बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » Updateमोबाइल बैंकिंग ट्रांजैक्शन ऑलटाइम हाई पर, नोटबंदी का असर

मोबाइल बैंकिंग ट्रांजैक्शन ऑलटाइम हाई पर, नोटबंदी का असर

देश में मोबाइल ट्रांजैक्शन अपने ऑलटाइम हाई पर पहुंच गया है।

1 of

नई दिल्ली. देश में मोबाइल ट्रांजैक्शन अपने ऑलटाइम हाई पर पहुंच गया है। अक्टूबर के महीने में पहली बार मोबाइल के जरिए होने वाले ट्रांजैक्शन 10 करोड़ से ज्यादा हो गए हैं। जो कि अभी तक का रिकॉर्ड है। बैंकर्स के अनुसार रिकॉर्ड हाई पर पहुंचने की एक प्रमुख वजह फेस्टिव सीजन रहा है। जिसकी वजह से लोगों ने मोबाइल के जरिए ज्यादा से ज्यादा ट्रांजैक्शन किए है।

 

 

13 करोड़ ट्रांजैक्शन

 

RBI से मिली डिटेल के अनुसार, अकेले अक्टूबर के महीने में 13 करोड़ ट्रांजैक्शन मोबाइल से हुए हैं। जो कि नोटबंदी लागू होने के बाद अभी तक का सबसे ज्यादा वॉल्युम है। जिनके जरिए करीब 1168 अरब रुपए के ट्रांजैक्शन किए गए हैं।

 

ये भी पढ़िए - नोटबंदी के एक साल: PM मोदी ने गिनाए 6 बड़े फायदे

 

UPI और IMPS से आगे निकला

 

मोबाइल बैंकिंग ट्रांजैक्शन आसान होने की वजह से काफी तेजी से नोटबंदी के बाद बढ़ा है। जो अक्टूबर महीने में यूपीआई, आईएमपीएस के जरिए होने वाले ट्रांजैक्शन से भी आगे निकल चुका है। अक्टूबर में यूपीआई के जरिए 7.6 करोड़ और आईएमपीएस के जरिए 8.8 करोड़ ट्रांजैक्शन हुए हैं।

 

मोबाइल वॉलेट से मिला बूस्ट

 

बैंकर्स के अनुसार मोबाइल वॉलेट की वजह से कैशलेस ट्रांजैक्शन को काफी बूस्ट मिला है। यह काफी सुविधाजनक है साथ ही छोटे ट्रांजैक्शन के लिए आसान भी है। जिसकी वजह से ज्यादा से ज्यादा लोगों मोबाइल ट्रांजैक्शन का यूज कर रहे हैं।

 

नोटबंदी के बाद ऐसे बढ़ा मोबाइल ट्रांजैक्शन- 

 

महीना (2016)

ट्रांजैक्शन (करोड़ में)

नवंबर

7.2

दिसंबर

7.0

जनवरी

6.4

फरवरी

5.6

मार्च

6.0

अप्रैल

6.1

मई

6.4

जून

7.7

जुलाई

6.9

अगस्त

7.0

सितंबर

8.6

अक्टूबर

13.0

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट