बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » Updateअगर आपके पास हैं एक से ज्‍यादा बैंक अकाउंट, उठाने पड़ सकते हैं ये 5 नुकसान

अगर आपके पास हैं एक से ज्‍यादा बैंक अकाउंट, उठाने पड़ सकते हैं ये 5 नुकसान

आजकल ज्‍यादातर लोग 2 बैंक अकाउंट रखते हैं। लेकि‍न कई बार इसके चलते उन्‍हें नुकसान भी होता है।

1 of
नई दिल्‍ली. आजकल ज्‍यादातर लोग 2 बैंक अकाउंट रखते हैं। इसका कारण है कि‍ एक सैलरी अकाउंट होता है और दूसरा वो पर्सनल सेवि‍ंग अकाउंट खुलवाते हैं। कुछ लोगों के लिए तो यह जरूरत भी है। लेकि‍न कुछ लोग बि‍ना जरूरत के ही दो अकाउंट खुलवा लेते हैं। लेकिन इसे मेनटेन नहीं कर पाते। यह लोग इसके फायदे और नुकसान के बारे में नहीं सोचते। ऐसे में आज हम आपको बता रहे हैं कि‍ एक से ज्‍यादा अकाउंट खोलने पर आपको कैसे नुकसान उठाना पड़ सकता है।    

 
नहीं मि‍लेगा बेहतर ब्‍याज 
 
एक से ज्यादा बैंकों में अकाउंट होने से आपको बड़ा नुकसान हो सकता है। अपने हर अकाउंट को मेनटेन करने के लिए उसमें राशि का एक तय अमाउंट रखना ही होता है। यानी एक से ज्‍यादा अकाउंट होने से आपका बड़ा अमाउंट तो बैंंकों में ही फंस जाएगा। उस राशि पर आपको ज्यादा से ज्यादा 4 से 5 फीसदी ही सालाना रिटर्न मिलता है। वहीं, अगर सेविंग अकाउंट में पैसे रखने की बजाए उसे दूसरी योजनाओं में लगा दें तो आपको सालाना रिटर्न के तौर पर ज्‍यादा ब्‍याज मि‍लेगा। 
आगे पढ़ें : छोटे-छोटे चार्ज से होता है बड़ा नुकसान  
 
 
 
ये भी हो सकते हैं नुकसान 
 
- सेविंग अकाउंट में बैंक की ओर से मि‍नि‍मम बैलेंस रखने का प्रावधान होता है। ऐसा न करने पर बैंक आपसे पेनल्टी वसूलते हैं। कई बैंकों में मि‍नि‍मम बैलेंस की सीमा 10,000 रुपए है। ऐसे में आपके पास दो से ज्यादा अकाउंट हैं तो आपकी टेंशन बढ़ सकती है। 
 
- कई अकाउंट होने से आपको सालाना मेंटिनेंस फीस और सर्विस चार्ज देने होते हैं। क्रेडिट और डेबिट कार्ड के अलावा अन्य बैंकिंग सुविधाओं के लिए भी बैंक कुछ चार्ज वसूलते हैं। यहां भी आपको काफी नुकसान उठाना पड़ता है। 
 
आगे पढ़ें : इनकम टैक्स फाइल करने में होगी दि‍क्‍कत 
इनकम टैक्स फाइल करने में परेशानी 
 
ज्यादा बैंको में अकाउंट होने से आयकर जमा करते समय काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कागजी कार्रवाई में अधिक माथापच्ची करनी पड़ती है। साथ ही इनकम टैक्स फाइल करते समय सभी बैंक खातों से जुड़ी जानकारी रखना और उनके स्टेटमेंट का रिकॉर्ड जुटाना काफी पेचीदा काम हो जाता है। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट