Home » Personal Finance » Income Tax » Updateincome tax department will check all your expenditure from your account

बैंक अकाउंट में नही है विद्ड्रॉअल हिस्ट्री, सरकार पूछेगी ये सवाल

अगर आपके बैंक अकाउंट में विदड्रॉअल हिस्‍ट्री नहीं है तो आप सतर्क हो जाएं।

1 of

नई दिल्‍ली। अगर आपके बैंक अकाउंट में विदड्रॉअल हिस्‍ट्री नहीं है तो आप सतर्क हो जाएं। मोदी सरकार की नजर सभी बैंक अकाउंट पर है। ऐसे में सरकार को शक हो सकता है कि अगर कोई व्‍यक्ति अपने अकाउंट से पैसा नहीं निकाल रहा है तो उसका खर्च कैसे चल रहा है। इसके आधार पर सरकार आपसे पूछ सकती है कि आपका खर्च कैसे चल रहा है और अगर आप कैश पैसा खर्च कर रहे हैं तो इस पैसे का स्रोत क्‍या है। 

 

कैश में की है बड़ी खरीदारी 

सीए अमरजीत चोपड़ा ने moneybhaskar.com को बताया कि आपका जो भी खर्च है उसका मिलान आपके बैंक अकाउंट से किया जाएगा। अगर आपने कैश में बड़ी खरीदारी की है और आपके बैंक अकाउंट में उतने पैसे की विद्ड्रॉअल हिस्‍ट्री नहीं है तो इनकम टैक्‍स विभाग आपको नोटिस देकर पूछ सकता है कि आपके पास कैश कहां से आया ओर आपने यह पैसा डिक्‍लेयर किया है या नहीं। 

 

रेलवे के एसी कोच में करते हैं ट्रेवेल 

 

अगर आप एसी फर्स्‍ट या एसी सेकेंड क्‍लास में ट्रैवेल करते हैं और आप कैश में टिकट खरीदते हैं तब भी इनकम टैक्‍स विभाग आपकी अकाउंट विद्ड्रॉअल हिस्‍ट्री खंगाल सकता है। अगर अकाउंट में विद्ड्रॉअल हिस्‍ट्री नहीं है तो आपको इनकम टैक्‍स विभाग को यह जवाब देना पड़ेगा कि आपके पास कैश पैसा कहां से आया है। 

 

नए बैंक अमाउंट में जमा कराया है ज्‍यादा कैश 

 

अगर आपके नया बैंक अकाउंट खोला है और इस बैंक अकाउंट में 1 लाख रुपए से ज्‍यादा कैश जमा कराया है तब भी इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट आपके पुराने बैंक अकाउंट की हिस्‍ट्री को खंगालेगा। अगर बैंक अकाउंट से विद्ड्रॉअल की हिस्‍ट्री नहीं है तो आपको कैश पैसे के स्रोत के बारे में बताना होगा। 

 

आगे पढें-किसके लिए जरूरी है इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करना 

 

 

2.5 लाख रुपए से अधिक इनकम वालों के लिए रिटर्न भरना है जरूरी

 

इनकम टैक्‍स एक्‍ट के तहत सालाना 2.5 लाख रुपए से अधिक इनकम वालों के लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न भरना जरूरी है। इनकम टैक्‍स विभाग ऐसे लोगों को लगातार ट्रैक कर रहा है जिनको नियमों के तह‍त इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करना चाहिए और वे ऐसा नहीं कर रहे हैं। नोटबंदी के बाद इनकम टैक्‍स विभाग इस मोर्चे पर ज्‍यादा आक्रामक हो गया है। 

 

सभी एक्टिव बैंक अकाउंट डिक्‍लेयर करना भी जरूरी 

अगर आपके नाम 1 से अधिक एक्टिव बैंक अकाउंट है तो नए नियम के तहत आपको इनकम टैक्‍स रिटर्न में सभी एक्टिव बैंक अकाउंट को डिक्‍लेयर करना भी जरूरी है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तब भी आप इनकम टैक्‍स विभाग के शिकंजे में आ सकते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट