Home » Personal Finance » Income Tax » Updateइनकम टैक्‍स से बचने के लिए जरुरी है ये डाक्‍युमेंट - companies will seek investment proof

बचाना है टैक्‍स तो कलेक्‍ट कर ले ये डाक्‍युमेंट, आने वाला है कंपनी का ईमेल

अगर आप नौकरी करते हैं तो आपने कंपनी को यह बताया होगा कि आप टैक्‍स बचाने के लिए कहां निवेश करने वाले हैं। अब वह समय आ गया

1 of

नई दिल्‍ली। अगर आप नौकरी करते हैं तो आपने कंपनी को यह बताया होगा कि आप टैक्‍स बचाने के लिए कहां निवेश करने वाले हैं। अब वह समय आ गया है जब  कंपनी आपसे इस बात का प्रूफ मांगेगी कि आपने कहां पर कितना पैसा निवेश किया है। ऐसे में आपको जल्‍द से जल्‍द अपने ऐसे डाक्‍युमेंट कलेक्‍ट कर लें जो टैक्‍स बचाने के लिए आपका निवेश दिखाते हों। अगर आप कंपनी को समय पर यह डाक्‍युमेंट नहीं दे पाएंगे तो कंपनी आपकी कुल इनकम के आधार पर टैक्‍स डिडक्‍शन एट सार्से यानी टीडीएस काट लेगी। ऐसी स्थिति से बचने के लिए आपको अपने सभी डाक्‍युमेंट समय से कलेक्‍ट कर लेने चाहिए। 

 

 

 

हाउस रेंट स्लिप 

 

अगर आपने डिक्‍लेयरेशन में यह दिखाया है कि आप किराए के घर में रहते हैं आप हर माह एक निश्चित किराया देते हैं तो आपको अप्रैल से अब तक की मंथली हाउस रेंट स्लिप कलेक्‍ट कर लेनी चाहिए। आपको कंपनी को यह हाउस रेंट स्लिप देनी होगी तभी आप किराए के तौर पर अपने मकान मालिक को जो पैसा देते हैं उस पर टैक्‍स छूट क्‍लेम कर पाएंगे। आने वाले समय में कंपनी आपसे  डाक्‍युमेंट मांगेगी। 

 

बीमा प्रीमियम स्लिप 

 

इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्‍शन 80 के तहत जीवन बीमा का प्रीमियम चुकाने पर जो पैसा आप खर्च करते हैं उस पर टैक्‍स छूट मिलती है। अगर आपने जीवन बीमा पॉलिसी ले रखी है तो आपको प्रीमियम के भुगतान की रसीद कलेक्‍ट कर लेनी चाहिए। इसी तरह से हेल्‍थ इन्‍शयोरेंस प्रीमियम पर भी टैक्‍स छूट मिलती है।  टैक्‍स छूट क्‍लेम करने में यह रसीद आपके काम आएगी। अगर आप समय से यह काम कर लेंगे तो आपको आखिरी समय में होने वाली दिक्‍कतों से नहीं जूझना पड़ेगा। 

 

एनपीएस स्लिप 

 

नेशनल पेंशन सिस्‍टम यानी (एनपीएस) में निवेश पर भी टैक्‍स छूट मिलती है। ऐसे में अगर आपका एनपीएस अकाउंट है जो आप एनपीएस अकाउंट का स्‍टेटमेंट कलेक्‍ट कर लें। यह स्‍टेटमेंट आपको अपनी कंपनी को देना होगा। 


पीपीएफ 

अगर आपने पब्लिक प्रॉविडेंट फंड अकाउंट यानी पीपीएफ अकाउंट खुलवाया है। तो आपको इसमें जमा होने वाले पैसे के प्रूफ के तौर पर स्‍टेटमेंट निकलवाना होगा। अगर आप बैंकों में पीपीएफ अकाउंट खुलवाया है तो आप पीपीएफ स्‍टेटमेंट ऑनलाइन निकाल सकते हैं। वहीं अगर आपका पीपीएफ अकाउंट पोस्‍ट ऑफिस में है तो आपको पासबुक की फोटोकॉपी प्रूफ के तौर पर देनी होगी। 

 

सुकन्‍या समृदि्ध स्‍कीम 

 

सुकन्‍या समृदि्ध स्‍कीम के तहत जमा पैसे पर भी टैक्‍स छूट मिलती है। ऐसे में आपने अपनी बेटी के नाम पर सुकन्‍या समृदि्ध स्‍कीम के तहत अकाउंट खुलवाया है तो आप को अकाउंट स्‍टेटमेंट तैयार कर लेना चाहिए। अगर आपका अकाउंट पोस्‍ट ऑफिस में है तो आपको पासबुक की फोटोकॉपी तैयार रखनी चाहिए। 

 

ट्यूशन फीस रेसिप्‍ट 

 

आप अपने बच्चों की स्कूल फीस का रिसिप्ट जमा कर टैक्स में छूट पा सकते हैं।  कोई भी इंडीविजुअल टैक्‍सपेयर अपने बच्‍चों की ट्यूशन फीस पर टैक्‍स छूट ले सकता है। इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्‍शन 80 सी के तहत यह छूट मिलती है। इसके तहत एक साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपए ट्यूशन फीस पर टैक्‍स छूट क्‍लेम की जा सकती है। इसके अलावा नियम के तहत एक व्‍यक्ति अधिकतम दो बच्‍चों के ट्यूशन फीस पर ही टैक्‍स छूट क्‍लेम कर सकता है। 

 

 

80 सी के तहत अधिकतम 1.5 लाख रुपए पर ले सकते हैं टैक्‍स छूट 

 

इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्‍शन 80 सी के तहत आप जीवन बीमा प्रीमियम , हेल्‍थ इन्‍श्‍योरेंस प्रीमियम के अलावा  पीपीएफ, एनपीएस और सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम में निवेश कर टैक्‍स छूट हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा 80 सी के तहत आप अपने बच्‍चों की ट्यूशन फीस पर भी टैक्‍स छूट क्‍लेम कर सकते हैं। अहम बात यह है कि आप 80 सी में अधिकतम 1.5 लाख रुपए तक पर ही टैक्‍स छूट हासिल कर सकते हैं। 

 

 

 

आगे पढें और कौन से डाक्‍युमेंट हैं जरूरी 

 

होम लोन का सर्टिफिकेट

अगर आपने घर खरीदने के लिए होम लोन लिया है, तो आप होम लोन का इंटरेस्ट सर्टिफिकेट ऑनलाइन या बैंक से प्राप्त कर सकता हैं। होम लोन सर्टिफिकेट के द्वारा आप टैक्स बचा सकते हैं।

 

ट्यूशन फीस रेसिप्‍ट 

आप अपने बच्चों की स्कूल फीस का रिसिप्ट जमा कर टैक्स में छूट पा सकते हैं। ये छूट सिर्फ दो बच्चों पर मिलेगी। 

कोई भी इंडीविजुअल टैक्‍सपेयर अपने बच्‍चों की ट्यूशन फीस पर टैक्‍स छूट ले सकता है। इनकम टैक्‍स एक्‍ट के सेक्‍शन 80 सी के तहत यह छूट मिलती है। इसके तहत एक साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपए ट्यूशन फीस पर टैक्‍स छूट क्‍लेम की जा सकती है। इसके अलावा नियम के तहत एक व्‍यक्ति अधिकतम दो बच्‍चों के ट्यूशन फीस पर ही टैक्‍स छूट क्‍लेम कर सकता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट