Home » Personal Finance » Banking » Updatesbi issues advisory for safe it usage

SBI की चेतावनी, किसी को न बताएं मां का सरनेम

सरकारी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्‍टेटबैंक यानी एसबीआई ने अपने लगभग 17 करोड़ डेबिट कार्ड होल्‍डर्स को के लिए चेत

1 of

नई दिल्‍ली। सरकारी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्‍टेटबैंक यानी एसबीआई ने अपने लगभग 17 करोड़ डेबिट कार्ड होल्‍डर्स को के लिए चेतावनी जारी की है। एसबीआई ने अपने डेबिट कार्ड होल्‍डर से कहा है कि वे अपनी मां का सरनेम किसी के साथ शेयर न करें। इसका कारण यह है कि जब आप अपने डेबिट कार्ड का पासवर्ड रीसेट करते हैं तो सिक्‍योंरिटी क्‍वेश्‍चन में मां का सरनेम या अपने पेट नेम यानी जिस नाम से आपके घर वाले ही आपको बुलाते हैं देते हैं। ऐसे में आपको ये नाम किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहिए। ऐसा करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है और हैकर्स आपके बैंक अकाउंट में सेंध लगा सकते हैं। 

 

इंटरनेट बैंकिंग का बनाएं मजबूत पॉसवर्ड 

एसबीआई के मैनेजिंग डायरेक्‍टर, रिस्‍क आईटी एंड सब्सिडियरीज दिनेश खारा के मुताबिक अगर आप इंटरनेट बैंकिंग करते हैं तो इंटरनेट बैंकिंग की यूजर आईडी और पासवर्ड गोपनीय रखें। हमेशा स्‍ट्रॉग पासवर्ड मेंटेन करें। अक्‍सर लोग सरल पासवर्ड सेलेक्‍ट करते हैं जिससे पासवर्ड याद रखने में आसानी हो। लेकिन इससे अकाउंट हैक करने का खतरा बढ़ जाता है। इसका कारण यह है कि सरल पासवर्ड साइबर क्राम करने वाले आसानी से क्रैक कर लेते हैं। इसके अलावा यह जरूरी है कि आप समय समय पर अपना पासवर्ड बदलते रहें।
 

आईटी का सेफ यूज जरूरी 

 

जब हम सड़क पर ड्राइव करते हैं या पैदल चलते हैं तो इसका सुरक्षित यूज करना हमारी रूटीन में शामिल होता है। इसी तरह से जब आप कंप्‍यूटर या इन्‍फार्मेशेन टेक्‍नोलॉजी का यूज करें तो आईटी का सुरक्षित यूज हमारी लाइफ का अभिन्‍न अंग बन जाना चाहिए। इस तर हसे हम खुद को साइबर क्राइम से खुद को सुरक्षित रख पाएंगे। 

बैंकों ने फ्रॉड में गवाएं 17,000 करोड़ रुपए 

वित्‍त वर्ष 2016-17 में बैंकों ने फ्रॉड के मामलों में लगभग 17,000 करोड़ रुपए गंवाएं हैं। केंद्रीय वित्‍त राज्‍य मंत्री शिवप्रताप शुक्‍ला ने हाल में लोकसभा में यह जानकारी दी है। वित्‍त मंत्रालय ने रिजर्व बैंक की फ्रॉड मॉनीटरिंग कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर यह जानकारी दी है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट