Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

भारत ने चीन में शुरू किया दूसरा IT कॉरिडोर, इंडियन सॉफ्टवेयर कंपनियों की बढ़ेगी पहुंच कॉरपोरेट्स से 50 हजार करोड़ टैक्स नहीं वसूल पाया IT, राइट ऑफ करने की प्रक्रिया शुरू अगले कुछ महीने में आएंगे 36 कंपनियों के IPO, 35 हजार Cr जुटाने का लक्ष्‍य इंडिगो, एअर इंडिया एक्‍सप्रेस दुनिया की 5 सबसे सस्‍ती एयरलाइंस में शामिल PNB घोटाला: नीरव मोदी के 7000 करोड़ की संपत्ति जब्‍त करने की तैयारी, ED स्‍पेशल कोर्ट में करेगा अपील नीतीश कुमार का बैंकिंग सिस्टम पर हमला, कहा- नोटबंदी की विफलता के लिए बैंक जिम्मेदार Stock Market: टॉप 5 कंपनियों में निवेशकों ने कमाए 53133 करोड़, SBI में सबसे ज्यादा फायदा अर्थव्‍यवस्‍था में हो रहा है सुधार, इन्‍वेस्‍टमेंट में आएगी तेजी: सीआईआई मोदी ने स्‍मार्ट ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया, कहा- 4 साल में 3 लाख करोड़ से 28 हजार किमी से अधिक नए हाईवे बने Mann Ki Baat में PM मोदी: प्‍लास्टिक पॉल्‍युशन कम करें, बचपन के खेलों को जिंदा रखने की जरूरत Stock Market: FPI की बिकवाली जारी, मई में बाजार से निकाले 26700 करोड़ रु Petrol Price: दिल्ली में पेट्रोल 78 के पार, 15 पैसे की बढ़ोतरी Vivo V9 vs Oppo F7 : 22,000 रुपए की रेंज में जानें कौन सा फोन है दमदार DFC का पहला हिस्सा 15 अगस्त को खुलेगा, तीन गुना तेज चलेंगी मालगाड़ी कॉरपोरेशन बैंक को Q4 में 1,838 करोड़ का घाटा
बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » Updateखास खबर: क्‍या क्‍वालिटी की कीमत पर बढ़ रहा है सरकारी बैंकों का बिजनेस?

खास खबर: क्‍या क्‍वालिटी की कीमत पर बढ़ रहा है सरकारी बैंकों का बिजनेस?

नई दिल्‍ली. सरकारी बैंक का मैनेजर आम आदमी से लेकर कॉरपोरेट तक को लोन देता , लोन की रिकवरी करता है, डिपॉजिट भी लेता है, जन धन अकाउंट भी खोलता है और बीमा प्रोडक्‍ट भी बेचता है। क्‍या एक आदमी इन सभी चीजों का एक्‍सपर्ट हो सकता है? एक पूर्व बैंकर का जवाब है- नहीं। जब आप एक साथ इतने काम करते हैं, तो किसी एक चीज में आप की एक्‍सपर्टीज नहीं हो सकती है। ऐसे में काम की क्‍वालिटी पर असर पड़ना लाजिमी है। सरकारी बैंकों में बैकिंग की क्‍वालिटी कैसे बद से बदतर होती जा रही है। इसे आप इस उदाहरण से आसानी से समझ सकते हैं।

 

10 साल में 4 गुनी बढ़ी सरकारी बैंकों की लेंडिंग 

 

 मार्च 2017 तक बैंकों ने दिया कुल कर्ज  58664 अरब  रुपए 
ग्रॉस एनपीए  11.7 %
मार्च 2007 तक बैंकों का कुल कर्ज  14691अरब  रुपए 
ग्रॉस एनपीए  2.7%

 

सरकारी बैंकों ने यह भी किया 

जन धन अकाउंट खुले   38 करोड़ 
बीमा उत्‍पाद बिके 18 करोड़ 

पिछले 10-15 सालों में सरकारी बैंकों का धंधा तो कई गुना बढ़ा है लेकिन बैंकिंग की क्‍वालिटी में भी उसी अनुपात में गिरावट आई है। पीएनबी बैंक फ्रॉड और सरकारी बैंकों का एनपीए बढ़ कर 7.50 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाने के बीच इस बात की पड़ताल करना जरूरी है कि क्‍या काम और टारगेट के दबाव में बैकर्स बैंकिंग की क्‍वालिटी की कीमत पर बिजनेस बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं। अगर ऐसा है तो इसका नतीजा आम आदमी को किस तरह से भुगतना पड़ रहा है। 

 

 

कैसे खराब हुई बैंकिंग की क्‍वालिटी? 

- सरकारी बैंकों पर बढ़ा कमर्शियल बैंकिंग का दबाव 

- जन-धन अकाउंट खोलने से लेकर वित्‍तीय समावेशन का काम 
- थर्ड पार्टी प्रोडक्‍ट जैसे बीमा उत्‍पाद बेचने का काम भी कर रहे बैंक 
- 10 साल तक बैंकों में भर्तिया रहीं थी ठप 
- एक्‍सपर्टीज डेवलप करने पर नहीं रहा फोकस 
- अनुभवी लोग जल्‍द होने वाले हैं रिटायर 

 

'पहले के मुकाबले गिरी है सरकारी बैंकों की क्‍वालिटी'

पिछले लगभग दो दशकों में सरकारी बैंकों का बिजनेस तो कई गुना बढ़ा लेकिन ऐसा बैकिंग की क्‍वालिटी की कीमत पर हुआ। बैंकर्स ने पूरी तरह से इस बात की जांच पड़ताल किए बिना धड़ाधड़ लोन लिए कि यह प्रोजेक्‍ट आर्थिक तौर पर वहनीय है या नहीं। अब सरकारी बैंकों को इसका खामियाजा 7.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक के एनपीए के तौर पर चुकाना पड़ रहा है। भारतीय स्‍टेट बैंक के पूर्व सीजीएम सुनील पंत ने moneybhaskar.com को बताया कि अगर आप पहले से तुलना करें तो निश्चित तौर पर सरकारी बैंकों में बैकिंग की क्‍वालिटी खराब हुई है। अब यह जरूरी हो गया है कि बैकिंग की क्‍वालिटी को सुधारा जाए वरना आम लोगों का भरोसा सरकारी बैंकों से उठ जाएगा।

 

'प्राइवेट बैंकों में हर काम के लिए अलग डिपार्टमेंट'

नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स के उपाध्‍यक्ष अश्विनी राणा का कहना है कि जब लोन देने से लेकर लोन की रिकवरी करने और म्‍युचुअल फंड बेचने तक का काम एक ही आदमी करेगा जो बैकिंग क्‍वालिटी पर असर तो पड़ेगा ही। अब तो सरकार ने आधार को अपडेट करने का काम भी बैंकों के हवाले कर दिया है। अश्विनी राणा का कहना है कि प्राइवेट बैंकों में लोन देने, लोन की रिकवरी, म्‍युचुअल फंड बेचने के लिए अलग अलग डिपार्टमेंट होता है। ऐसे में वहां बैकिंग की क्‍वालिटी बेहतर है।

 

'अर्बन, रूरल ब्रांच में क्‍वालिटी को लेकर दिक्‍कत'

पंजाब एंड सिंध बैंक के पूर्व जीएम जीएस बिंद्रा का कहना है कि सेमी अरबन और रूरल में सरकारी बैंकों की ब्रांच में क्‍वालिटी या वर्कफोर्स को लेकर दिक्‍कत है। लेकिन शहरों में जो बैंकों की ब्रांच हैं वहां अलग अलग लोग अलग तरह का काम करते हैं। वहां एक्‍सपर्टीज की दिक्‍कत नहीं है। 

 

पहले कैसे थी बैंकिंग की क्‍वालिटी? 

- पहले सरकारी बैंक करते थे साधारण बैकिंग 

- कॉरपोरेट्स और बड़े प्रोजेक्‍ट को फाइनेंस करते थे फाइनेंशियल इंस्‍टीट्यूशन 
- सरकारी योजनाओं को लागू करने की नहीं थी जिम्‍मेदारी 
- बैंक कर्मियों पर नहीं था काम का भारी दबाव 

 

'पहले काम का दबाव इतना नहीं था'

90 के दशक में भी सरकारी बैंक जमा निकासी सहित साधारण बैंकिंग करते थे। बड़े कॉरपोरेट्स और बड़े प्रोजेक्‍ट के लिए लोन देने के लिए अलग फाइनेंश्यिल इंस्‍टीट्यूशन थे। बैंक मैनेजर को जन-धन अकाउंट खोलने या बीमा उत्‍पाद बेचने की चिंता नहीं करनी पड़ती थी। बैंक मे काम करने वाले कर्मचारियों पर काम का भी दबाव भी उतना नही था। अश्विनी राणा का कहना है कि पहले सरकारी बैंकों में बैकिंग की क्‍वालिटी बेहतर थी। लोग सरकारी बैंकों पर आंख मूंद कर भरोसा करते थे। वहीं पंजाब एंड सिंध बैंक के पूर्व जीएम जीएस  बिंद्रा का कहना है कि पहले बैंक उस समय की जरूरतों के मुताबिक बैकिंग करते थे और अब लोगों की जरूरतें बदल गई हैं। ऐसे में अब बैंकों को भी अपनी एप्रोच को बदलना पड़ा है। 

 

 

आगे पढ़ें... बैंकिंग क्‍वालिटी गिरने की आम आदमी कैसे चुकाता है कीमत

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.