बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » Updateबैंक में जमा आपके पैसे पर सरकार उठा सकती है ये कदम, वित्‍त मंत्री का ऐलान

बैंक में जमा आपके पैसे पर सरकार उठा सकती है ये कदम, वित्‍त मंत्री का ऐलान

जब से देश में पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनी है, तभी से बैंकिंग सेक्‍टर में कई बड़े फैसले लिए गए हैं।

1 of

नई दिल्‍ली।  जब से देश में पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनी है, तभी से बैंकिंग सेक्‍टर में कई बड़े फैसले लिए गए हैं। अब सरकार आपके बैंक डिपोजिट की सिक्‍योरिटी को अधिक मजबूत करने जा रही है। इसके लिए सरकार इंश्‍योरेंस लिमिट को बढ़ाने पर विचार कर रही है। हाल ही में वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने राज्‍यसभा में फाइनेंशियल रिजॉल्यूशन एंड डिपॉजिट इंश्योरेंस (एफआरडीआई) बिल पर चर्चा के दौरान यह जानकारी दी। तो आइए, जानते हैं कि सरकार के इस कदम से आपको कैसे फायदा मिलेगा।   

 

आपको क्या होगा फायदा

 

मौजूदा कानून के तहत अगर कोई बैंक डूब जाता है, तो उसके कस्टमर का रखा पैसा पूरी तरह से डूब जाएगा। उसके बदले आपको एक लाख रुपए मिलेंगे। यानी भले ही बैंक में आपने एक लाख रुपए से ज्यादा पैसे रखे हो पर डूबने की स्थिति में केवल 1 लाख मिलेंगे।  अगर सरकार बैंक डिपॉजिट इंश्‍योरेंस लिमिट बढ़ाती है तो आपको पैसे डूबने की स्थिति में 1 लाख से ज्‍यादा रुपए मिलेंगे। 

 

भारतीयों का इस तरह बैंकों में जमा है पैसा

 

भारतीय कस्टमर सबसे ज्यादा रकम टर्म डिपॉजिट (एफडी और आरडी) के रुप में रखते हैं। इसके बाद सेविंग अकाउंट और करंट अकाउंट में पैसे रखते हैं।

 

अकाउंट

कुल अकाउंट

कुल जमा

औसत रकम प्रति अकाउंट

एफडी और आरडी

23.9 करोड़

61 लाख करोड़

254391 रु

सेविंग अकाउंट

135.1 करोड़

27 लाख करोड़

19759 रु

करंट अकाउंट

5.7 करोड़

9 लाख करोड़

1,51,163 रु

आगे पढ़ें -बैंक डिपोजिट पर इंश्‍योरेंस की अन्‍य देशों में क्‍या है स्थिति 

 

 

 

एसबीआई द्वारा डिपॉजिट इन्श्योरेंस पर तैयार की गई रिपोर्ट के अनुसार  बैंक अकाउंट पर अपने कस्टमर की जमा रकम की सबसे ज्यादा सुरक्षा ब्राजील, अमेरिका, फ्रांस जैसे देशों में है। भारत इस मामले में सभी प्रमुख देशों की तुलना में काफी पीछे है।

 

देश

गारंटी इंडीकेटर

ब्राजील

7.4

यूएसए

4.4

ऑस्ट्रेलिया

3.7

इटली

3.6

फ्रांस

3.0

यू.के

2.8

भारत

0.9

 

नोट- गारंटी इंडीकेटर डिपॉजिट इन्श्योरेंस कवरेज और प्रति व्यक्ति आय से तुलना के आधार पर तैयार किया गया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट