विज्ञापन
Home » Personal Finance » Banking » Step To Step GuideGovt eyes over 1 crore enrolments by April end under PMSYM scheme

3000 रुपए की पेंशन के लिए अप्रैल के अंत तक 1 करोड़ लोग करा लेंगे पंजीकरण

आपके पास भी है मौका, हर रोज हो रहा एक लाख लोगों को पंजीकरण

1 of

नई दिल्ली। सरकार को प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना (पीएमएसवाईएम) के तहत अप्रैल के अंत तक एक करोड़ और पंजीकरण होने का अनुमान है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। इस योजना के तहत असंगठित क्षेत्र के कामगारों को पेंशन देने का प्रावधान है। इस योजना की शुरुआत पिछले महीने हुई थी।

सीएससी के सीईओ ने किया दावा
सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) दिनेश त्यागी ने पीटीआई से कहा कि हम इस योजना के तहत पहले ही असंगठित क्षेत्र के 25.36 लाख लोगों को पंजीकृत कर चुके हैं। हम हर रोज करीब एक लाख लोगों का पंजीकरण हो रहा है। हमें उम्मीद है कि अप्रैल, 2019 के अंत तक एक करोड़ लोगों का पंजीयन कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि असंगठित क्षेत्र के कामगारों के बीच योजना के बारे में जागरूकता बढ़ने के साथ ही प्रतिदिन पंजीकरण में तेजी आएगी। उन्होंने कहा कि हमें इस साल दिसंबर के अंत तक योजना के तहत पांच करोड़ कामगारों का पंजीकरण पूरा होने की उम्मीद है। त्यागी ने कहा कि अगले पांच साल में योजना के तहत 10 करोड़ लोगों के पंजीकरण का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि जागरूकता बढ़ने के बाद लक्ष्य को पाना मुश्किल नहीं होगा।

3000 रुपए की पेंशन का है प्रावधान


इस स्कीम का लाभ लेने के लिए कामगारों को सहयोग करना होगा। वित्त मंत्री के अनुसार, 29 साल या इससे ज्यादा की उम्र में इस स्कीम से जुड़ने वाले कामगारों को हर महीने 100 रुपए का योगदान देना होगा। जबकि 18 साल की उम्र में इस स्कीम से जुड़ने वालों को केवल 55 रुपए प्रति माह का योगदान देना होगा। जितना योगदान कामगार की ओर से दिया जाएगा, उतना ही योगदान सरकार की ओर से दिया जाएगा। यह सारा पैसा एक खाते में जमा होगा।

 

इन लोगों को मिलेगा योजना का लाभ 


योजना असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों के लिए है। इनमें घर में काम करने वाले, रेहड़ी लगाने वाले दुकानदार, ड्राइवर, प्लंबर, दर्जी, मिड-डे मील वर्कर, रिक्शा चालक, निर्माण कार्य करने वाले मजदूर, कूड़ा बीनने वाले, बीड़ी बनाने वाले, हथकरघा, कृषि कामगार, मोची, धोबी, चमड़ा कामगार को शामिल किया गया है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन