Home » Personal Finance » Banking » UpdateNow assets of IDFC is 88 thousand crore rupees

IDFC बैंक और कैपिटल फर्स्‍ट का मर्जर, 88000 करोड़ की एसेट वाली कंपनी बनी

आईडीएफसी बैंक और कैपिटल फर्स्ट के मर्जर की डील का ऐलान हो गया।

Now assets of IDFC is 88 thousand crore rupees

नई दिल्‍ली। आईडीएफसी बैंक और कैपिटल फर्स्ट के मर्जर की डील का ऐलान हो गया। मर्जर डील में दोनों कंपनियों का शेयर स्वैप रेशियो 139:10 है। इसमें आईडीएफसी के 139 शेयर, कैपिटल फर्स्ट के 10 शेयर के बराबर होंगे। नई कंपनी का ऐसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 88,000 करोड़ रुपये का होगा। कंपनी की 194 ब्रांच नेटवर्क है और देश के 50 लाख कस्‍टमर्स को सर्विस देगी। 

 

वी वैद्यनाथन होंगे सीईओ 

मर्जर के बाद जारी बयान में आईडीएफसी बैंक ने कहा कि मर्जर से डिपॉजिट और बिजनेस के एक्‍सपेंशन में मदद मिलेगी। आज के ऐलान के बाद आईडीएफसी बैंक के सीएफओ बिपिन गेमानी ने इस्तीफा दे दिया। नई  कंपनी के एमडी और सीईओ वी वैद्यनाथन होंगे। 

 

मर्जर से बैलेंस शीट मजबूत होगी 
वित्त वर्ष 2017 में 1268 करोड़ रुपये का मुनाफा कमानेवाले कैपिटल फर्स्ट के लोन बुक में अभी 30 लाख ग्राहक हैं। आईडीएफसी का कहना है कि मर्जर से उसकी बैलेंस शीट मजबूत होगी और 100 से ज्यादा बैंक शाखाओं का विस्तार किया जाएगा। कहा जा रहा है कि नई कंपनी में हाउसिंग लोन पोर्टफोलियो पर जोर दिया जाएगा।

 

ट्रांसफॉर्मेशनल साबित होगी डील 

मर्जर के बाद जारी जारी बयान में राजीव लाल ने कहा कि हमें विश्‍वास है कि आईडीएफसी बैंक के लिए ट्रांसफॉर्मेशनल साबित होगी। यह मर्जर दो टेक-सेवी कंपनी को एक साथ लाएगी। और आईडीएफसी तेजी से ग्रो करेगी और सभी शेयर होल्‍डर्स को इसका फायदा मिलेगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट