विज्ञापन
Home » Personal Finance » Banking » Step To Step GuidePFRDA requset central government to increase age limit for atal pension yojna

सरकार के इस फैसले से ज्यादा लोगों को मिलेगी 5000 रुपए की पेंशन! बुढ़ापे में नहीं रहेगी पैसों की दिक्कत

असंगठित क्षेत्र के लोगों और श्रमिकों को मिलना है लाभ

1 of

नई दिल्ली। पेंशन निधि विनियामक व विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) के अध्यक्ष हेमंत कांट्रैक्टर ने कहा है कि उन्होंने सरकार से अटल पेंशन योजना (एपीवाई) की अधिकतक उम्रसीमा 40 साल से बढ़ाकर 50 साल करने का आग्रह किया है। कांट्रैक्टर ने कहा कि एपीवाई की अधिकतम उम्रसीमा 40 साल है। यह योजना असंगठित क्षेत्र के लोगों के लिए है। हमने इसे बढ़ाने का आग्रह सरकार से किया है।

 

जीवन प्रत्याशा में बढ़ोतरी से अधिक लोगों को मिलेगा फायदा
हालांकि, सरकार ने इस पर विचार नहीं किया है, लेकिन पेंशन निधि विनियामक का मानना है कि उम्रसीमा 10 साल बढ़ाने का फायदा बड़ी आबादी को मिलेगा और बुढ़ापे में आर्थिक सुरक्षा बढ़ेगी क्योंकि जीवन प्रत्याशा में वृद्धि हो रही है। 18-40 साल की उम्र वर्ग के लोग जिनके पास बचत खाता है और सक्रिय मोबाइल नंबर है वे एपीवाई खाता खुलवा सकते हैं। इस योजना के तहत उनको 60 साल की उम्र होने पर 1,000 से लेकर 5,000 रुपए मासिक नियमित पेंशन मिलने की गारंटी मिलती है। 

वित्त सचिव कह चुके हैं पेंशन दोगुना करने की बात


कुछ समय पहले केंद्र सरकार ने रिटायरमेंट के बाद लोगों को आर्थिक रूप से मजबूत रखने के लिए अटल पेंशन योजना (एपीवाई) के तहत मासिक पेंशन को दोगुना करने के संकेत दिए थे। वित्तीय सेवा सचिव राजीव कुमार ने कहा था कि सरकार मौजूदा पेंशन राशि को बढ़ाकर पांच हजार से 10 हजार करने पर विचार कर रही है। राजीव के अनुसार, पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने वित्त मंत्रालय को इसका सुझाव दिया था।

ये है अटल पेंशन योजना


केंद्र सरकार ने असंगठित क्षेत्र के लोगों को रिटायरमेंट के बाद नियमित आय के उद्देश्य से 9 मई 2015 को अटल पेंशन योजना की शुरुआत की थी। यह एक गारंटीशुदा पेंशन योजना है जिसमें निवेशकों को 60 साल की उम्र पूरी करने के बाद पेंशन मिलनी शुरू हो जाती है। अभी इस योजना के तहत अधिकतम 5000 रुपए की पेंशन देने का प्रावधान है। लाभार्थी की मौत के बाद उसके परिजनों को भी इस स्कीम का लाभ मिलता है। 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन