बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Banking » Updateखत्‍म हो सकता है फ्री बैंकिंग का दौर, हर सर्विस के लिए देना होगा पैसा

खत्‍म हो सकता है फ्री बैंकिंग का दौर, हर सर्विस के लिए देना होगा पैसा

बैंक से आपको फ्री सर्विस मिलने का दौर खत्‍म हो सकता है और आपको बैंक से मिलने वाली सभी सेवाओं के लिए पैसा देना पड़ सकता ह

1 of

नई दिल्‍ली. बैंक से फ्री सर्विस मिलने का दौर खत्‍म हो सकता है। यानी जो सर्विस अभी  बैंक से

आपको फ्री में मिल रही है, उस पर आप को चार्ज चुकाना होगा। यही नहीं यह चार्ज आपको पिछले 5 साल में किए गए ट्रांजैक्शन पर भी देना होगा। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि  इनकम टैक्‍स विभाग ने बैंकों को नोटिस देकर उन फ्री सर्विसेज पर टैक्‍स देने को कहा है जो बैंक कस्‍टमर को मुहैया कराते हैं। जैसे बहुत से बैंक कुछ अकाउंट पर मिनिमम अकाउंट बैलेंस चार्ज नहीं लेते हैं। यानी इन अकाउंट में मिनिमम बैलेंस मेन्‍टेन करना जरूरी नहीं है। या अभी एटीएम ट्रांजैक्शन पर एक लिमिट तक आपको फ्री में यह सेवाएं मिलती है।

 

 

 

बैंकों को  रिजर्व बैंक से उम्‍मीद 

एक प्राइवेट बैंक के वरिष्‍ठ अधिकारी ने moneybhaskar.com से बातचीत में इनकम टैक्‍स विभाग से टैक्‍स नोटिस मिलने की पुष्टि की है। अधिकारी ने कहा कि इनकम टैक्‍स विभाग ने पिछले 5 साल की अवधि के लिए टैक्‍स डिमांड की है। इसमें से चार साल सर्विस टैक्‍स लागू था बाकी एक साल से बैंक सर्विसेज पर जीएसटी लागू है। उन्होंने कहा, 'ऐसे में हम कस्‍टमर से पिछले 5 साल का चार्ज कैसे वसूल सकते हैं। उम्‍मीद है कि रिजर्व बैंक इस मामले में हस्‍तक्षेप करेगा।' 

 

 

6 हजार करोड़ रुपए तक हो सकता है टैक्‍स 

डायरेक्‍टोरेट जनरल ऑफ गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स इंटेलिजेंस ने बैंकों को टैक्‍स डिमांड का नोटिस भेजा है। अनुमान है कि यह टैक्‍स लगभग 6 हजार करोड़ रुपए तक हो सकता है। आने वाले समय में कुछ और बैंकों को भी इसी तरह का नोटिस भेजा जा सकता है। इनकम टैक्‍स विभाग के एक अधिकारी के अनुसार इनकम टैक्‍स के पास अधिकार है कि वह पिछले 5 साल के सर्विस टैक्‍स के मामलों को खोल सकता है। 

 

 

ग्राहकों की कटेगी जेब 

बैंक अधिकारी के मुताबिक अगर फ्री सर्विसेज पर पिछले 5 साल की अवधि के लिए टैक्‍स देना पड़ता है तो इसका बोझ ग्राहकों पर ही पड़ेगा। बैंक इसकी भरपाई ग्राहकों से करेंगे। अगर इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट अपने इस कदम पर कायम रहता है तो बैंकों से ग्राहकों को फ्री सर्विस मिलने का दौर खत्‍म हो सकता है। 

 

 

इनकम टैक्‍स विभाग ने कैसे कैलकुलेट किया टैक्‍स 

बैंकों ने मिनिमम अकाउंट बैलेंस मेन्‍टेन न करने वाले कस्‍टमर्स से चार्ज वसूला है। इनकम टैक्‍स विभाग ने इसके आधार पर ही टैक्‍स कैलकुलेट किया है। भारतीय स्‍टेट बैंक ने अप्रैल नवंबर 2017 की अवधि में अकाउंट में मिनिमम बैलेंस न मेन्‍टेन करने वाले कस्‍टमर्स से 1,771 करोड़ रुपए चार्ज वसूला है। हालांकि मौजूदा वित्‍त वर्ष ने भारतीय स्‍टेट बैंक ने यह चार्ज घटा दिया है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट