Home » Personal Finance » Income Tax » Updatemaximum 17 lakhs return filed in one day

ऑनलाईन ITR भरने में महाराष्‍ट्र और यूपी सबसे आगे, एक दिन में सबसे ज्‍यादा 17 लाख रिटर्न

वित्‍त वर्ष 2016-17 के लिए ऑनलाइन इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करने के मामले में महाराष्‍ट्र सबसे आगे रहा है

1 of
नई दिल्‍ली। वित्‍त वर्ष 2016-17 के लिए ऑनलाइन इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करने के मामले में महाराष्‍ट्र सबसे आगे रहा है। वहीं आबादी के लिहाज से देश का सबसे बड़ा राज्‍य उत्तर प्रदेश ऑनलाइन रिटर्न फाइल करने के मोर्चे पर दूसरे नंबर पर रहा है। वहीं गुजरात और और कर्नाटक ऑनलाइन रिटर्न फाइल करने में  तीसरे और चौथे नंबर पर रहे हैं।
 
 
 
ऑनलाइन रिटर्न भरने वाले शीर्ष चार राज्‍य
राज्‍य
रिटर्न की संख्‍या (लाख) में
महाराष्‍ट्र
54,85,561
 
उत्‍तर प्रदेश
27,44,390
गुजरात
25,98,931
 कनार्टक
21,59,312
  
 
एक दिन में फाइल हुए सबसे ज्‍यादा 17 लाख रिटर्न
 
5 अगस्‍त, 2017 तक के डाटा के मुताबिक एक दिन में सबसे अधिक 17,66,558 रिटर्न ऑनलाइन फाइल हुए हैं। वहीं एक घंटे में सबसे अधिक 1,46,105 रिटर्न फाइल हुए हैं। वहीं इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के डाटा के अनुसार एक मिनट में सबसे अधिक 2,787 रिटर्न फाइल हुए।
 
इनकम टैक्‍स विभाग की साइट से 55 फीसदी लोगों ने फाइल किया रिटर्न
 
ऑनलाइन रिटर्न फाइल करने वालों में से कुल 52.18 फीसदी लोगों ने Income Tax डिपार्टमेंट की ऑफीशियल साइट के जरिए ऑनलाइन रिटर्न फाइल किया है। 31 अगस्‍त तक कुल 3,17,34,906 रिटर्न ऑनलाइन फाइल किए गए हैं।
 
25  फीसदी ज्‍यादा लोगों ने फाइल किया रिटर्न
 
इस बार 5 अगस्‍त तक 2 करोड़ 82 लाख 92 हजार 955 इंडीविजुअल्‍स ने रिटर्न फाइल हुए हैं ज‍बकि वित्‍त वर्ष 2016-17 की समान अवधि में 2 करोड़ 26 लाख 97 हजार 843 रिटर्न फाइल किए गए थे। इस तरह से इस बार रिटर्न फाइल करने वालों की संख्‍या में 24.7 फीसदी का इजाफा हुआ है। वहीं पिछले साल रिटर्न फाइल करने वालों की संख्‍या में 9.9 फीसदी इजाफा हुआ था। 
 
आगे की स्‍लाइड में जानें टैक्‍स नेट में आए कितने टैक्‍सपेयर्स 
टैक्‍स नेट में आए नए टैक्‍सपेयर्स
इस बार रिटर्न फाइल करने वाले इंडीविजुअल्‍स की संख्या में 25.3 फीसदी इजाफा हुआ है। इस कैटेगरी में 5 अगस्‍त तक 2 करोड़ 79 लाख 39 हजार 083 रिटर्न फाइल किए गए हैं जबकि 2016 17 की समान अवधि में 2 करोड़ 22 लाख 92 हजार 864 रिटर्न फाइल किए गए थे। इससे साफ पता चलता है कि नोटबंदी की वजह से बड़े पैमाने पर नए टैक्‍सपेयर्स टैक्‍स नेट में आए हैं।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट