बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » Updateचंदा कोचर के पति दीपक चलाते हैं न्यूपावर कंपनी, ये है शुरू से लेकर अब तक की कहानी

चंदा कोचर के पति दीपक चलाते हैं न्यूपावर कंपनी, ये है शुरू से लेकर अब तक की कहानी

आईसीआईसीआई बैंक की एमडी एवं सीइओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर इन दिनों विवादों में हैं।

1 of
 
नई दिल्‍ली। आईसीआईसीआई बैंक की एमडी एवं सीइओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर इन दिनों विवादों में हैं। दीपक कोचर पर आरोप है कि उनकी कंपनी न्‍यूपावर रिन्‍यूएबल में पार्टनर रहे वेणूगोपाल धूत, जो वीडियोकॉन ग्रुप के मालिक हैं को 3250 करोड़ रुपए का लोन दिलाने में चंद्रा कोचर ने सहायता की, जिसमें से 2810 करोड़ रुपए नहीं लौटाए गए।  इस वजह से चर्चा में आए दीपक कोचर कौन हैं और उनकी कंपनी न्‍यूपावर क्‍या करती है, आज हम आपको इसकी विस्‍तार से जानकारी देंगे। 

 
क्‍या है न्‍यूपावर 
न्‍यूपावर रिन्‍यूएबल की स्‍थापना साल 2008 में हुई थी। कंपनी ने विंड पावर प्रोजेक्‍ट्स की दिशा में काम शुरू किया। अब तक कंपनी लगभग 200 मेगावाट विंड पावर प्रोजेक्‍ट्स लगा चुकी है, जबकि लगभग 500 मेगावाट के विंड पावर प्रोजेक्‍ट्स पर काम चल रहा है। कंपनी का टारगेट है कि आने वाले पांच सालों में 1000 मेगावाट विंड पावर जनरेशन शुरू कर दिया जाए। 
 
2009 में बनी थी सीइओ 
साल 2008 में दीपक कोचर ने कंपनी शुरू की थी, उस समय चंदा कोचर आईसीआईसीआई की ज्‍वाइंड एमडी और सीएफओ थी, हालांकि दीपक कोचर की कंपनी को पंजाब नेशनल बैंक ने लगभग 750 करोड़ रुपए का लोन दिया था। चंदा कोचर 2009 में बैंक की सीइओ और एमडी बनीं। 
 
कितने में शुरू हुई कंपनी 
मिनिस्‍ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स के डाटा के मुताबिक, न्‍यूपावर 5.90 करोड़ पेड अप कैपिटल से शुरू हुई, जबकि अब कंपनी की ऑथराइज्‍ड कैपिटल 460 करोड़ रुपए है। 
 
ये हैं चार डायरेक्‍टर 
कोचर के अलावा कंपनी के तीन और डायरेक्‍टर हैं। इनमें प्रेम गुल रजनी, चेतन विनय महरोत्रा और ली सिन वी शामिल हैं। 
 
क्‍या है धूत से कनेक्‍शन 
दरअसल, वीडियोकॉन के मालिक वेणूगोपाल धूत 2008 में न्‍यूपावर के को-फाउंडर थे। लेकिन 2009 में उन्‍होंने कंपनी छोड़ दी और दीपक कोचर अकेले कंपनी चलाने लगे। आरोप है कि धूत को आईसीआईसीआई से लोन दिलाने में दीपक कोचर ने मदद कराई और जब 2810 करोड़ रुपए बैंक को नहीं लौटाया गया और बाद में वीडियोकॉन की मदद से बनी एक कंपनी दीपक कोचर की अगुवाई वाले ट्रस्ट के नाम कर दी गई।
 
इन राज्‍यों में चल रहे प्रोजेक्‍ट्स 
न्‍यूपावर रिन्‍यूएबल के विंड पावर प्रोजेक्‍ट्स 6 राज्‍यों में चल रहे है। इनमें तमिलनाडु, कर्नाटक, राजस्‍थान, महाराष्‍ट्र, आंध्रप्रदेश और मध्‍यप्रदेश शामिल है। कंपनी कई राज्‍यों से 13 से 20 साल के पावर परचेज एग्रीमेंट कर चुकी है, जबकि कॉरपोरेट कस्‍टमर्स से डायरेक्‍ट सेल के लिए लॉन्‍ग टर्म पावर परचेज एग्रीमेंट कर लिया है। 
 
विंड टरबाइन बिजनेस 
विंड पावर प्रोजेक्‍ट के अलावा कंपनी विंड टरबाइन भी बनाती है। कंपनी ने जर्मन टैक्‍नोलॉजी से 2.05 मेगावाट कैपेसिटी के विंड टरबाइन मैन्‍युफैक्‍चर किए हैं। 
 
कौन है दीपक कोचर 
न्‍यूपावर की वेबसाइट के मुताबिक, दीपक कोचर के पास फाइनेंस में मास्‍टर डिग्री है और वह हावर्ड बिजनेस स्‍कूल के ग्रेजुएट हैं। उन्‍हें फाइनेंशियल सर्विसेज और रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर का 20 साल का एंटरप्रिन्‍योरल एक्‍सपीरियंस है।
 
सेक्‍टर में ग्रोथ की संभावना 
रिन्‍यूएबल एनर्जी इंडस्‍ट्री से जुड़ी एक कंपनी के अधिकारी ने बताया कि पिछले चार साल में रिन्‍यूएबल एनर्जी सेक्‍टर में तेजी से ग्रोथ हो रहा है। न्‍यूपावर रिन्‍यूएबल को इसका फायदा भी मिल रहा है। पिछले चार साल के दौरान कंपनी को कई नए प्रोजेक्‍ट भी मिले हैं। कंपनी अब तक 700 मेगावाट पावर के विंड प्रोजेक्‍ट्स पर काम कर रही है और कंपनी जल्‍द ही अपने लक्ष्‍य 1000 मेगावाट को भी हासिल कर लेगी। 

क्‍या कहते हैं व्‍हीसिल ब्‍लोअर 
इस मामले के व्‍हीसिल ब्‍लोअर अरविंद गुप्‍ता ने "मनीभास्‍कर" से कहा कि वीडियोकॉन ग्रुप को आईसीआईसीआई बैंक ने 3250 करोड़ रुपए का लोन दिया था। यह लोन नहीं चुकाया गया। बाद में वीडियोकॉन की मदद से बनी एक कंपनी आईसीआईसीआई बैंक की एमडी और सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की अगुवाई वाले ट्रस्ट के नाम कर दी गई। यह लोन वीडियोकॉन ग्रुप और चंदा कोचर की मिलीभगत से दिया गया जो डूब गया।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट