बिज़नेस न्यूज़ » Personal Finance » ITR Filing31 जुलाई तक फाइल करें इनकम टैक्‍स रिटर्न, वरना देनी होगी 5,000 रुपए तक पेनल्‍टी

31 जुलाई तक फाइल करें इनकम टैक्‍स रिटर्न, वरना देनी होगी 5,000 रुपए तक पेनल्‍टी

अगर आपकी सालाना टैक्‍सेबल इनकम 2.5 लाख रुपए से अधिक है तो आपके लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न ITR फाइल करना जरूरी है।

1 of

नई दिल्‍ली। अगर आपकी सालाना टैक्‍सेबल इनकम 2.5 लाख रुपए से अधिक है तो आपके लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न ITR फाइल करना जरूरी है। वित्‍त वर्ष 2017-18 के लिए फाइल करने की लास्‍ट डेट 31 जुलाई है। अगर आप 31 जुलाई तक इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं करते हैं तो आपको 5,000 रुपए तक पेनल्‍टी देनी होगी। आप पेनल्‍टी दिए बिना इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं कर पाएंगे। 

 

5 लाख रुपए से कम इनकम वालों को देनी होगी 1,000 रुपए पेनल्‍टी 

 

cleartax की चीफ एडीटर और सीए प्रीति खुराना ने moneybhaskar.com को बताया कि अगर किसी की सालाना इनकम 5 लाख रुपए या इससे कम है और उसने 31 जुलाई तक रिटर्न फाइल नहीं किया है तो बाद में रिटर्न फाइल करने के लिए उसे 1,000 रुपए पेनल्‍टी देनी होगी। 5 लाख रुपए से अधिक इनकम वालों को 31 जुलाई तक रिटर्न न फाइल करने पर 5,000 रुपए की पेनल्‍टी देनी होगी। 


इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट लगा सकता है जुर्माना 

 

हम आपको बता चुके हैं कि अगर आपकी सालाना टैक्‍सेबल इनकम 2.5 लाख से अधिक है तो इनकम टैक्‍स एक्‍ट के मौजूदा नियम के तहत आपके लिए ITR फाइल करना जरूरी है। बैंकबाजारडॉटकॉम के सीईओ आदिल शेट्टी के अनुसार अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट आपकी इनकम प्रोफाइल और टैक्‍स प्रोफाइल की स्‍क्रूटनी कर सकता है और आप पर जुर्माना लगा सकता है।

 

इनकम टैक्‍स विभाग की जांच में अगर पाया जाता है कि आपकी इनकम पर टैक्‍स बनता है और आपने ITR फाइल नहीं किया है तो इनकम टैक्‍स विभाग आपके खिलाफ टैक्‍स चोरी के मामले में कार्रवपाई कर सकता है। इसके तहत आपको टैक्‍स और ब्‍याज के साथ जुर्माना भी देना पड़ सकता है। साथ ही इनकम टैक्‍स विभाग आपके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज करा सकता है। 

 

इनकम का प्रूफ 

 

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के अनुसार ITR फाइल करना आपकी ड्यूटी है इससे आपको यह सम्‍मान मिलता है कि आप देश के विकास में योगदान कर रहे हैं। इसके अलावा ITR आपकी इनकम का प्रूफ होता है। इसे सभी सरकारी और प्राइवेट संस्‍थान इनकम प्रूफ के तौर पर स्‍वीकार करते हैं। अगर आप बैंक लोन के लिए आवदेन करते हैं तो बैंक कई बार ITR मांगते हैं। अगर आप नियमित तौर पर ITR फाइल करते हैं तो आपको बैंक से आसानी से लोन मिल जाता है। इसके अलावा आप किसी भी फाइनेंशियल इंस्‍टीट्यूशन से लोन के अलावा दूसरी सेवाएं भी आसानी से हासिल कर सकते हैं। वहीं अगर आप ITR फाइल नहीं करते हैं तो आपको फाइनेंशियल सर्विसेज हासिल करने में दिक्‍कतों का सामना करना पड़ सकता है। 

 

ज्‍यादा टैक्‍स भुगतान किया है तो रिफंड लेने के लिए ITR  जरूरी  
 

बैंकबाजार डॉटकॉम के सीईओ आदिल शेट्टी का कहना है कि ITR  फाइल करने का सबसे अहम फायदा यह है कि अगर आपने ज्‍यादा टैक्‍स का भुगतान किया है तो आप ITR फाइल कर ज्‍यादा टैक्‍स को इंटरेस्‍ट के साथ रिफंड के तौर पर वापस ले सकते हैं। ITR फाइल किए बिना आप रिफंड क्‍लेम नहीं कर सकते हैं। अगर आप इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल नहीं करते हैं तो इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट आपकी इनकम के बारे में स्‍क्रूटनी कर सकता है और यह पाए जाने पर कि आपने टैक्‍सेबल इनकम होने के बावजूद रिटर्न फाइल नहीं किया है तो आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है। 

 

वीजा के लिए जरूरी 
 
अगर आप किसी दूसरे देश में जा रहे हैं तो वीजा के लिए जब आप आवेदन करते हैं तो आपसे इनकम टैक्‍स रिटर्न मांगा जा सकता है। cleartax की चीफ एडिटर और सीए प्रीति खुराना ने moneybhaskar.com को बताया कि कई देशों की वीजा अथॉरिटीज वीजा के लिए 3 से 5 साल का ITR मांगते हैं।  ITR के जरिए वे चेक करते हैं कि जो आदमी उनके देश में जाना चाहता है कि उसका फाइनेंशियल स्‍टेटस क्‍या हे। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट