक के लिए कस्‍टमर से 30 रुपए से लेकर 150 रुपए तक बैंकिंग चार्ज और उस पर 15% सर्विस टैक्स ले रहे हैं। ऐसे में आपके लिए अब बैंक से चेक बुक लेने के लिए ज्‍यादा पैसे देने होंगे।
     
    चेक बुक पर कितना चार्ज लगेगा? (अगर 150 रुपए चार्ज पर देखें तो)
    बैंकिंग चार्ज
    अभी कुल चार्ज- 150+15% टैक्स
    GST के बाद चार्ज- 150+18% टैक्स
    150 रुपए
    172.5 रुपए
    177 रुपए
     
    अकाउंट बंद कराना होगा महंगा
    - बैंक अकाउंट बंद कराने के लिए भी 500 रुपए चार्ज और उस पर 15% सर्विस टैक्स ले रहे हैं। ऐसे में 1 जुलाई से आपको अपना बैंक अकाउंट बंद कराने के लिए ज्यादा चार्ज देना होगा।
     
    अकाउंट बंद कराने पर बैंकिंग चार्ज 500 रुपए चार्ज पर क्या होगा असर?
    बैंकिंग चार्ज
    अभी कुल चार्ज- 500+15% टैक्स
    GST के बाद चार्ज- 150+18% टैक्स
    500 रुपए  
    575 रुपए
    590 रुपए  
     
    ATM से पैसा निकालना होगा महंगा
    - अभी बैंक एक माह में 3 से 5 बार एटीएम से फ्री ट्रांजैक्‍शन की फैसेलिटी दे रहे हैं। इससे ज्यादा बार पैसा निकालने पर आपको हर ट्रांजैक्‍शन पर 10 रुपए से 20  रुपए  प्रति ट्रांजैक्‍शन देना होता है। उस पर 15% सर्विस टैक्स भी देना होता है। अब एक जुलाई से 18% जीएसटी लगेगा तो एटीएम से ट्रांजैक्शन भी महंगा हो जाएगा। 
     
    डुप्‍लीकेट पासबुक लेना होगा महंगा
    - बैंक डुप्‍लीकेट पासबुक जारी करने के लिए 100 रुपए चार्ज लेते हैं। 15% सर्विस टैक्स की जगह 18% जीएसटी लगने से डुप्‍लीकेट पासबुक लेने के लिए ज्‍यादा चार्ज देना होगा।
     
    ऑनलाइन फंड ट्रांसफर होगा महंगा
    - मौजूदा समय में बैंक एनईएफटी और आरटीजीएस के जरिए ऑनलाइन फंड ट्रांसफर करने के लिए हर ट्रांजैक्शन अमाउंट के हिसाब से 2 रुपए से 50 रुपए चार्ज वसूलते हैं। एक जुलाई से यह भी महंगा होगा।
     
    इन्श्‍योरेंस खरीदना होगा महंगा
    - फाइनेंशियल सर्विसेज पर सर्विस टैक्‍स 15% बढ़कर 18% हो जाने से आपके लिए लाइफ इंश्योरेंस, हेल्थ इंश्योरेंस या व्हीकल इंश्योरेंस लेना महंगा हो जाएगा। जैसे- आप 100 रुपए इंश्योरेंस प्रीमियम है तो उस पर 15% सर्विस टैक्‍स, यानी 15 रुपए चुकाते थे। एक जुलाई से आपको इस पर 18% के हिसाब से 18 रुपए चुकाने होंगे।
     
    म्‍यूचुअल फंड और शेयरों की खरीद पर नहीं पड़ेगा असर
    - केपीएमजी में पार्टनर एंड हेड, इनडायरेक्‍ट टैक्‍स, सचिन मेनन का कहना है कि सेक्‍युरिटीज को जीएसटी से बाहर रखा गया है। ऐसे में म्‍यूचुअल फंड या शेयर खरीदने पर फाइनेंशियल सर्विसेज पर सर्विस टैक्‍स बढ़ने के असर नहीं हैं।
     
    फाइनेंशियल इन्‍क्‍लूजन पर होगा असर
    - एसबीआई के पूर्व सीजीएम सुनील पंत का कहना है कि फाइनेंशियल सर्विसेज पर 18% टैक्‍स लगने से सभी बैंकिंग सर्विसेज महंगी हो जाएंगी। एक तरफ सरकार फाइनेंशियल इन्‍क्‍लूजन को बढ़ावा दे रही है। ऐसे में बैकिंग सर्विसेज महंगी होना सरकार की मंशा के खिलाफ है।
     
    यह भी पढ़ें:

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY