बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » UpdatePNB की रेटिंग घटा सकते हैं मूडीज और फिच, 11400 करोड़ रु. के घोटाले से जूझ रहा है बैंक

PNB की रेटिंग घटा सकते हैं मूडीज और फिच, 11400 करोड़ रु. के घोटाले से जूझ रहा है बैंक

रेटिंग एजेंसी फिच ने मंगलवार को पंजाब नेशनल बैंक को रेटिंग वाच नेगेटिव पर रखा है।

Fitch Can Downgrade Rating of PNB, PNB की रेटिंग घटा सकता है फिच, फिलहाल रेटिंग वाच नेगेटिव पर

 

मुम्‍बई. ग्‍लोबल रेटिंग एजेंसी मूडीज और फिच ने पंजाब नैशनल बैंक (PNB) को रेटिंग को लेकर चेतावनी जारी की है। दोनों रेटिंग एजेंसी ने पीएनबी में हुए 11400 करोड़ रुपए के घोटाले के बाद रेटिंग घटाने की बात कही है। पीएनबी में हुआ घोटाला देश में बैंकिंग इतिहास में हुआ सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला है। 

 

 

मूडीज ने तीन कारण गिनाए
मूडीज ने पीएनबी की रेटिंग घटाने के तीन कारण गिनाए हैं। पहला है घोटाले से बैंक पर पड़ने वाला वित्‍तीय प्रभाव, दूसरा बैंक का प्रबंधन किस तरह कैपटिलाइजेशन को लेकर एक्‍शन लेता है और तीसरा है आरबीआई या अन्‍य रेग्‍युलेटर बैंक के खिलाफ किस तरह का एक्‍शन लेते हैं। 

 

 

फिच ने रेटिंग को निगेटिव वॉच कैटेगरी में रखा
रेटिंग एजेंसी फिच ने PNB की रेटिंग को वाच नेगेटिव में कर दिया है। इसका मतलब है कि पंजाब नैशनल बैंक की रेटिंग को घटाया जा सकता है। फिच की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि फिच ने पंजाब नेशनल बैंक की वायबिलिटी रेटिंग बीबी को रेटिंग वाच नेगेटिव पर रखा है। पीनएनबी में बड़ा फ्रॉड सामने आने के बाद रेटिंग एजेंसी ने यह कदम उठाया है। 

 

 

क्‍या है वायबिलिटी रेटिंग का मतलब 
वायबिलिटी रेटिंग फाइनेंशियल इंस्‍टीट्यूशन की साख को मापती है और यह दिखाती है कि फिच के अनुसार किसी संस्‍थान के फेल होने की कितनी संभावना है। रेटिंग वाच नेगेटिव का मतलब है कि पीएनबी की वायबिलिटी रेटिंग को घटाया जा सकता है। 

पीएनबी पर नजर रखेगा फिच 
फिच के बयान में कहा गया है कि जब पीएनबी की वित्‍तीय स्थिति और बैंक के सिस्‍टम को लेकर स्थिति साफ हो जाएगी तो फिच रेटिंग वाच पर नए सिरे से विचार करेग। फिच ने कहा है कि फ्रॉड की घटना से बैंक की साख को झटका लगा है कैपिटल मार्केट पर प्रभाव पड़ा है। फिच ने कहा है कि हम पीएनबी की पूरी लायबिलिटी, संभावित रिकवरी और बैंक आंतरिक ओर बाहरी स्रोत से कितनी नई पूंजी जुटा सकता है इन सभी चीजों की निगरानी करेंगे। इसके आधार पर फैसला किया जाएगा कि बैंक की मौजूदा वायबिलिटी रेटिंग जारी रखने लायक है या नहीं। 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट