Home » Personal Finance » Banking » UpdatePNB Employee Retirement, PNB Fraudulence, 11356 Crore Fraud, PNB इम्‍प्‍लॉई के रिटायरमेंट ने खोल दी पोल, सामने आया 11330 करोड़ का घोटाला

PNB इम्‍प्‍लॉई के रिटायरमेंट ने खोल दी पोल, सामने आया 11356 करोड़ का घोटाला

पंजाब नेशनल बैंक के एक कर्मचारी के रिटायरमेंट ने बैंक में 2011 से चल रहे फ्रॉड की पोल खोल दी।

1 of

नई दिल्‍ली. पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के एक कर्मचारी के रिटायरमेंट ने बैंक में 2011 से चल रहे फ्रॉड की पोल खोल दी। इसकी वजह से ही पीएनबी में लगभग 11356  करोड़ रुपए का यह स्कैम सामने आया। अगर यह कर्मचारी रिटायर नहीं होता तो शायद फ्रॉड का यह खेल और ज्यादा वक्त तक चलता रहता। इस मामले ने बैंकिंग सिस्‍टम में चेक ओर बैंलेंस सिस्‍टम की खामियों को भी उजागर कर दी है। बता दें कि इस मामले में दो ज्वैलर्स नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के नाम सामने आए हैं। इनके और पीएनबी के कुछ कर्मचारियों के खिलाफ जांच जारी है। 

 

कर्मचारियों ने कैसे बायपास किया सिस्‍टम ?

- बैकिंग इंडस्‍ट्री से जुड़े सूत्रों ने moneybhaskar.com को बताया- किसी भी बैंक में कम से कम दो कर्मचारी ट्रांजैक्‍शन को अथॉराइज करते हैं। इस मामले में बैंक के दोनों कर्मचारी आरोपी पार्टी से मिल कर काम कर रहे थे। इस मामले में जब पार्टी यानी नीरव मोदी और उनके सहयोगी पीएनबी में लेटर ऑफ अंडरटेकिंग के लिए आए तो पीएनबी के कर्मचारियों ने उनको एलओयू जारी कर दिया।

- नियमों के मुताबिक पीएनबी को इस एलओयू को बैंक की बुक में दर्ज करना चाहिए था। यानी बैंक के कोर बैंकिंग सिस्‍टम में दर्ज करना चाहिए था। लेकिन कर्मचारियों ने ऐसा नहीं किया। इसके अलावा कर्मचारियों ने स्विफ्ट फाॅर्मेट में कोडेड मैसेज दूसरे बैंक को जारी कर दिया।इसके साथ ही पार्टी ने अपने लिए भी इलेक्‍ट्रॉनिक मैसेज जारी करा लिया। पार्टी ने बाद में इस मैसेज के आधार पर हजारों करोड़ दूसरे बैंक से जारी करा लिए।

 

होना क्या चाहिए था? यानी नियम क्या है?

- सूत्रों का कहना है कि नियम के मुताबिक, किसी पार्टी को एलओयू जारी करने से पहले उसकी लिमिट देखी जानी चाहिए थी। इस मामले में नीरव मोदी के पास कोई लिमिट नहीं थी। जब पीएनबी का एक कर्मचारी रिटायर हो गया और उसकी जगह पर दूसरा कर्मचारी आया। उसने देखा कि इस पार्टी को बिना लिमिट के ही एलओयू जारी किया जा रहा है। इसके बाद 31 दिसंबर को उस कर्मचारी ने बैंक के इंटरनल सिस्‍टम को रिपोर्ट किया। इसके बाद पीएनबी ने दूसरे रेग्युलेटर्स को इस बारे में बताया। यह घोटाला बैंकिंग सिस्‍टम को पूरी तरह से बायपास करके किया गया है। अगर सिस्‍टम को पूरी तरह से फॉलो किया जाता तो यह घोटाला मुमकिन ही नहीं था। 

  

बैंक में चेक एंड बैलेंस सिस्‍टम की खुली पोल 

- सूत्रों का कहना है कि फ्रॉड के इस मामले ने बैकों में चेक एंड बैलेंस सिस्‍टम पर भी सवाल खड़ा कर दिया है। अगर दो कर्मचारी संबंधित पार्टी (लोन लेने वाले शख्स या संस्था) के साथ मिल कर फ्रॉड कर रहे थे तो इतनी बड़ी रकम एक ही पार्टी को जाती रही। टॉप लेवल पर किसी ने कोई ध्‍यान क्‍यों नहीं दिया। इसके अलावा बैंक के इंटरनल ऑडिट और रिजर्व बैंक के इंस्‍पेक्‍शन में भी यह बात सामने ना आना शक पैदा करता है। 


कैसे हुआ फ्रॉड?

- बताया जा रहा है कि इस पूरे मामले को लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) के माध्यम से अंजाम दिया गया। यह एक तरह की गारंटी होती है, जिसके आधार पर दूसरे बैंक अकाउंटहोल्डर को पैसा मुहैया करा देते हैं।

- अब यदि अकाउंटहोल्डर डिफॉल्ट कर जाता है तो एलओयू मुहैया कराने वाले बैंक की यह जिम्मेदारी होती है कि वह संबंधित बैंक को ड्यूज का पेमेंट करे। 

- समझा जाता है कि पीएनबी के मामले में संदिग्ध ट्रांजैक्शन बैंक अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत के जरिए हुआ।

- पीएनबी ने भले ही दूसरे लेंडर्स के नाम का जिक्र नहीं किया। लेकिन समझा जाता है कि पीएनबी द्वारा जारी एलओयू के आधार पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और एक्सिस बैंक ने भी क्रेडिट ऑफर कर दिया था।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट