Home » Personal Finance » Banking » Step To Step GuideCyber fraudsters are bringing new techniques for the hacking account

अब नए तरीकों से हो रहा है आपका बैंक अकाउंट हैक, रखें इन बातों का ख्याल

हैकर्स आपके बैंक अकाउंट को हैक करने के लिए रोज नए-नए तरीकों का इस्तेमाल करते हैं।

1 of
नई दिल्ली। हैकर्स आपके बैंक अकाउंट को हैक करने के लिए रोज नए-नए तरीकेे अपना रहे हैं। इसके चलते आपको भी कभी नुकसान उठाना पड़ सकता है। इनमें कुछ तरीके तो ऐसे हैं जिनसे आपके बैंक अकाउंट से पैसा निकल जाएगा और आपको भनक तक नहीं लगेगी। इसके अलावा आपके क्रेडिट कार्ड की जानकारी भी हैकर्स एक क्लिक के जरिए निकाल सकते हैं। ऐसे में हैकर्स द्वारा अपनाए जाने वाले तरीकों के बारे में जानना जरूरी है जिससे आप सर्तक हो सकें।   
 
अगली स्लाइड में पढ़े, मास्किंग स्कैम के बारे में.........
मास्किंग
जब भी आप बैंक अकाउंट से पैसे विदड्राल करते हैं तो आपके ई-मेल और मोबाइल पर इसकी सूचना आ जाती है। इसके अलावा बैंक अकाउंट स्टेटमेंट में भी इसके बारे में पता चल जाता है। लेकिन अब हैकर्स ने इसका भी तोड़ निकाल लिया है। वो आपके अकाउंट बैलेंस और ट्रांजैक्शन से रिलेटेड जानकारी को फ्रीज कर देते हैं और अकाउंट से पैसा निकाल लेते हैं। अकाउंट से पैसे निकलने की जानकारी आपको तब पता चलती है जब आप एटीएम से मिनी स्टेटमेंट निकालते हैं या फिर कोई चेक बाउंस होता है। ऐसे केस उन लोगों के साथ सबसे ज्यादा हो रहे है जो स्मॉल बिजनेस चला रहे है या फिर उनका नेट वर्थ बहुत हाई है। 
 
अगली स्लाइड में पढ़े, $1 पेमेंट स्कैम के बारे में.........
1 डॉलर का पेमेंट
 
हैकर्स की नजर आपके क्रेडिट कार्ड पर भी रहती है और वो बिना जानकारी के आपके अकाउंट से पैसा निकाल लेते हैं। शुरूआत में आपके अकाउंट से एक डॉलर का छोटा सा अमाउंट निकाला जाता है जो कि भारतीय रुपए में 70 रुपए के आसपास होता है। यह अमाउंट आपके क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट में एक्सट्रा चार्ज के रूप में दिखाई देता है। ऐसा करके हैकर्स यह जानकारी लेते हैं कि आपका क्रेडिट कार्ड प्रयोग में है या नहीं। इस तरीके से आपके कार्ड का गलत इस्तेमाल हो सकता है। हैकर्स को क्रेडिट कार्ड का डाटा डायरेक्ट सेलिंग एजेंट या ऐसे कंपनियों से मिलता है जो डाटा को बेचने का काम करती हैं। 
 
अगली स्लाइड में पढ़े, सिम कार्ड क्लोनिंग के बारे में.....
सिम कार्ड क्लोनिंग
 
ऑनलाइन बैंकिंग ट्रांजैक्शन करने से पहले बैंक की तरफ से आपको ओटीपी कोड भेजा जाता है। बिना ओटीपी कोड के किसी भी तरह का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन नहीं हो सकता है। हैकर्स आपके सिम कार्ड, बैंक अकाउंट की डिटेल्स और किसी भी आईडी प्रूफ को पाने का प्रयास करते हैं। जब उनको आपके सिम कार्ड की डिटेल्स और आईडी प्रूफ मिल जाता है तो वह आपके चल रहे सिम कार्ड को ब्लॉक करा देते हैं और नया सिम कार्ड एक्टीवेट कर लेते हैं। जब तक आपको अपने मोबाइल नंबर की सिम का ब्लॉक होने का पता चलता है उससे पहले हैकर्स आपके अकाउंट से पैसा निकाल लेते हैं। 
 
अगली स्लाइड में पढ़े, मनी Mule के बारे में.......
मनी Mule
 
डाटा मिलने के बाद क्रिमिनल और फ्रॉड करने वाला व्यक्ति आपके अकाउंट का इस्तेमाल चोरी किए गए पैसे को ट्रांसफर करने के लिए करते हैं। अगर आपका कोई डार्मेंट अकाउंट है तो चांस बढ़ जाते हैं। अगर आपका कोई बैंक अकाउंट ऐसा है जिसको आप प्रयोग में ला रहे हैं तो उसको बंद कर दे, ताकि हैकर्स उसका इस्तेमाल अवैध तरीके से पैसा ट्रांसफर करने के लिए नहीं कर पाएं।   
 
अगली स्लाइड में पढ़े, कार्ड की क्लोनिंग के बारे में.......
कार्ड क्लोनिंग
 
इस तरीके का इस्तेमाल ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीकों से होता है। हैकर्स इसके जरिए आपके अकाउंट से काफी लंबा अमाउंट निकाल सकते है। इसमें हैकर्स आपके कार्ड की डिटेल्स को एक मिनट से कम समय में दूसरे कार्ड में ट्रांसफर कर लेते हैं। इससे बचने के लिए आप अपने कार्ड को कभी भी रेस्त्रां या शापिंग मॉल में किसी को पेमेंट करने के लिए न दें। कार्ड से पेमेंट अपने सामने करें जिससे आप कार्ड को क्लोनिंग करने से बचा सकते हैं। 
 
अगली स्लाइड में पढ़े, विशिंग फ्रॉड के बारे में.......
विशिंग
 
यह एक नए प्रकार का साइबर क्राइम है जिसमें आपको फोन करके पहले विश्वास दिलाया जाता है कि फोन करने वाला व्यक्ति बैंक से कॉल कर रहा है। आपके मोबाइल पर भी आपकी बैंक ब्रांच का नंबर आता है इसलिए ज्यादा शक नहीं करते हैं। फोन करने वाला लड़का या लड़की आपके अकाउंट को अपडेट करने के लिए आपसे  अकाउंट या कार्ड की डिटेल्स मांगते है। जैसेे ही आप अपने बैंक अकाउंट या कार्ड की डिटेल्स शेयर करते है उसके बाद कुछ ही मिनटों में आपके अकाउंट से चंद मिनटों में पैसा निकल जाता है।
 
अगली स्लाइड में पढ़े, कैसे होता है कार्ड या अकाउंट हैक.....
बरतें ये छोटी-छोटी सावधानियां, बच जाएंगे हैकिंग से
 
- आपके अकाउंट का पासवर्ड 8 से कम केरैक्टर का होता है और कॉमन वर्ड्स का होता है। पासवर्ड में केरैक्टर के अलावा नंबर, लोअर-अपर केस और स्पेशल केरैक्टर का प्रयोग करके सेफ बना सकते हैं।
 
- आप सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर हमेशा लॉग-इन रहते हैं। हैकर्स ऐसे लोगों पर खासतौर नजर रखते हैं। इससे बचने के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर काम खत्म होने के बाद लॉग-आउट हमेशा करें।
 
- आप पब्लिक प्लेस पर फ्री वाई-फाई का इस्तेमाल करते हैं। पब्लिक वाई-फाई के इस्तेमाल से डाटा ट्रांसफर करना आसान हो जाता है, क्योंकि इसमें पासवर्ड नहीं होता है। इसलिए सेफ्टी के लिए पब्लिक वाई-फाई का इस्तेमाल करने से बचें।
 
- अपने डिवाइस पर पासवर्ड को हमेशा सेव रखते हैं। कभी भी डिवाइस में पासवर्ड को सेफ न रखें, इससे हैकर्स आपके अकाउंट को जल्दी से हैक नहीं कर पाएंगे।
 
- अपने कार्ड को पेमेंट करने के लिए देते हैं और उसको लेना भूल जाते हैं। इससे बचने के लिए कार्ड से पेमेंट करने के बाद हमेशा उसे वापस लें।  
 
- अपने जरूरी डॉक्युमेंट्स जैसे कि आधार, पैन नंबर, पासबुक को फोटोकॉपी कराने के बाद दुकान पर भूल जाते हैं।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट