बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » UpdatePNB फ्रॉड: बैंक ज्वैलरी सेक्टर को हाई रिस्क कैटेगरी में डालेंगे, लोन मिलना होगा मुश्किल

PNB फ्रॉड: बैंक ज्वैलरी सेक्टर को हाई रिस्क कैटेगरी में डालेंगे, लोन मिलना होगा मुश्किल

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के फ्रॉड का असर अब पूरी जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को भुगतना पड़ सकता है।

1 of
 
नई दिल्ली। नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के फ्रॉड का असर अब पूरी जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को भुगतना पड़ सकता है। देश के कई बैंक सेक्टर को हाई रिस्क कैटेगरी में डालने की तैयारी कर रहे हैं। उनके अनुसार जिस तरह सेक्टर में हाल में फ्रॉड सामने आए हैं, उसे देखते हुए अब बैंकों को काफी चौकन्ना रहना होगा । बैंकों के इस कदम का सीधा असर सेक्टर को मिलने वाले वाले कर्ज पर दिखेगा। सेक्टर की कंपनियों के लिए आने वाले दिनों में कर्ज लेने में सख्त शर्तों के साथ ऊंचे इंटरेस्ट रेट का सामना करना पड़ सकता है।

 
बैंकों का क्या है प्लान
 
बैंकिंग इंडस्ट्री के सूत्रों के अनुसार कई प्रमुख बैंक पीएनबी फ्रॉड सामने आने के बाद अपनी एक्सपोजर लिमिट दोबारा रिव्यू कर रहे हैं। इसके तहत बैंक जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को हाई रिस्क कैटेगरी में डालने की तैयारी में हैं। अगर ऐसा होता है, तो बैंक कई तरह की स्क्रूटनी जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को कर्ज देने में कर सकते हैं। एक बैंकर के अनुसार बैंक सबसे पहले एक्सपोजर लिमिट घटाएंगे। इसके अलावा सेक्टर की किसी कंपनी को ज्यादा  कर्ज देने से बचेंगे। यानी कनशोर्शियम आधार पर ज्यादा कर्ज देने पर फोकस रहेगा। जिससे किसी एक बैंक का कर्ज सेक्टर पर ज्यादा न हो।
 
इंडस्ट्री पर क्या होगा असर
 
--बैंक अगर एक्सपोजर लिमिट कम करते हैं-- मान लीजिए किसी बैंक का जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को कर्ज 2 फीसदी है, तो वह उसे घटाकर यदि 1.5 फीसदी करता है। ऐसे में उस बैंक की सेक्टर को कर्ज देने की क्षमता घटेगी। इसे ऐसे समझा जा सकता है कि किसी बैंक का अगर जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर को 100 करोड़ रुपए का लोन एक्सपोजर है, उसे वह घटा देता है, तो वह नई लिमिट के आधार पर कम कर्ज देगा।
 
--बैंक कनशोर्शियम पर ज्यादा फोकस करेंगे- ऐसी स्थिति में किसी कंपनी को अगर ज्यादा लोन लेना है तो एक बैंक पूरा लोन उसे नहीं देगा। कई बैंकों का समूह कंपनी को कर्ज देगा। ऐसे में कंपनी के लिए सभी बैंकों को लोन के लिए सहमत करना होगा।
 
 
आगे पढ़ें : 11500 करोड़ रुपए का पीएनबी में फ्रॉड
 
11500 करोड़ रुपए का पीएनबी में फ्रॉड
 
हीरा कारोबारी नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चौकसी 11,356 करोड़ के पीएनबी बैंक फ्रॉड में आरोपी हैं। इन लोगों पर पीएनबी के अफसरों से मिलिभगत कर फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में कई हजार करोड़ की रकम ट्रांसफर करने का आरोप है। इसी तरह शनिवार को ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से दिल्ली के एक ज्वैलरी एक्सपोर्टर के फ्रॉड का मामला सामने आया है। इसके तहत करीब 389 करोड़ रुपए की फ्रॉड का मामला सामने आया है। जेम्स एंड ज्वैलरी सेक्टर के विनसम ग्रुप भी पहले से ही 6600 करोड़ रुपए के विलफुल डिफॉल्टर है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट