बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » Mutual Fund » Updateघर बैठे कर सकते हैं म्‍युचुअल फंड में निवेश, डायरेक्‍ट प्‍लान में अन्‍य तरीकों से ज्‍यादा मिलता है रिटर्न

घर बैठे कर सकते हैं म्‍युचुअल फंड में निवेश, डायरेक्‍ट प्‍लान में अन्‍य तरीकों से ज्‍यादा मिलता है रिटर्न

म्‍युचुअल फंड में निवेश काफी आसान है। लोग अगर इंटरनेट के इस्‍तेमाल में सक्षम हैं तो वह घर बैठे ही निवेश कर सकते हैं।

Three way to invest in mutual funds

 

नई दिल्‍ली. म्‍युचुअल फंड के फायदे को देखते हुए लोग अब इसमें इन्‍वेस्‍टमेंट के बारे में सोचने लगे हैं, लेकिन ज्‍यादातर लोगों इसमें निवेश के तरीकों की सही जानकारी नहीं है। हालांकि म्‍युचुअल फंड में निवेश करना काफी आसान है। लोग अगर इंटरनेट के इस्‍तेमाल में सक्षम हैं तो वह घर बैठे ही इसमें निवेश कर सकते हैं। इसके अलावा एजेंट के माध्‍यम से भी म्‍युचुअल फंड में निवेश संभव है। कुल मिला कर 3 तरीकों से Mutual Funds में निवेश किया जा सकता है।

 

कौन से हैं तीन तरीके

1   इन तीन तरीकाें में एक है म्‍युचुअल फंड कंपनी की वेबसाइट पर जाकर सीधे निवेश करना। यह निवेश का सबसे अच्‍छा तरीका है और इसमें इन्‍वेस्‍टमेंट अन्‍य तरीकों से ज्‍यादा रिटर्न दिलाता है। इस तरीके से निवेशक म्‍युचुअल फंड योजनाओं के डायरेक्‍ट प्‍लान खरीद सकते हैं। सेबी के आदेश पर म्‍युचुअल फंड कंपनियों को अपनी हर स्‍कीम में डायरेक्‍ट प्‍लान का आप्‍शन देना जरूरी है।

 

2   दूसरा तरीका है कि अगर आपने किसी स्‍टॉक ब्रोकर के यहां पर डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोल रखा है या म्‍युचुअल फंड बेचने वाली वेबसाइट पर अकाउंट बना रखा है तो अाप यहां से भी म्‍युचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं। स्‍टॉक ब्रोकर के यहां अकाउंट में म्‍युचुअल फंड उसी तरह से खरीदा जा सकता है जैसे किसी शेयर को खरीदा जाता है।

 

3   तीसरा तरीका है किसी एजेंट के माध्‍यम से इसमें निवेश करना। इन एजेंट से आप संपर्क के लिए म्‍युचुअल फंड कंपनी की वेबसाइट पर जाकर अपनी जानकारी डाल सकते हैं। बाद में कंपनी आपसे संपर्क करती है और अपने एजेंट को भेजती है। इसके अलावा हर म्‍युचुअल फंड कंपनी की वेबसाइट में टोल फ्री नबंर दिया रहता है। लोग इन नबंरों पर फोन करके भी एजेंट के बारे में जानकारी ले सकते हैं।

 

पहली बार निवेश में देने होते हैं कई दस्‍तावेज

म्‍युचुअल फंड में अगर पहली बार निवेश किया जा रहा है, तो कई दस्‍तावेज देने पड़ते हैं। इसमें पैन, आधार, कैंसिल चेक और फोटो देना होता है। इन दस्‍तावेज के आधार पर निवेशक का KYC तैयार हो जाता है। इसके बाद निवेश में ऐसी जरूरत नहीं होती है।

 

 

निवेश में क्‍या-क्‍या रखें सावधानी

अगर ऑनलाइन निवेश कर रहे हैं, तो कॉलम भरते वक्‍त जानकारी सही सही दें। सबसे अच्‍छा है कि जानकारी को वेबसाइट पर समिट करने से पहले दोबारा जरूर पढ़ लें। अगर एजेंट के माध्‍यम से निवेश कर रहे हैं तो पैसाें का चेक खुद भरें। इसमें म्‍युचुअल फंड कंपनी नाम और अमाउंट भर कर ही देना चाहिए। इसके अलावा फार्म में म्‍युचुअल फंड कंपनी और स्‍कीम का नाम दोबारा जरूर चेक कर लें।

 

दो तरह के होते हैं म्‍युचुअल फंड

म्‍युचुअल फंड दो तरह के होते हैं। एक है इक्विटी म्‍युचुअल फंड जिनमें निवेश किया गया पैसा स्‍टॉक मार्केट में लगाया जाता है। दूसरे तरह के डेट म्‍युचुअल फंड कहलाते हैं। इन फंड में निवेश सरकार और कंपनियों के डेट इंस्‍ट्रूमेंट में किया जाता है।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट